विदेशी लड़की की रफ़ चुदाई

तभी वो एकदम से हटी और उसने मेरी शर्ट खोल दी. मैंने भी देर न करते हुए उसकी टी-शर्ट निकाल फेंकी.

आह … उसका वो रंगीन नज़ारा … गोरे बदन पर लाल ब्रा … मेरा नशा फट गया. उसके मम्मे मेरे लंड को कठोरतम बनाए दे रहे थे.

मैंने अभी एक लोअर पहना था, जिससे मेरा लंड का जोश साफ़ दिख रहा था. अब वो सोफे से उठ कर बिस्तर पर जाकर लेट गयी और मैं उसके पीछे पीछे जाकर उसके ऊपर चढ़ गया.

मैं उसके गले को चूमने लगा. वो ‘आआह्ह आह्ह्ह्ह यस्सस गो ऑन डियर..’ की आवाज़ निकलने लगी.
मैंने बड़ी शिद्दत से उसकी पूरी गर्दन को अपने होंठों से रगड़ते हुए चूमा. फिर अपने दांतों से ही उसके कंधे से उसकी ब्रा की स्ट्रिप नीचे कर दी. लेकिन वो शायद मुझसे ज्यादा जल्दी में थी.

उसने खुद अपने हाथों से अपनी ब्रा खींच कर निकाली और दूर फेंक दी. अगले ही पल उसने मेरा सर एक निप्पल से लगा दिया. मैं भी उसके इस गुलाबी निप्पल को किसी छोटे बच्चे की तरह चूसने लगा.
वो ‘आह … और ज़ोर से चूसो..’ कहते हुए अपने मुँह से कामुक आवाज़ निकालने लगी.
मैं उसका एक निप्पल चूस रहा था और मेरा दूसरा हाथ उसके दूसरे दूध को दबोचे हुए था.

इतनी देर में उसका हाथ मेरे लोअर पर आ गया था और वो मेरे लोअर के ऊपर से ही लंड को पकड़ कर भंभोड़ रही थी.

फिर मैंने उसके निप्पल चूसते चूसते उसके पिंक लोअर के ऊपर से उसकी चूत को छेड़ना शुरू कर दिया. मैंने सीधा निशाना उसके दाने यानि क्लिट पर साधा. मैं उसकी चुत की मणि को धीरे धीरे ऊपर से सहलाने लगा. चुत ने रस छोड़ना शुरू कर दिया था. उसकी चुत का गीलापन उसके लोअर के बाहर से ही समझ आ रहा था. मेरा लंड भी प्रीकम छोड़ने लगा था. जब दो काम के प्यासे मिलते हैं, तो शायद यही होता है.

यह कहानी भी पड़े  मॉल में मिली लड़की की चूत और गांड चुदाई

अब मैंने देर नहीं की और उसके ऊपर से हट कर लोअर को नीचे सरका दिया और साथ में उसकी पैंटी को भी चुत से हटा दिया.

पेंटी हटी तो इजरायली चुत की कामुक छटा मेरे सामने बिखरी पड़ी थी. हाय क्या मस्त गोरी फूली हुई चूत थी … एकदम सफाचट, बिना झांटों की बुर … मोती से चमकती बूंदों से लिपटी हुई रो रही थी.

मैं उसी वक्त पिघल गया.

मैंने उसकी चुत और दूध निहारते हुए अपने सारे कपड़े उतार दिए और उसके बगल में आकर लेट गया. वो मुझसे लिपट गई. मैंने उसकी गीली क्लिट पर अपना हाथ रखा और उसने मेरे लंड पर हाथ जमा दिया.

महिला पाठक अगर पढ़ रही हैं … तो उन्हें पता होगा कि चुत की गीली क्लिट को छेड़ने में कितना मज़ा मिलता है.

मैंने पक्के हरामी की तरह उसकी चुत की क्लिट को छेड़ना शुरू कर दिया और उस पर उंगली घुमाना शुरू कर दिया. ‘आआहह … आह्ह्ह … आअहह … यस बेबी … रब इट … आआअह..’

मेरा माल यानि बिस्तर पर पड़ी नंगी विदेशन लंड लंड चिल्लाने लगी थी. मेरा लंड उसके हाथ में था और उसको छेड़ने का पूरा असर वो मेरे लंड पर दिखा रही रही थी. मेरे गीले लंड को वो जोर जोर से हिला रही थी.

हम दोनों इतने गीले हो चुके थे कि दोनों के अंगों से फच्च फच्च की आवाज़ आने लगी. जैसे ही उसकी चूत अपनी हद से ज्यादा गीली हुई, मैं तुरंत नीचे आ गया और उसकी पूरी चूत को अपनी जीभ से चाटने लगा. चुत पर अपने मुँह का ढक्कन लगाते हुए मैं उसकी चूत की दीवारों को अपने होंठों से चूसने लगा और फिर ज़ुबान को उसके क्लिट पर रख कर चाटने लगा.

यह कहानी भी पड़े  किरायेदार आंटी की चुदाई

वो अब बेहद पागल हो चुकी थी. उसने दोनों हाथों से तकिये को दबा रखा था और मुँह में चादर फंसा कर ‘उम्मह उम्मम्मम..’ की आवाज़ निकल रही थी.

मैंने चुत भंभोड़ते हुए एक पल के लिए अपना सर ऊपर उठाया और उसे मौक़ा मिल गया. उसने मुझे धक्का दे दिया और मेरे नीचे से निकल कर मुझे नीचे लेटा दिया. वो 69 की स्थिति बनाते हुए मेरे ऊपर आकर अपनी चूत मेरे मुँह पर रख दी … और लंड खुद के मुँह में भर लिया.

उसने पहली बार में ही मेरे लंड को अपने हलक तक ले लिया, जिससे पूरा लंड फिर से गीला हो गया.

आह … लंड ने उसके मुँह की गर्मी क्या पाई, मेरी एक चीख निकल गई.

अब हम दोनों एक दूसरे की हवस मिटाने में लग गए. दोनों के मुँह से ‘उम्मम उम्मम्मह..’ की आवाजें निकलने लगी थीं. हम दोनों ही चुदाई के जोश के मारे पागल थे … और थक गए थे … लेकिन रुकना नहीं चाहते थे.

मैंने उससे बोला- थोड़ा रफ़ हो जाए?
वो मान गयी. उसने अपने बैग की तरफ इशारा करते हुए कहा- उसमें सब सामान है.

मैंने उसके बैग से दो टाई निकालीं और उसके दोनों हाथ बांध दिए. उसके बैग से वाइब्रेटर निकाल कर उसे फुल स्पीड पर ऑन करके उसकी क्लिट पर रगड़ने लगा.

Pages: 1 2 3 4 5

error: Content is protected !!