विधवा चाची की चूत चुदाई

मेरे सारे प्यारे दोस्तो को मेरा और मेरे खड़े लंड का नमस्कार. मुझे उमीद है आप सब के लंड दिन रात चुत को चोद रहे होंगे. और सभी प्यारी चुते बड़े बड़े लंड बड़े आराम से अपनी चूत की गहराइयो मे लेती होंगी.

मैं आप सब का प्यारा साहिल आज फिर एक बार आप सब के लिए एक जबरदस्त कहानी ले कर आया हूँ. ये घटना ज़्यादा पुरानी नही है, ये सब अभी पिछले महीने ही हुई है. जब मैं घर पर कुछ दीनो के लिए फ्री था.

दरअसल मेरी एक चाची है, जो मेरे घर के पास ही रहती है. वैसे तो मैं जवान ही उसकी जवानी देख कर हुआ हूँ. बचपन से ही उसकी चुत मे लंड डॉल कर ज़ोर ज़ोर से चोदने के बारे मे सोच कर ही लंड को 2 इंच से 7 इंच कर दिया है.

हा दोस्तो ये सच है, की मैं अपनी चाची के बारे मे सोच कर ही मूठ मारता हुआ बड़ा हुआ हूँ. मेरी चाची एक बहुत मस्त आइटम है,जब चाची की दूसरी लड़की हुई तो उससे कुछ सालो बाद मेरे चाचा की मृत्यु हो गई.

अब चाची बिल्कुल अकेली हो गई थी, मुझे ये उमीद ज़रा भी नही थी. चाची सिर्फ़ 28 साल की जवान उम्र मे ही विधवा हो गई. उनकी अब दो लड़किया थी. जिन्हे अब उन्हे ही पालना था.

वो तो भगवान का शूकर था की चाचा जी रेलवेस लगे हुए थे. इसलिए चाची जी को उनकी पूरी सॅलरी मिलने लग गई. जिससे उन्हे पैसो की कमी नही हुई. उन्होने अपनी दोनो लड़कियो को काफ़ी अच्छे से पाला जब वो उन्होने 10त की स्टडी कर ली थी. तो चाची ने उन्हे एक हॉस्टिल मे डॉल दिया, क्योकि हमारे यहाँ का माहोल ज़्यादा ठीक न्ही है लड़कियो के लिए. अब चाची घर मे अकेली रहती थी.

यह कहानी भी पड़े  पड़ोसन मा बेटी की चुदाई

अब मैं भी जवान हो गया था. दोस्तो अब मैं आपको अपनी चाची के बारे मे आपको अच्छे से बताता हूँ. मेरी चाची की उम्र आज की डेट मे 40 साल हो गई है. पर आप मेरा शायद यकीन ना करें. आज की डेट मे चाची ने अपने आपको ऐसा बनाया हुआ है, की उन्हे देख कर ऐसा लगता है. की मानो आज भी उनकी उम्र 28 साल ही हो. उनका फिगर इतना ज़्यादा मस्त है, की किसी का भी लंड बड़ी आसानी से उन्हे देखते ही खड़ा हो जाए.

उनका फिगर 43-38-46 है, उनके इतने मोटे मोटे बूब्स थे की कोई भी अपना सिर उनके बूब्स मे आसानी से छुपा सकता था. मैं उनकी गांद का दीवाना था, ना जाने क्यो मेरा मन उनकी गांद को चाटने का बहुत होता था. पर मैने तो अभी तक चाची को टच तक न्ही किया था. पर जब चाची को पता चला की मैं करीब एक महीने के लिए घर पर फ्री हूँ. तो उन्होने मुझे रोज़ अपने घर किसी ना किसी बहाने से बुलाना शुरू कर दिया.

मैं भी उनके घर जा कर खुश रहता था. क्योकि इसी बहाने मैं भी चाची के मस्त जिस्म के नज़ारे लेता रहता था. उन दीनो गर्मिया चल रही थी. एक दिन मैं अपने घर पर बैठा था. तभी मेरे पास चाची का फोन आया उन्होने मुझे अपने घर जल्दी से जल्दी बुलाया.

मैं डर गया मैं सोच रहा था, की ना जाने चाची ने मुझे क्यो बुला लिया है. शायद कोई बात हो गई है, मैं जब घर गया तो उनके घर ए.सी लगाने के लिए दो आदमी आए हुए थे.

यह कहानी भी पड़े  मा को नया लॅंड मिला

चाची ने मुझ से पूछा की ए.सी कहा और केसे लगाना चाहिए. उस दिन मैने चाची से काफ़ी डबल मीनिंग बातें करी. चाची मेरी बातो का मतलब बहुत अच्छे से समझ रही थी.

उस दिन के बाद मैं कुछ दिन चाची के घर न्ही गया. फिर एक दिन उनका फोन आया, उन्होने कहा की उनको ए.सी के कुछ फंक्षन उन्हे समझ न्ही आ रहे है. इसलिए मैं उन्हे आकर अच्छे से समझा दु.

मैं कुछ ही देर मे चाची के घर चला गया. जब मैने चाची को देखा तो मैं चाची को देखता ही रह गया. क्योकि चाची ने येल्लो कलर की बहुत सेक्सी साड़ी डाली हुई थी. एक तो वो इतनी गोरी थी, और उपर से उन्होने आज येल्लो साड़ी डॉल ली थी.

जिस वजह से वो बॉम्‍ब लग रही थी. मेरा लंड उन्हे देखते ही खड़ा हो गया. जब मैं गया तो वो फोन पर किसी से बात कर रही थी. तभी उनका फोन नीचे गिर गया, वो जेसे ही अपना फोन उठाने के लिए नीचे झुकी.

तभी उनका पल्लू नीचे गिर गया, और मेरे सामने उनके गोरे नंगे बूब्स आ गये. जिन्हे देख कर मैं पागल हो गया, मेरा मूह खुला का खुला रह गया. उनके बूब्स मुझे करीब करीब पूरे ही दिख गये थे.

चाची ने जब मुझे देखा तो वो मुझ पर आँखें निकालने लग गई. फिर मैं उनके सोफे पर जा कर बैठ गया. थोड़ी देर बाद चाची मेरे पास आई और आते ही बोली.

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2

error: Content is protected !!