भाभी का मसाज और चोदन पति के सामने

रसिक ने तब मुझे कंडोम का पेकेट दिया और मोहिनी भाभी ने कंडोम को मेरे लंड के ऊपर पहना दिया. मैंने लंड को चूत के ऊपर रख के अन्दर डालना चाहां लेकिन चूत बड़ी ही टाईट थी. मैं सोच में पड़ा की एक शादीसुदा औरत की चूत भला इतनी टाईट कैसे!

मैंने थोडा तेल ले के उसकी चूत के ऊपर लगाया और फिर कंडोम के आगे के हिस्से पर भी. और फिर एक धक्के के साथ मेरा थोडा लंड अंदर घुसा. उसके मुहं से अजब सी शांति वाली आवाज आई. मैंने उसके बूब्स चुसे और लंड को पूरा अन्दर डाला. मैंने अपने पैरो को उसके पैरो के दोनों तरफ लपेट के उसे कस लिया. उसका पति रसिक अब अपने मोबाइल से हम दोनों की सेक्सी क्लिप बना रहा था. मैंने कहा चहरा मत आने देना. वो बोला, हां भाई उसका ध्यान हे मुझे!

मैं अब मोहिनी भाभी के ऊपर चढ़ के उसे मस्ती भरे हुए धक्को के साथ चोद रहा था. और फिर उसका पानी छुट गया. और फिर मैंने उसे कहा चलो कुतिया बन जाओ मेरे लिए. मैंने पीछे से अब अपना लंड उसकी चूत में घुसेड दिया और चोदना लगा. वो अपने पति रसिक के लंड के करीब थी.

और फिर उसने उसके लंड को अपने मुहं में ले लिया. मैंने उसके लंड को देखा तो वो सिर्फ 4 इंच का ही था और एकदम काला था कलर में. मेरे धक्को से वो चुद रही थी और पति के लंड को मुहं में ले के चूस रही थी. मेरा पानी निकल पड़ा कंडोम के अन्दर ही!

मोहिनी भाभी अभी भी रसिक का लंड चूस रही थी. फिर वो नंगा हो गया और अपने लंड को उसने अपनी बीवी की चूत में डाल दिया. और वो एकदम जोर जोर से चोद रहा था बिना किसी दया के. मोहिनी जोर जोर से अह्ह्ह अह्ह्ह्ह ओह ऑफ अह्ह्ह्हह अह्ह्ह्ह कर रही थी. और फिर पांच मिनिट के अन्दर उसके लंड का पानी भी छुट गया!

यह कहानी भी पड़े  Ek Chhoti Si Love Story

वो कुछ दुखी सी लग रही थी. मैंने उसके पास गया और उसे किस दिया. वो उठ के बाथरूम की तरफ बढ़ी. मैं भी उसके साथ हो लिया. हमने एक दुसरे के बदन के ऊपर साबुन लगा के नहलाया. फिर मैं उसे तोवेल में लपेट के बाथरूम से बेडरूम में ले आया.

फिर मैंने मोहिनी को कहा तुम साडी पहनो ना. उसने साडी पहनी बिना ब्रा के. मैंने कहा अब मैं तुम्हे रेप करते हे वैसे चोदना चाहता हूँ. मैंने कहा तुम मुझे पूरी ताकत से रोकने की कोशिश करना. उसे भी मेरा आइडिया पसंद आया.

मैंने उसे अपने हाथो में उठाया और वो कठिन हो गई. मुझे अच्छा लगा. मैंने उसे जबरदस्ती से चुम्मा दिया और उसके कपडे खोलने लगा. वो साडी उतरवा के फिर नोर्मल हो गई. एक घंटे तक मैंने उसकी चूत बजाई. और फिर मैं न्यूड उसकी चूत में अपना लंड रख के ही सो गया. जब मेरी नींद खुली तो मेरा लंड उसके हाथ में था और वो सोयी हुई थी.

मैंने खड़े हो के अपने लंड को उसके दोनों बूब्स के बिच में डाल के बूब्स फकिंग चालू कर दिया. वो उठ गई और मेरे करीब आ गौ. मैंने उसे किस किया. फिर मैंने उसे वही पर घोड़ी बना के मस्त चोदा.

जब हम सेक्स कर के बहार आये तो रसिक सोफे के ऊपर सोया हुआ था. मोहिनी ने उसे उठाया और बोली जाओ बेडरूम खाली हे अन्दर बिस्तर के ऊपर जा के सो जाओ.

फिर उसके जाने के बाद हम दोनों किचन में गए. वो खाना बना रही थी और मैंने उसको प्यार किया. किचन में उसको चोदने का भी बड़ा मजा आया मुझे.

यह कहानी भी पड़े  जुली को पता चल गया की मैं गिगोलो हूँ

फिर मेरे जाने का वक्त हो गया. लेकिन तभी कुछ अजीब हुआ. मोहिनी ने रसिक को आवाज लगाईं और मेरी पेंट खोल दी. उसने कहा, चुसो इसे!

मैं और रसिक दोनों अचंबित हो गए. मैं गे नहीं था पर रसिक ने लंड को चुसना चालू किया तो मुझे अच्छा लगा. मोहिनी ने तब कहा, जब तुम्हे अपनी बीवी किसी से चुदवाने मजा आता हे तो मैं भी देखूं की तुम किसी का लंड चूसते हुए कैसे लगते हो!

रसिक ने लंड को गले तक भर के खूब चूसा. चोद चोद के मेरा लंड थका हुआ था इसलिए पुरे 20 मिनिट के ब्लोवजोब के बाद ही रसिक उसका पानी निकाल सका. फिर मोहिनी को एक किस दे के मैं निकल गया.

और फिर वो दोनों रेग्युलर मुझे बुलाने लगे थे. रसिक का तबादला होने तक मैंने मोहिनी को बहुत चोदा और वो भी मुझे प्यार करने लगी थी! लेकिन मेरा धंधा ऐसा हे की मैं एक औरत को अपना दिल नहीं दे सकता हूँ!

Pages: 1 2

Comments 1

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!