जवान लड़की सोनिया की हॉट चुदाई

फिर वो एकदम हड़बड़ाती हुई खड़ी हो गयी और फिर में उसे अपनी बाहों में भरकर उसके होंठो को चूसने लगा और वो आँखे बंद करके धीरे-धीरे मदहोश हो रही थी और अब वो भी मेरा पूरा पूरा साथ देने लगी। फिर कुछ देर तक हमने फ्रेंच किस का मज़ा लिया, साथ ही वो मेरी पेंट के ऊपर से लंड को दबाने लगी और में उसकी गद्दे जैसी गांड को मसलने लगा और जब थोड़ी देर बार उसने आँखे खोली तो उसकी आँखो में वासना साफ साफ झलक रही थी। मैंने उससे कहा कि सोनिया में तुम्हे बहुत प्यार करना चाहता हूँ और मैंने जब से तुम्हे देखा है तुम्हे चोदने का सपना देख रहा हूँ और मुझे तुम्हारी चुदाई करके अपना वो सपना पूरा करना है,

तो उसने कहा कि तुम तुम्हारा वो सपना चाहो तो आज पूरा कर लो तुम्हे किसने रोका है? तो मैंने उससे कहा कि तुम दरवाज़ा चेक करो और में खिड़की देखकर आता हूँ। फिर थोड़ी देर में हमने सब दरवाजे खिड़कियों को बंद कर दिया और मैंने उसके बच्चो के रूम को भी बंद कर दिया और में उसे अपनी बाहों में उठाकर उसके बेडरूम में ले गया। फिर मैंने उसे बेड पर गिरा दिया और उसके ऊपर चढ़ गया और उसके बूब्स को दबाने लगा, साथ ही उसके होंठ चूसने लगा। फिर थोड़ी देर बाद मैंने मेरे कपड़े उतार दिए और उसने खुद के भी कपड़े उतार दिए, हम दोनों अब बिल्कुल नंगे थे और बिस्तर पर एक दूसरे की बाँहों में सिमटे हुए थे।

फिर मैंने उससे कहा कि तू इतनी जल्दी तैयार कैसे हो गयी? तो उसने कहा कि मेरे पति एक अच्छे आदमी है, लेकिन बिज़नेस की वजह से वो रात को बहुत थककर आते है और सो जाते है और वो कभी कभी सेक्स करते है, लेकिन उनमे वो जोश नहीं रहता जिसकी कमी में हमेशा महसूस करती हूँ और अपनी प्यासी चूत के साथ तड़पती रहती हूँ। मैंने कहा कि सोनिया तेरी यह जो प्राब्लम है यह बहुत औरतों की भी समस्या है जैसे कि पेट की भूख होती है, गले की प्यास होती है, वैसे ही भरपूर जवानी में चुदाई की भी भूख और प्यास होती है और आज हम दोनों एक दूसरे की यह प्यास जरुर बुझाएँगे।

यह कहानी भी पड़े  होने वाली भाभी की चुत चुदाई की हसीन रात

फिर मैंने उसकी चूत पर उंगली लगाई तो मैंने महससू किया कि वो अब तक बहुत गीली हो चुकी है और पानी छोड़ रही है। फिर मैंने उससे कहा कि सोनिया तू 69 पर आ जा और फिर वो झट से उठी और उसने अपनी कामुक चूत को मेरे मुहं से सटा दिया और मेरे लंड को चूसने लगी। दोस्तों उसकी बहुत मस्त गांड थी बिल्कुल गोरी गोरी और फिर उस पर गुलाबी चूत। उसने शेव किया हुआ था इसलिए चूत पर एक भी बाल नहीं था। उसे देखकर मेरी तो हालत बहुत खराब होने लगी।

उसकी चूत में बहुत गर्मी थी और वो किसी छोटे बच्चे की तरह लोलीपोप समझकर मेरे लंड को चूस रही थी और में उसकी चूत और गांड के छेद को चाट रहा था। फिर उसने पानी छोड़ दिया और उसकी चूत का पानी मेरे मुहं पर फैल गया। सारा पानी अंदर चला गया और थोड़ी देर के बाद मेरा भी वीर्य निकल गया और वो मेरे लंड का पूरा पानी गटक गयी। फिर हम एकदम सीधे लेट गये और उसने कहा कि वाह मज़ा आ गया, तो मैंने कहा कि अभी कहाँ मेरी रानी? अभी तो हमे पूरी रात मज़ा करना है और फिर में उसके पूरे शरीर को अपनी जीभ से चाटने लगा जिसकी वजह से उसके निप्पल खड़े हो गये और बूब्स कड़क हो गये और अब मैंने अपनी जीभ से उसके गरम जिस्म की सफाई शुरू कर दी, चाट चाटकर उसकी चूत की सफाई की और गांड की भी, उसकी जांघ, कमर, पीठ, पैर, सब जगह उसे चाट चाटकर मदहोश करने लगा।

यह कहानी भी पड़े  तांत्रिक के चंगुल में अन्तर्वासना

दोस्तों हमें बहुत मज़ा आ रहा था, क्योंकि उसका संगमरमर सा मखमली बदन, गोरा रंग, वो आँहे भर रही थी और फिर मैंने उसकी चूत को चाटना शुरू किया तो मेरा 7 इंच का टावर फिर से खड़ा होने लगा, उसने कहा कि प्रेम प्लीज अब और मत तड़पाओ प्लीज डाल दो मेरे अंदर अपना हथियार मेरे राजा। फिर मैंने उसके ऊपर लेटते हुए उसे कसकर बाहों में पकड़ लिया और लंड को चूत पर रगड़ने लगा तो वो चिल्ला उठी और उसने कहा कि साले कुत्ते अब जल्दी से चोद ना मुझे।

क्यों मेरी चूत पर अपना लंड सटाकर मुझे और भी तरसा रहा है? तो मैंने गुस्से से उसे एक थप्पड़ मारा और कहा कि सोनिया तू आज से मेरी गुलाम है, रंडी है और में तेरा मालिक हूँ, तू अपने मालिक से बद्तमीजी से नहीं बोल सकती। तू खुद को मुझसे चुदवाने के लिए भीख माँग, में तब तुझे चोदूंगा। तो उसने कहा कि मेरे मालिक, में आपकी रंडी आपकी गुलाम हूँ, अपनी रंडी की चूत की प्यास मिटा दो मेरे आका और आज अपने लंड से मेरी तड़प मिटा दो, में हमेशा आपकी गुलाम बनकर आपके लंड की सेवा में अपनी चूत देती रहूंगी। फिर मैंने उसकी गांड पर ज़ोर से थप्पड़ मारते हुए कहा कि और क्या यह गांड तेरा बाप मारेगा मादरचोद, रंडी, छिनाल? तो उसने कहा कि मेरे सरताज़ इस गांड को मेरे पति ने मार मारकर बड़ा कर दिया है आप जो चाहे कर लो इसके साथ यह भी आपकी गुलामी में हमेशा तैयार है।

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!