पूजा दीदी और जीजू की सुहागरात

मेरे प्यारे दोस्तो मैं पूनम आज आपके दिलो को खुश करने के लिए, एक कहानी ले कर आई हूँ. मुझे पता है की आपको ये कहानी बहुत पसंद आएगी.

क्योकि जब मुझे इस कहानी को लिखने मे इतना मज़ा आया, तो इसलिए मैं कह सकती हूँ. की आप को भी कहानी पढ़ कर मज़ा आएगा.

ये कहानी पिछले महीने की है. दरअसल मेरी बड़ी बेहेन पूजा की शादी उससे 5 दिन पहले ही हुई थी. हम सब काफ़ी खुश थे, दीदी भी काफ़ी खुश थी. क्योकि उनको पति उनके पसंद के जो मिले थे.

मेरे जीजू दिखने मे काफ़ी अच्छे थे. जीजू हॅंडसम होने साथ के साथ हस्स्मुख भी थे. जीजू बहुत मज़ाक करते थे. शादी करते हुए उन्होने मुझे हस्सा हस्सा कर पागल कर दिया था.

आख़िर करते भी क्यो ना मैं उनकी एक्लोति साली जो हूँ. अब हुआ कुछ ऐसे की जिस दिन दीदी की शादी हुई, उसी दिन दीदी को पीरियड आ गई. जिस वजह से दीदी की सुहागरात पूरी तरह से खराब हो गई.

दीदी अपने सुसराल 5 दिन रही, पर उन्होने अपनी सुहागरात न्ही मनाई. अगले दिन वो वापिस अपने मायके फेरा डालने आई. तो मैने दीदी को साइड मे ले कर कर, सुहागरात के बारे मे पूछा.

तब दीदी ने मुझे सब कुछ सॉफ सॉफ बता दिया, की अभी तक उनके और जीजू के बीच कुछ भी न्ही हुआ है. दोस्तो मैं आपको बता दू, की मेरी बेहेन दिखने मे परी है.

उनका रंग एक दम गोरा है, फिगर 32-28-34. ये फिगर एक दम पर्फेक्ट माना जाता है. एक शादी शुदा लड़की के लिए. फेस कट बहुत ही प्यारा है, मेरी बेहेन का. तो फिर मैं वापिस से अपनी कहानी पर आती हूँ. जब दीदी ने मुझे ये सब बताया तो मुझे सच मे काफ़ी बुरा लगा.

यह कहानी भी पड़े  सगी मौसी की चुदाई

मैने अपने दिल मे उनके लिए कुछ करने की सोची. इसलिए मैने फ़ैसला किया आज किसी भी तरह से अपनी बेहेन की सुहाग रात अच्छे से मैं मनवाउंगी. ये बात सिर्फ़ मुझे ही पता थी. इसलिए मैने सबसे चुपके रात को दीदी का रूम बहुत अच्छे से सज़ा दिया.

ताकि जीजू और दीदी को ऐसा ना लगे की ये एक सिंपल सी रात है. मैने अपनी तरफ से पूरी कोशिश करी. बाकी सब के लिए तो ये दीदी और जीजू की एक नॉर्मल नाइट थी. पर ये मुझे अच्छे से पता है, की दीदी के पीरियड ख़तम हो गये है. इसलिए आज ही उनकी सुहाग रात बनेगी.

मेरा रूम दीदी के रूम के एकदम साथ था. हम दोनो के रूम के बीच एक छोटी सी विंडो थी. जिसे मैने शायद जान बुझ कर खुला छोड दिया था. मतलब की उसकी कुण्डी न्ही लगाई थी.

जब रात को दीदी अपने रूम मे जाने लगी, तो मैने जीजू के लिए स्पेशल केसर वाला दूध उनके हाथ मे थमा दिया. दीदी मुझे देखा और काहा.

दीदी – थॅंक्स पूनम.

मैं – दीदी थॅंक्स तो आप मुझे अपने रूम को देख कर कहोगी.

ये सुनते ही दीदी जल्दी से रूम मे गई, रूम को देख कर काफ़ी खुशी हो गई. और मुझे अपने गले से लगा कर बोली.

दीदी – वाह मेरी बेहेन, तू मेरा कितना ख़याल रखती है. लाइफ मे कभी भी तुझे किसी चीज़ की भी ज़रूरत हो, तो सबसे पहले तू मुझे ही बताएगी.

मैं – अरे अब खुशी के मौक़े पर इमोशनल मत होना प्लीज़. अब आप अपनी सुहाग रात एंजाय करो. मैं रेंट पर लहँगा ले कर आई हूँ. अभी डॉल लो, जीजू आने ही वाले है.

यह कहानी भी पड़े  Nancy Ka Sexy Cheetkaar

दीदी – थॅंक यू सो मच मेरी जान, अब तू सो जा ओके गुड नाइट.

फिर मैं अपने रूम मे आ गई. मैं सोने की कोशिश कर रही थी, पर आज रात तो मेरी आँखो से नींद उड़ चुकी थी. मेरी उम्र 18 साल थी, अब मैं भी जवान हो चुकी थी. दीदी के जाने के बाद मैने ब्लू मूवी देखी और सेक्स के बारे मे सब कुछ जान लिया.

जीजू के आने की आवाज़ मुझे अपने रूम मे सुनाई दी. मेरा मन ना जाने क्यो, अंदर का नज़ारा देखने का होने लग गया. मेरा दिमाग़ तो मुझे विंडो के पास जाने से रोक रहा था. पर मेरा दिल विंडो के पास जाने का कर रा था.

आख़िर आज दिल के आगे दिमाग़ हार ही गया, मैं उठ कर विंडो के पास गई, और चुप के से अंदर देखने लग गई. दीदी के रूम मे लाइट अभी ऑन थी. जीजू दीदी के साथ बेड पर बैठे थे. वो दोनो कुछ बात कर रहे थे, और साथ ही मेरी सजावट को भी देख रहे थे.

मैं समझ गई की दीदी ज़रूर, जीजू को मेरे बारे मे बता रही थी. फिर जीजू ने अपने हाथ मे दीदी का चेहरा पकड़ा और उनके माथे पर बड़े प्यार से किस किया. हाए राम मैं तो ये देख कर मरने वाली हो गई थी. फिर जीजू ने दीदी के माथे को चूमते हुए, उनके पूरे चेहरे पर किस किया.

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!