साली का भीगा बदन

मैंने अचानक धारा के मुँह में काफी गहराई में लण्‍ड पेल दिया तब धारा ने मेरा लण्‍ड मुँह के बाहर फेंक दिया। इसके बाद धारा ने मेरा मुठ मार कर दुबारा मेरा पानी बाहर निकाला। नहाने बाद हम दोनों ने कपड़े पहने।

धारा किचन से दो कप काफी बना कर लायी। हम दोनों ने साथ चाय पी। बाहर बारिश थम चुकी थी। धारा ने मुझसे फिर मिलने का वायदा करके विदा ली।

उस रोज की बरसात के बाद से और भी कई बार मैंने अपनी धारा के प्‍यासे बदन का लुत्‍फ उठाया वह सब बाद में।
आप सबको कैसी लगी मेरी साली सेक्स की कहानी?

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!