सगी काकी सा ( आंटी ) को चोदा

मुस्किल से 2 मिनट तक ऐसा के बाद मुझे जोर जोर से चूमने लगी और बड़बड़ाते हुए कहने लगी ”अब और मत तड़पा” तब मैंने चाची को नीचे करके चाची को पीठ के बल लिटा दिया और दोनों टांगो को फैला कर अपने दोनों हाथ चाची के सर पास रख कर पूरी ताकत से झटके मारने लगा तो चाची के मुह से उउउउ आअह्ह्ह आअह्ह्ह आउच आउच आआस्स्सा आआ आए आससासा आ आहहह आआह्ह्ह्ह उउउउउ ऊऊऊ आआह्ह्ह आह आउच आउच सीईईईईईईइ आआआह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह उउउउ की जोर जोर से आवाज करने लगी तो मैं चाची को तड़पाने के लिए चुदाई की स्पीड कम कर दिया तो चाची कराहते हुए बोली ”और जल्दी जल्दी कर न जान लेगा क्या ” तब मैंने चुदाई की स्पीड बढ़ा दिया और फिर मुस्किल से 5 मिनट तक लण्ड के झटके खाने बाद चाची ने लार बहाते हुए मुह फाड़ दिया और जोर से मुझे चिपका लिया ! इतनी जोर से चिपकई की मेरे से झटके मारते नहीं बन रहा था फिर भी मैं पूरी ताकत लगाकर लण्ड के ठोकर मारता रहा और फिर मेरे लण्ड से वीर्य की नदी बह निकली और ढेर सारा वीर्य चाची की चूत में उड़ेल दिया और चाची से छिपकर ऊपर लेट गया ! चाची बड़े प्यार से मुझे किस करते हुए कभी सर पर तो कभी पीठ पर हाथ घुमाने लगी और मैं बड़े प्यार चाची को चूमता रहा

फिर कुछ देर बाद चाची बोली ”उठो बाथरूम जाना है” तब मैं चाची की चूचियों की चूमते हुए उठने लगा तो लण्ड बाहर आया तो ढेर सारा वीर्य चाची की चूत से निकला और बिस्तर में चादर के ऊपर फ़ैल गया तो चाची बोली ”कितने दिन से भरे हुए बैठा था ” तो मैंने हँसते हुए बोला ”आज पहली निकला है” तो चाची कुछ नहीं बोली और उठकर चल दिया तो उनकी जांघो बहने लगा तो चाची ने पेटीकोट उठाया और उससे पोछते हुए नंगी ही बाथरूम में चली गई तो मैं भी उठा और चढ्ढि-बनियान -लोवर पहना और बाथरूम के पास खड़ा हो गया तो चाची नंगी ही निकली तो मैंने सरारात करते हुए चूचियों को दबा दिया तो बोली ” चल आ जा बिस्तर में तेरा मन नहीं भरा हो तो” तब मैंने चाची को चूमते हुए बोला ”आपसे मन कभी नहीं भरायेगा” तो हसने लगी और चली गई और मैं बाथरूम में घुस गया और फिर बाहर निकला और चाची के पास जाकर फिर से लेट गया तो देखा की चाची अभी भी एकदम से नंगी लेटी हुई थी एक चद्दर ओढ़कर ! मैं भी चाची के चद्दर के अंदर हो गया और चाची की चूचियों पर हाथ रखकर बाते करने लगा !

यह कहानी भी पड़े  माँ की तड़पती जवानी – 2

बात बात में पता चला की चाचा की सेक्सुअल छमता करीब 3 साल से कम हो गई है महीने में एकात बार बड़ी मुस्किल से चुदाई करते है उसमे भी चाची को संतुष्ट नहीं कर पाते है ! करीब 2 घंटे तक बाते करते करते चाची फिर से चुदाने के लिए तैयार हो गई ! चाची की चूचियों की निप्पल फिर से टाइट पड़ गई तो मैं इस बार चाची को घुटनों के बल घोड़ी की तरह खड़ा कर दिया और चूत को चाटने लगा और फिर लण्ड पेलते हुए लगातार 15 मिनट तक चोदा और दोनों एक साथ स्खलित हो गए ! मई 2014 से तो लगातार किसी न किसी काम के बहाने इंदौर जाता और जब भी मौका लगता चाची चोदता ! अभी फरवरी 2015 में अपनी कंपनी की इंदौर हेड ऑफिस में ट्रांसफर करवा लिया और चाचा-चाची के साथ ही रहने लगा ! और मौका मिलते ही चाची की चूत चोदता हूँ !

Pages: 1 2 3 4

error: Content is protected !!