प्यासी भाभी को रफ सेक्स की चाहत

सुकन्या रानी भी पूरी मस्ती में चीख चीख कर लण्ड का रसास्वादन अपनी चूत में कर रही थी. क्योंकि सुकन्या रानी के हाथ पाँव बेड से बंधे हुए थे इसलिए सुकन्या बस अपनी कमर को उचका उचका कर मेरा साथ दे पा रही थी.
कुछ देर में वो उत्तेजना में न जाने क्या क्या बड़बड़ाने लगी- चोद दे मेरी भोसड़ी को … जोर जोर से फाड़ दे मेरी चूत को!
और मेरी स्पीड उसके कहे अनुसार बढ़ती चली गयी.

थोड़ी देर में वो झटके देने लगी और आआअ ह्ह्ह्हम्म अअह आअह की आवाज़ के साथ वो छुट गयी. जब उसका माल छुट रहा था तो उसके हालत देखने लायक थी. बिल्कुल एक बलखाती हुई नागिन की तरह बल खा खा कर उसकी चूत से माल बह निकला.
लेकिन उसके बल खाने से मेरे लण्ड के ऊपर कोई असर नहीं था, उसके माल से गीली हुई चूत पर मेरा लण्ड सटासट वार किये जा रहा था.

क्योंकि सुकन्या का काम रस अभी अभी निकला था इसलिए वो थोड़ा ढीली हो रही थी लेकिन मैं अब रुकने वाला नहीं था बल्कि और हचक हचक कर चोदने लगा.
नीचे से वो चिल्लाने लगी- हरामी आराम से कर, मैं मर जाऊँगी.
अब मेरा भी निकलने को हो रहा था तो मैंने और भी स्पीड से चोदना चालू कर दिया और जब मेरा वीर्य निकलने को हुआ तो मैंने लण्ड को उसकी चूत से निकाल लिया और अपने हाथों में लेकर चरमसुख की प्राप्ति की आवाज़ आअह्हह्ह आआह्हा के साथ पूरा वीर्य उसके नंगे बदन पर फैला दिया.

यह कहानी भी पड़े  बारिश और खूबसूरत चाची के साथ मस्ती

हम दोनों ही तृप्त हो चुके थे.

“अब तो खोल दो मेरे हाथ पैर!” सुकन्या रानी मुस्कुराती हुई बोल पड़ी.
मैंने उसे उसी की साड़ी के बंधन से मुक्त कर दिया.

मुझे बहुत जोरों की मुतास लगी थी इसलिए बाथरूम में घुस कर मूतने लगा. पीछे से वो साली भी घुस आयी और घुटनों के बल बैठते हुए मेरे लण्ड को पकड़ लिया.
मैं अब भी मूत रहा था… वह मेरे लण्ड को पकड़कर अपने चेहरे को पेशाब से भिगोने लगी. मुझे इसकी आशा बिल्कुल भी नहीं थी कि सुकन्या जैसी लेडी को भी इतना डर्टी होना अच्छा लग रहा था. मैं भी मज़े से उसके चेहरे पर मूतता रहा.
जब मैंने पेशाब करना बंद कर दिया तो साली खड़ी हो गयी और मुझे बैठने को बोली. मैं भी उसकी इच्छा समझ चुका था. उसकी चूत की ओर मुंह करके बैठा ही था कि उसकी चूत के मूत्र छिद्र से पेशाब की गरम धार छूट पड़ी.

मैं भी पहली बार किसी लेडी का मूत अपने चेहरे पर महसूस कर रहा था … उत्तेजना के कारण सुकन्या का थोड़ा सा मूत मैंने टेस्ट भी कर लिया!

मैं और सुकन्या दोनों ही अपने भाग्य को धन्यवाद ज्ञापित करते हुए एक दूसरे के नग्न बदन को सहलाते सहलाते शावर के नीचे नहाने लगे.

प्यासी भाभी की चूत चुदाई की कहानी कैसी लगी? मेल करियेगा, इंतज़ार रहेगा! धन्यवाद!

Pages: 1 2 3 4

error: Content is protected !!