ऑफीस की लड़की नेहा के साथ मस्ती

हेल्लो दोस्तो मेरा नाम रोहन है, आज मैं अपनी लाइफ की एक हसीन चुदाई का किस्सा आप सब के साथ शेयर करने जा रहा हूँ. ये थोड़ा पुराना ज़रूर हो गया है, पर मजेदार पूरा है.

बात उस टाइम की है, जब मैं घर से दूर गुड़गाव मे जॉब करता था. मैने अपनी स्टडी पूरी करके सीधा जॉब करनी शुरू कर दी थी. यहाँ मुझे अच्छी सॅलरी मिल रही थी.

इसलिए मैं एक दम मस्त लाइफ एंजाय कर रहा था. मैने एक रेंट पर रूम ले रखा था, जहाँ मैं अकेला रहता था. क्योकि एक साथ रहना ज़रा भी पसंद न्ही है. ये मेरे लिए एक दम सही चल रहा था.

उस टाइम मेरी उमर 24 साल थी. मैं दिखने मे हॅंडसम और स्मार्ट लगता था. मुझे लड़की देखते ही मुझसे बात करना पसंद करती थी. वैसे तो मैने पहले भी बहोत चूत मारी है. इसलिए मुझे पूरा पता था की, कैसे लड़की को गरम करके उसे चोदा जाता है.

मैं एक सॉफ्टवेअर कंपनी मे जॉब करता था. वैसे तो वाहा हम सब लड़को का ही काम था. पर छोटे काम करने के लिए हमने थोड़ी लड़किया भी रखी हुई थी.

ऑफीस की सभी लड़कियाँ मुझे पसंद करती थी. सब के साथ मेरी दोस्ती हो रखी थी. पर अभी तक वाहा पर कोई ऐसी लड़की न्ही आई थी, जिसे देखते ही मेरे पेंट मे हरकत होनी शुरू हो जाए.

शायद मेरे दिल की ये दुआ उपर वाले ने सुन ली थी. कुछ ही टाइम बाद ऑफीस मे इंटरव्यू हुए. फिर हमारे ऑफीस मे नेहा नाम की लड़की आई. कसम से क्या कच्ची कली नाज़ुक सी लड़की थी. उसे देख कर मेरा लंड हरकत करने लग गया.

मेरे दिल से आवाज़ आई की ये ही वो लड़की है. जिसका मैं कब से वेट कर रहा था. फिर क्या था मैं उसे देखता ही रह गया. मेरा लंड उसको देख देख कर झटका मारने लग गया. मैं तो मानो उसकी तरफ खिचा चला जा रहा था.

यह कहानी भी पड़े  कमसिन कच्ची कली मेरे बिस्तर पर फ़ूल बनी

उसका नाम नेहा था, रंग गोरा फिगर एक दम मस्त. वैसे उसका फिगर 32-28-34 था. मैने उसके रेज़्यूमे मे उसकी उमर देखी तो वो सिर्फ़ 20 साल थी. उसने 10त के बाद ही डिप्लोमा कर लिया था. इसलिए वो इतनी कम उमर मे इस जॉब के लिए आ गई थी.

खैर मुझसे उसे क्या लेना, मेरा दिल तो उस पर आ गया था. मैं उसको चुपके चुपके देखता रहता था. उसका चेहरा बहोत ही दिलकश था. देखते ही आपको नशा सा होने लगता था.

मैने उससे अभी तक कोई बात न्ही करी थी, मैं चाहता था की वो खुद मेरे पास आ कर मुझसे बात करे. अगले ही वो मेरे पास आ गई, उसे कुछ प्राब्लम थी, जो मैने झट से ठीक कर दी.

जब वो मेरे पास आई तो उसने रेड कलर का सेक्सी सा टॉप और ब्लू कलर की एक दम टाइट जीन्स डाली हुई थी. जिसमे वो बहोत ही सेक्सी लग रही थी, मेरा लंड तभी उपर नीचे होने हो गया.

जब वो मुझसे बात कर रही थी, तब मेरी नज़र उसके मस्त बूब्स पर थी. उसने नीचे ब्रा न्ही डाली थी. इसलिए उसके निपल्स सॉफ सॉफ उसके टॉप मे से नज़र आ रहे थे. मैं उसके निपल्स देख रहा हूँ, ये बात उसे भी पता थी.

कुछ देर बात करके वो मुस्कुराते हुए वाहा से चली गई. अब मेरी आँखो मे उसका खूबसूरत चेहरा बस सा गया था. पूरी रात मैं उसके बारे मे सोचता रहता, मैं चाहता था की उसे कैसे भी करके चोद दू.

यह कहानी भी पड़े  दीदी के साथ मेरे लिव-इन रिलेशनशिप

अगले दिन सुबह थोड़ा मौसम खराब हो गया था, इसलिए मैं घर से बहोत पहले ही निकल गया. मैने देखा मेरे साथ साथ नेहा भी ऑफीस पहले आ गई थी. हम दोनो के ऑफीस पहुचते ही बारिश काफ़ी तेज हो गई.

बारिश की वजह से सब उस दिन ऑफीस काफ़ी लेट आए थे. मैं और नेहा ऑफीस एक दम अकेले थे. इसलिए हम दोनो एक दूसरे से बातें करते रहे. हम दोनो मे काफ़ी अटॅचमेंट हो गया था. हम दोनो 3 घंटो की बातो मे ही काफ़ी अच्छे से घुल मिल गये थे.

फिर शाम को वो मेरे साथ मेरी बाइक पर गई. क्योकि अभी भी बारिश हल्की हल्की हो रही थी. मैं बाइक की बार बार ब्रेक मार रहा था, ताकि थोड़ा सा मज़ा उसके बूब्स का ले सकु.

उसके बूब्स मेरी कमर से लग कर डब रहे थे, मुझे ऐसा करते हुए बहोत मज़ा आ रहा था. फिर कुछ ही देर मे हम उसके घर पर आ गये, वो नीचे उतरी और कहा की प्लीज़ चाय पी लो.

जिस अंदाज मे उसने मुझसे चाय के लिए पूछा, कसम से मैं उसे मना ही न्ही कर पाया. फिर मैं उसके घर मे गया, उसने ये घर रेंट पर लिया था. उसके साथ उसका भाई रहता था. पर उसका भाई ऑफीस के काम से 2 वीक के लिए बाहर गया हुआ था.

ये मेरे लिए एक इशारा था की आज ये पक्का चुदेगि. खैर उसने मुझे सोफे पर बिठाया मेरे सामने उसका लॅपटॉप पड़ा था. उसने कहा मैं ज़रा कपड़े चेंज कर लेती हूँ. तब तक आप मेरा इंटरनेट बॅंकिंग देख लो वो ओपन न्ही हो रही है.

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2

error: Content is protected !!