नॉन वेज़ सेक्स स्टोरी – एक हसीन ग़लती 2

“नही आज तेरी बहुत अच्छे से गांद मारूँगा साली हिहिहीही.” और उसने रफ़्तार और बढ़ा दी. मैं झाड़ गयी उसी वक्त. मगर जालिम नही रुका. वो मारे जा रहा था मेरी मासूम गांद को बड़ी बेरहमी से.

वो बीच बीच में मेरी पीठ को भी चूम रहा था.

“तुमने निशा को देखा क्या रमन?”

“अरे ये तो मनीष की आवाज़ है रूको.” मैने कहा.

“तो रहने दो मैं अब नही रुकने वाला.”

“नही तो भैया, क्या हुआ?” रमन ने कहा.

“पता नही कहाँ चली गयी ये अचानक. मम्मी बुला रही है उसे. अपना फोन भी नही उठा रही.”

मैने तुरंत अपना मोबाइल देखा जो कि पास ही पड़ा था मेरे. उसमे 20 मिस्ड कॉल थी. क्योंकि मोबाइल साइलेंट पे था इसलिए मुझे पता नही चला था कि मनीष कॉल कर रहा है.

“हटो मुझे जाना होगा.” मैने मुकेश को धीरे से कहा.

“अभी तो मज़ा आने लगा है. मैं अब नही रुक सकता. पूरी गांद मार कर ही रुकुंगा.” वो ज़ोर से धक्का मारते हुवे बोला.

“देखो मनीष मुझे ढूंड रहा है, कुछ तो शरम करो और कितनी देर से तो कर रहे हो जी नही भरा तुम्हारा.”

“ऐसी गांद मिलेगी मारने को तो किसका जी भरेगा. इसे तो मैं दीन रात मारता रहूं हाई क्या मस्त गांद है उफ़फ्फ़.” उसने रफ़्तार बढ़ाते हुवे कहा. मैं रुक ना पाई और फिर से झाड़ गयी.

बाहर मनीष की आवाज़ आ रही थी और अंदर ये सुवर मेरे उपर पड़ा मेरी गांद मार रहा था. अजीब से सिचुयेशन थी ये. कुछ देर बाद मनीष की आवाज़ आनी बंद हो गयी और मैने राहत की साँस ली और फिर से पूरी तरह मुकेश के धक्को में खो गयी.

यह कहानी भी पड़े  मेरी चचेरी बहन सबरीना

मगर कुछ देर बाद दरवाजा खुला. मेरे तो पैरो के नीचे से ज़मीन ही खिसक गयी.

“स्टोर रूम है ये यार मोंटी चल यहाँ से.”

“क्या पता कुछ काम का समान हो रुक तो गुल्लू.”

मेरी तो साँस ही अटक गयी. मुकेश भी तुरंत रुक गया. मगर वो ऐसी पोज़िशन में रुका था जबकि उसका लिंग सिर्फ़ सूपदे को छ्चोड़ का बाहर था. हम दोनो ही जड़ हो चुके थे. मुकेश ने धीरे से खुद को नीचे किया और उसका मोटा लिंग मेरे अंदर फिसलता चला गया. ये बिल्कुल स्लो मोशन में हुआ. उसके ज़रा ज़रा सरकते हुवे लिंग को मैने अपने छेद की दीवारों पर बहुत अच्छे से महसूस किया. जब वो पूरा अंदर आ गया तो ना चाहते हुवे भी हल्की सी आहह मेरे मूह से निकल गयी. “आहह.”

“तूने ये आवाज़ सुनी क्या मोंटी?”

“हान्ं यार सुनी तो, चल भाग यहाँ से ज़रूर यहा भूत है.”

और वो दोनो दरवाजा बंद करके भाग गये. अब शायद उपर कोई नही था.

“निकाल लो अब बाहर और मुझे जाने दो. मनीष मुझे ढूंड रहा है.”

“नही अभी नही अभी तो बहुत मारनी है.” और वो फिर से शुरू हो गया.

“बाद में मार लेना मैं कही भागी नही जा रही हूँ प्लीज़ अभी मुझे जाने दो.” मैं गिड़गिडाई.”

“बाद में तू नही देगी मुझे पता है. पीनू के साथ तूने जो किया क्या मुझे नही पता. तू रोज रोज नही देती अपनी. तेरा मूड होता है कभी कभी ये मैं जान चुका हूँ हिहीही. आज ही जी भर के मारूँगा तेरी मैं.”

यह कहानी भी पड़े  भाभी ने भाभीचोद बनाया

और जालिम ने तूफान मचा दिया मेरे पीचवाड़े में. इतनी रफ़्तार से मारने लगा वो मेरी मासूम गांद को कि फ़च फ़च की आवाज़ होने लगी. कोई भी बाहर होता अब तो सुन सकता था.

“उउउहह बस भी करो आहह” और मैं फिर से झाड़ गयी.

“बस अब मेरी बारी है” और उसने रफ़्तार की चरम को छू लिया और फिर अचानक ऐसी पिचकारी छ्चोड़ी उसने कि मेरी गांद की दीवारे गरम गरम पानी में नहा गयी. ये गर्माहट मुझे बहुत गहरे तक महसूस हुई.

“आआहह बस रुक भी जाओ.” मैने कराहते हुवे कहा. मेरी योनि एक बार फिर पानी छ्चोड़ चुकी थी. अजीब बात थी गांद में तो मज़ा आ ही रहा था मगर मेरी चूत भी मस्ती में पानी बहा रही थी. यही बात शायद अनल सेक्स को ख़ास बनाती है. मैने मन ही मन सोचा.

उसने हान्फ्ते हुवे अपने लिंग को बाहर खींच लिया. मैं तुरंत लड़खड़ते कदमो से खड़ी हुई और तुरंत कपड़े पहनने लगी. जब मैने ब्लाउस, पॅंटी और पेटिकोट पहन लिया तो उसने मुझे बाहों में भर लिया और मेरे होंटो को अपने सुवर जैसे होंटो में जाकड़ कर चूसने लगा.उस से अलग हो कर मैने अपने कपड़े पहने और जल्दी से बाहर आ गयी. दोस्तो उस दिन मैं बाल बाल बची दोस्तो आपको ये कहानी कैसी लगी ज़रूर बताना आपका दोस्त राज शर्मा

समाप्त

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2 3

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!