सासु को ससुराल में चोदा

तब बिस्तर तरफ लाइट दिखाया तो मंजू चाची के ऊपर भी हलकी से लाइट गई तो देखा की मंजू चाची बाजार से जो गाउन लाई है वही पहन रखी है ! बिस्तर लगा गया तो मैं बिस्तर में लेट गया और सासू माँ भी मंजू चाची के रूम में मंजू चाची के पास ही दूसरे बेड पर लेट गई ! मंजू ने लालटेन जला दिया तो कमरे में हल्का सा उजाला हो गया ! पर मेरे दिल में अन्धेरा छा गया क्योकि मैं मन ही मन प्लान फेल होने से दुखी हुआ और अपनी किस्मत पर पहले इतरा रहा था मौसम के कारण ओ अब चिढ में बदल गया !

मैं बिस्तर में लेटते ही नकली खर्राटे लेने लगा ! करीब 25 मिनट बाद में ससुर जी ने सासू जी को आवाज दिया तो सासू माँ नीचे चली गई पर मैं अभी भी नकली खर्राटे ले रहा था, करीब 15 मिनट बाद मुझे ऐसा लगा जैसे कोई मेरे कंधे को सहला रहा है मैं समझ गया मंजू चाची अपनी चूत की खुजली मिटाने के लिया मुझे जगा रही है फिर भी मैं सोने की नौटंकी किये जा रहा था इतने में मंजू चाची मेरे गाल पर किस किया और कान में धीरे से बोली ”सो गए क्या” तब मैं नींद नाटक करते हुए बोला ”कौन है” तब मंजू चाची मेरे मुँह पर अपना हाथ रखते हुए धीरे से बोली ” मैं हूँ अंजू” तो मैं मंजू चाची का हाथ पकड़ा और बिस्तर में बिठा लिया

और फिर कंधे पर हाथ रखकर झुकाया और किस कर लिया और फिर चूचियों को टटोलने लगा तो लगा बिना ब्रा के ही गाउन पहनी हुई है बड़ी बड़ी टाइट चूचियाँ लटक रही थी मैं गाउन के ऊपर से ही चूचियों को खिलाने लगा और होठो को चूसने लगा इतने में अचानक तेज तेज हवा चलने लगी और जोर जोर पानी गिरने लगा तो मंजू चाची जल्दी से उठी और सीढ़ी की तरफ भागी और सीढ़ी दरवाजा लगा जल्दी से वापस आ गई तो मैंने पूछा कहाँ गई थी तो बोली ”सीढ़ी का दरवाजा बंद करने गई थी” तो मैंने पूछा क्यों बंद किया तो बोली ”पानी अंदर जाता हवा के साथ और दालान में पानी भर जाता” तब मैंने मंजू चाची का हाथ पकड़ा और अपनी चारपाई में बिठा लिया और चूची पर हाथ घुमाया तो लगा की ये तो गीली हो गई है !

यह कहानी भी पड़े  नाजायज़ सेक्स संबंध

तब मंजू को बोला ”आप तो गीली हो गई है कपडे बदल लीजिये” तो कुछ नहीं बोली तो मैंने फिर से उनके ऊपर हाथ घुमाने लगा तो मेरे हाथ को पकड़ कर चूमने लगी तब मैंने उन्हें अपनी तरफ खीच कर चारपाई में लिटा लिया और उनके ऊपर चढ़ गया और किस करते हुए चूचियों को दबाने लगा ! कुछ ही मिनट में मैंने गाउन की चेन को खोल दिया और चूची को चाटने लगा की इतने में मंजू का फोन बजने लगा तो दौड़ कर कमरे में गई और बात करके वापस आई तो मैंने पूछा ”किसका फोन था” तो बोली ”जीजी का था,पूछ रही थी दामाद जी की चारपाई गीली तो नहीं हो रही तो मैंने कह दिया नहीं” और इतना कहा कर वापस जाने लगी तो मैंने पूछा ”अब कहाँ जा रही हैं” तो

बोली ”कपडे बदल लूँ” तो मैं कहा ”’ओके” और धीरे से चारपाई से उठा और खड़ा हो गया जैसे ही मंजू ने गाउन को उतारा तो लालटेन के उजाले में उनका मस्त गदराया हुआ सेक्सी वदन दिखा तो मैं जाकर पीछे से लिपट गया,लिपटे लिपटे ही अपना लोवर और चढ्ढी उतार कर नंगा हो गया और मंजू की चूचियों को दबाने लगा और मंजू को अपनी तरफ घुमा लिया और खड़े खड़े ही मंजू की चूची को चूसने लगी और एक हाथ को दोनों जांघो के बीच में डालने लगा पर जांघे आपस में सटी हुई थी तो मंजू को बिस्तर में बैठा दिया और दोनों टांगो को फैला कर चूत को चाटने लगा मुस्किल से एक मिनट ही चूत चाटा होगा की मंजू चाची गरम आग पड़ गई और अपने चूतडो को बिस्तर में मेरे मुँह की तरफ बार बार टकराने लगी मंजू की चूत मेरे नाक तक से टकरा रही थी मैं समझ गया मंजू बहुत दिन से नहीं चुदाया है

यह कहानी भी पड़े  भाई और उसके दोस्त से मेरी चूत गांड चुदी

इस लिए इतनी जल्दी पागल हो गई चुदाने के लिए तब मंजू को लिटा दिया और फटाक से चढ़ कर लण्ड पेल दिया पानी के बौछार छत पर और मेरे लण्ड की बौछार मंजू की चूत पर मारने लगा मुस्किल में 25-30 झटके ही मारा होगा की मंजू ने मुझे जोर से चिपकाकर ढीली पड़ गई मैं समझ गया मंजू झर चुकी है पर मैं अंतिम पड़ाव इसलिए लगातार झटके मारता रहा और 30-40 झटकों में ही लण्ड से ढेर सारा वीर्य मंजू की चूत में उड़ेल दिया और जोर से चिपका लिया तो मंजू मुझे अपने ऊपर से हटा कर जल्दी से उठी और उठकर बैठ गई तो मैंने धीरे से पूछा ”क्या हुआ” तो बोली ”अभी 4-5 दिन पहले ही सिर धोई हूँ कही गड़बड़ न हो जाए” (सिर धोया मतलब माहवारी से फ्री हुई) तब मैं फुसफुसाते हुए बोला ”कंडोम तो लोवर की जेब था पर जल्दी जल्दी भूल गया” तो मेरी तरफ देखि

Pages: 1 2 3 4 5

error: Content is protected !!