Pahli Girlfriend Ki Pahli Chut Chudai

अन्तर्वासना की हिन्दी सेक्स स्टोरीज के सभी चाहने वालों को मेरा नमस्कार!

प्रिय मित्रो और सभी सेक्सी कुँवारी लड़कियो और भाभियो…
अन्तर्वासना पर यह मेरी पहली सेक्स कहानी है, अगर कोई गलती हो जाए तो मुझे माफ़ करें।

मेरा नाम रॉकी हंटर (बदला हुआ) है, मेरठ का रहने वाला हूँ, मेरी उम्र इस वक़्त 28 साल है, गेहुँआ रंग है और मेरी एथेलीट बॉडी है। मेरा लौड़ा 6.3 इंच लंबा और 2.3 इंच मोटा है जो किसी भी लड़की की ज़बरदस्त चुदाई के लिए काफी है।

मेरी सेक्सी खूबसूरत गर्लफ़्रेंड

मेरी यह कहानी अब से दो साल पहले की है जो मेरी सबसे पहली गर्लफ्रेंड की है जो मेरठ की ही रहने वाली थी।
वह काफी सुन्दर है, उसकी लंबाई 5.4 इंच, रंग बिल्कुल गोरा, घने काले लंबे बाल, पतली सी कमर और उसका फिगर 34-28-32 का था जो किसी को भी पागल करने के लिए काफी है।

उससे मेरी पहली मुलाकात मेरे एक दोस्त के द्वारा हुई थी।
जब मैं पहली बार उससे मिलने गया तो उसको देखकर बस देखता ही रह गया, मुझे तो यकीं ही नहीं हुआ कि मुझे भी कभी इतनी सुन्दर गर्लफ्रेंड मिलेगी।

उस दिन बस साथ बैठे और यहाँ वहाँ की बातें की और एक दूसरे के नम्बर लिए और फिर हम दोनों की फ़ोन पर दिन रात बातें होने लगी।
और बातें होते होते प्यार से सेक्स पर पहुँच गई, हम फ़ोन पर भी सेक्स करने लगे।

चूत चुदाई के लिये होटल में

हमने फिर एक दिन मिलने का समय तय किया।
वो अपना कॉलेज का बहाना मार कर मुझसे तय समय पर मिलने आ गई और मैं उसे अपनी बाइक पर लेकर एक अच्छे होटल में गया जहाँ पर मैंने रूम बुक किया और उसे लेकर रूम में चला गया।

यह कहानी भी पड़े  भाभी ने मांगी चुदाई की भीख

रूम में जाते ही मैंने रूम को तुरंत लॉक करके उसे अपने गले से लगा लिया, कस क़र उसे अपनी बाहों में भींच लिया और उसके गुलाबी गुलाबी होठों को चूमने लगा।
वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी।
हम बहुत देर तक एक दूसरे के होठों को चूमते और चूसते रहे।

फिर मैंने उसे बेड पर लिटाया और उसके ऊपर चढ़ कर बैठ गया और कपड़ों के ऊपर से ही उसके मोटी चूचियों को दबाने लगा और उसे किस करने लगा।
वो भी अब तक बहुत बेचैन हो गई थी और मेरे लंड को दबाने लगी थी।

नंगी गर्लफ़्रेंड

मैं उसके गोरे बदन से उसके कपड़ों को उतारने लगा, सबसे पहले उसका नीले रंग का सूट उतार कर अलग किया और उसी रंग की सलवार भी उतार कर अलग कर दी थी।
अब वो काली ब्रा और पैंटी में थी और उसके गोरे रंग पर काली ब्रा पैंटी गजब लग रही थी।

उसको इस हालत में देखते ही मैं पागल सा हो गया और उसको पागलों की तरह ऊपर से नीचे तक चूमने और चाटने लगा था और वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी।
मैंने उसे सर से पैर तक अच्छे से चूमा।

अब वो बिल्कुल पागल हो चुकी थी, उसने भी मेरे कपड़े उतार दिए।

मैंने उसकी मोटी मोटी चूचियों को ब्रा के ऊपर से ही चूसना शुरू क़र दिया, पैंटी के ऊपर से ही उसकी मुलायम मखमली चूत को सहलाने लगा और धीरे धीरे चूत को दबाने लगा।

अब मैंने सबसे पहले उसकी ब्रा उतार दी और फिर धीरे-2 उसकी पैंटी को भी उतार दिया।
अब हम दोनों बिल्कुल नंगे हो चुके थे और एक दूसरे को फिर से चूमने चाटने लगे, मैंने उसके गुलाबी होंठों को खूब चूसा और उसकी मोटी चूचियों को खूब ज़ोर से दबाने लगा।

यह कहानी भी पड़े  ऑफ़िस में ब्लू फिल्म और हस्तमैथुन

Pages: 1 2 3 4

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!