विदेशी महिला मित्र के साथ सेक्स सम्बन्ध

मैंने उसके गले पर काटना शुरू किया … इससे वो और ज्यादा उत्तेजित हो गई. वो मेरे लंड को अपने गले के अन्दर तक ले जाने लगी.

हम दोनों ने 69 की पोजीशन ले ली. मैं उसकी पैंटी साइड में करके उसकी चुत चाटना चाहता था, परन्तु उसकी चूत पर बड़ी बड़ी सुनहरी झांटें उगी थीं, जिस वजह से मैं ठीक से चूत नहीं चाट पाया और वापिस उसके चुचे चूसने लगा.

उसने मुझसे कहा- प्लीज़ अब मुझसे और नहीं रहा जाता … मुझे अब पेल दो … मेरी चूत में चींटियां रेंग रही हैं. दूसरी बार में ये सब मजा कर लेना.

ये सुनते ही मैंने उसे अपने नीचे लेटाया और उसकी चूत में लंड घुसाने का रास्ता ढूंढने लगा. उसने अपने हाथ से मेरे लंड को पकड़ा और लंड को अपनी चूत के छेद से लगाते हुए मुझे हेल्प की. मेरे लंड का सुपारा उसकी गीली चूत में फंस गया.

उसने भी हाथ हटाते हुए मुझे चूमा और कान में बोली- अब पूरा पेल दो … फक मी.
मैंने लंड डाल दिया. मेरे जोरदार 3 झटकों के बाद पूरा लंड उसकी चूत में चला गया. वो लंड लीलते हुए एक बार कराही … फिर मजा लेने लगी. मैं भी उसकी चूत में झटके मारने लगा.

मैंने उसे चोदते हुए कहा- वेरोनिका डार्लिंग … ये चुदाई की इंडियन स्टाइल है.
वो मुस्कुराई और मुझे किस करने लगी.

पांच मिनट के बाद हम दोनों ने पोजीशन बदल ली. अब मैं नीचे लेट गया और वेरोनिका मेरे ऊपर आ गई. उसने अपने हाथ से पकड़ कर मेरे लंड और अपनी चूत में ले लिया और ऊपर बैठ कर कूदने लगी.
मैं कभी उसके चूचे दबा देता और कभी उसके निप्पलों को पीने लगता.

यह कहानी भी पड़े  जवान बहू ससुर से चुद गई

उसके चूतड़ों पर थप्पड़ मारता हुआ मैं उसकी चूत में नीचे से ठोकर देने लगा. कभी मैं उसकी कमर पकड़ कर खुद उछल उछल कर लंड अन्दर बाहर करने लगता.

करीब 15 मिनट की धकापेल चुदाई के बाद मैं झड़ने वाला था.

मैंने वेरोनिका से कहा- प्लीज जल्दी बोलो … रस किधर लोगी.
उसने मुझसे भींचते हुए जवाब दिया- मैं तुमको महसूस करना चाहती हूँ … प्लीज मेरे अन्दर ही रस छोड़ दो. मैं एक भारतीय के बच्चे की माँ बनना चाहती हूँ.

ऐसा सुनते ही मुझे उस पर प्यार आ गया और मैंने उसे चूमते हुए तेज तेज धक्कों से चोदना चालू कर दिया. फिर अपने उत्तेजित लंड की पिचकारी उसकी चूत के अन्दर ही छोड़ दी. उसने भी मुझे जोरों से जकड़ लिया. हम दोनों ऐसे ही लिपट कर लेट गए.

वो थोड़ी देर बाद उठी और वाशरूम गई. दस मिनट बाद वो बाहर आई और मेरे साथ ही लेट गई.

हम दोनों अपने भूतकाल के बारे में बात करने लगे. उसने मेरी गर्ल फ्रेंड के बारे में पूछा, तो मैंने अपने 6 साल के रिलेशन के बारे में उसे बताया.

मैं बात करते करते रोने सा लगा, तो उसने मुझे गले से लगाया और मेरा लंड फिर से पकड़ लिया.
हम दोनों गर्म होने लगे.
वो बोली- बेबी, अब इस बार तुम मेरी चूत को कैसे भी चाट सकते हो.

मैं अपने घुटनों पर बैठ गया और वो मेरे आगे खड़ी हो गई. मैंने अपने दांतों से उसकी पेंटी उतारी, तो हैरान हो गया. वो वाशरूम से चूत के बाल शेव करके आई थी.

मैंने उसे देखा तो वो मुस्कुराई और बोली- मुझे समझ आ गया था कि तुम मेरी घुंघराली झांटों की वजह से मेरी चूत नहीं चाट सके थे. अब मैदान साफ़ है … तुम मजा ले भी सकते हो और मुझे दे भी सकते हो.

यह कहानी भी पड़े  इंतेजार चुदाई का

मैंने उसे थैंक्स कहा और एक भूखे कुत्ते के तरह उसके बदन को चाटने लगा. मैं धीरे धीरे उसके मम्मों को चूसता हुआ उसकी नाभि पर आया और फिर मेरा ध्यान उसकी चूत चाटने पर केन्द्रित हो गया. मैंने अपनी जीभ नुकीली करके उसकी चूत के मुकुट को छेड़ा, तो वो गनगना उठी और उसने अपनी टांगें पूरी तरह से खोल दीं.

मैं उसकी चूत को ऊपर से नीचे तक चाटने लगा. मैंने एक बार तो उसकी एक फांक को काट भी लिया था, जिससे वो उछल पड़ी थी. मैं कभी अपनी पूरी जीभ उसकी चूत के अन्दर डाल देता, तो कभी उंगली.

मैंने उसकी चूत में अपनी 3 उंगलियों को एक साथ डाल दिया, जिससे वो चिल्ला उठी. वो फिर से गर्म गई थी और चुदने को मचलने लगी थी. मैंने उसे अब कुतिया बनने को कहा. वो बेड पे अपनी गांड ऊपर करके लेट गई. मैंने थोड़ा बॉडी लोशन उसकी गांड और थोड़ा उनकी चूत पर लगाया. कुछ ज्यादा सा मैंने अपने लंड पर भी लगा लिया.

इसके बाद मैं उसको चोदने की मुद्रा में उसके पीछे आ गया. लंड को चूत के छेद में लगा कर मैंने दो ही झटकों में पूरा लंड उसकी चूत में अन्दर तक पेल दिया. बस अगले कुछ ही पलों में पूरे कमरे में चुदाई की पछ पच … की आवाजें गूंजने लगीं.

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!