जवान लड़की सोनिया की हॉट चुदाई

फिर मैंने कहा कि अब ठीक से बोल क्या मारुँ? उसने कहा कि मालिक मेरे राजा आप मेरी चूत और गांड दोनों को मार लो। फिर मैंने कहा कि तो पलट, में सबसे पहले तेरी गांड मारूँगा। फिर वो पलट गयी और मैंने उसके पेट के नीचे एक तकिया लगाकर उसके दोनों पैरों को फैला दिया और अब उसकी गांड थोड़ा ऊपर उठ गयी थी।

मैंने पास पड़ी तेल की शीशी उठाई और उसकी गांड के छेद पर एक एक बूंद गिराने लगा और एक उंगली से उसकी गांड के अंदर भी तेल लगाने लगा तो वो आह्ह्ह्हह ऊईईईईई उह्ह्ह्हह्ह्ह्ह कर रही थी और अब में अपनी दो उंगलियाँ उसकी गांड के छेद में डालकर तेल की शीशी से तेल अंदर डालने लगा, तो उसकी गांड से तेल बाहर होने लगा तब मैंने अपने लंड पर भी बहुत सारा तेल लगाया और फिर उसकी गांड के छेद पर अपने लंड का सुपाड़ा रख दिया, उसने अपनी आखों को बंद कर लिया।

फिर मैंने उसके कंधो के ऊपर अपने दोनों हाथों से पकड़ बना ली और उसके ऊपर लेट गया। उसके दोनों पैरों को अपने पैरों से फैलाया और फिर अपने लंड को आगे की तरफ एक जोरदार झटका दिया, जिसकी वजह से मेरे पूरा लंड उसकी गांड में रगड़ खाता हुआ अंदर चला गया और वो दर्द से चिल्ला उठी और एकदम ज़ोर से चीखने लगी।

फिर में थोड़ी देर वैसे ही उसके ऊपर लेटा रहा है और उसके बूब्स दबाने लगा। फिर धीरे धीरे वो नॉर्मल हुई और अपनी गांड को उठा उठाकर मेरे लंड पर धकेलने लगी और अब में भी उसकी गांड का मज़ा लेने लगा और फिर हम जोश में आ गये वो गांड उठाती और में गांड के अंदर लंड को धक्का देता, यह हमारा खेल बहुत देर तक चलता रहा। तो वो भी मज़े के साथ बोलती रही हाँ आह्ह्ह्ह प्रेम आज ऊउईईईईईइ फाड़ दो मेरी गांड उह्ह्ह्हह्ह हाँ और ज़ोर से धक्का दो।

यह कहानी भी पड़े  दोस्तों की मकानमालिकिन आंटी की चुदाई

फिर मैंने कहा कि हाँ मेरी रंडी में आज तेरी गांड ऐसी मारूँगा कि कभी किसी और का लंड नहीं खाएगी तू और करीब बीस मिनट की धमाकेदार गांड मराई के बाद वो शांत हो गयी और मैंने उसकी गांड में ही अपना पानी छोड़ दिया और उसके ऊपर लेट गया। हम दोनों अब बहुत देर तक हाँफ रहे थे और पसीने से लथपथ थे और फिर थोड़ी देर बाद मैंने अपना मुरझाया हुआ लंड बाहर निकाला और उसके पास में लेट गया। फिर करीब दस मिनट के बाद उसने आँखे खोली और मेरे ऊपर आकर लेट गयी।

मेरा लंड उसकी चूत से दब रहा था और उसके बूब्स मेरी छाती से और उसकी सांसो की गरमी में महसूस कर रहा था और अब मैंने उसके बालों और पीठ पर हाथ फेरना शुरू कर दिया, हम दोनों बहुत देर रात तक वैसे ही एक दूसरे की बाहों में लेटे रहे।

फिर वो उठी और बाथरूम में जाकर अपनी गांड से मेरा वीर्य साफ करने लगी और फिर किचन में जाकर दो ग्लास जूस लेकर आयी। उसने एक ग्लास मुझे दे दिया, फिर हमने जूस पिया। वो बहुत खुश दिख रही थी, मैंने उसकी आखों में देखा तो वो शरमाकर मेरी बाहों में सिमट गई, मैंने उससे पूछा कि क्या हुआ सोनिया? तो उसने कहा कि आज उसे पता चला है कि सेक्स में इतना मज़ा भी आता है और आज से आप मेरे दूसरे पति हो। फिर उस रात मैंने उसकी चूत की भी दमदार चुदाई की और यह सिलसिला तब तक चला जब तक उसके पति पंजाब से नहीं आ गये।

यह कहानी भी पड़े  दिल्ली की संजना की चुदाई

में कभी कभी दिन में भी जाकर जब वो घर में अकेली रहती थी उसे चोद देता था। हमने बहुत बार सेक्स किया और कई बार सीमा भाभी के घर पर मैंने सीमा और सोनिया दोनों की चुदाई की, लेकिन उसे बच्चा नहीं हुआ, क्योंकि सोनिया ने अपने दूसरे बच्चे के जन्म के समय ही ऑपरेशन करवा लिया था। दोस्तों वो क्या दिन थे? आज भी मुझे याद आते है। वैसे कई लोग एक औरत को खुश नहीं कर पाते और मैंने दो दो सेक्सी औरतों को एक साथ खुश किया। दोस्तों सेक्स एक नशा है इसे करते समय जितना इसमें डूबोगे उतना ही मज़ा आएगा ।।

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!