मामी बोली मुझे गर्भवती बनाओ

मामी नही रोना नही मैं हूँ ना चुप करो नही रोना मैं मामी के मूह पर शरीर पर हाथ घुमाने लगा और उन्हे चुप कराने लगा, मामी बैठी रो रही थी रोने की वजा और गर्मी की वजा से उनका सारा शरीर चिप चिपा हो गया था, पल्लू से कभी नाक पॉच के पल्लू कई बार नीचे ही गिरा रहता और वो सिर्फ़ रो रही थी मुझे बाहोमे लेके लिपटती हुई रो रही थी और उनके आधे खुले बूब्स मेरे शरीर से टकरा रहे थे, मैं कभी गालो पर कभी कमर पे कभी गॅंड दबा के उन्हे बाहों मे खिच के उन्हे रोने से रोक रहा था और अब उनके गोरे-गोरे चिकने बदन से मेरा लॅंड भी खड़ा होने लगा था और कभी मामी घूम जाती तो गॅंड पर लॅंड टकराने लग जाता पर मामी शायद जैसे-जैसे मामी ज़ोर ज़ोर से रो के मेरी बाहों मे आती वैसे वैसे मेरा लॅंड उन्हे कस कस के धक्का मारता और मैं भी क्या करता इतनी जवान सेक्सी गोरी मामी मेरी बोहों मे थी उसका गोरा-गोरा बदन बूब्स गॅंड सब मुझसे टकराते थे तो मेरा लॅंड भी काबू से बाहर हो रहा था.

अब मामी को पता चल गया था तो भी मामी चिपक-चिपक के रो रही थी और अब मेरा लॅंड मामी की गॅंड पर जाँघो पर चुत तक टकराने लगा था एक दो बार तो मामी के हाथ को भी टच हुआ, मैं पूरी तरह गरम हो गया था तूँ तूँ करके मामी को लॅंड धक्का मार रहा था और मामी जानबूझ के दबा रही थी, मामा की शादी होके अभी सिर्फ़ तीन दिन हुए थे जैसे ही शादी हुई मामा मामी को लेके नाशिक गया और कुछ दिन पहले ही उसकी वाहा ट्रान्स्फर हुई थी, मामी के दूर दूर के रिलेटिव और हमारे सारे रिलेटिव भी चले गये और तीन दिन बाद अचानक मामी का फोन आया मामा नही रहे मेरी मा बीमार थी और मैं पापा और दो चाचा तुरंत वाहा पहुचे और मामा की बॉडी वही पड़ी थी, मामी जो ज़ोर से रो रही थी थी पापा ने बोला बेटे जा मामी को शांत कर तो मैं मामी पर हाथ घुमा घुमा के उसे शांत करने लगा, नाशिक मे हमारा दूसरा कोई रिलेटिव नही था चाचा ने अगल बगल से दो चार आदमी एकट्ठा किए और तैयारी करने लगे.

यह कहानी भी पड़े  भाभी की बेबसी और मेरा प्यार

और पापा बोले बेटा तू मामी के पास रहना हम सब करते है कुछ पर मामी ज़ोर-ज़ोर से रोने लगी और बॉडी को बाहर लाया गया तो अब मामी की ऐसी अवस्था देख के पापा बोले बेटा मामी को उपर ले जा तो मैं मामी को पकड़ पकड़ के उपर ले गया और अब उपर से हम मामा की बॉडी को देख रहे थे, गॅलरी से सिर्फ़ मूह ही बाहर दिखाई दे रहा था और मामी नीचे देख देख के ज़ोर-ज़ोर से रो रही थी और अब मैं समझ गया था, मैं पीछे से गॅंड पर लंड दबा के दोनो हाथो से कमर और बूब्स दबा दबा के मामी को शांत कर रहा था और जैसे ही वे लोग बॉडी उठाने लगे, तो मामी बोली अरे मुझे कुछ देके ही चला जाता अब मैं किसके सहारे जियूंगी अरे एक संतान ही देके जाता अब ऊओहोहू रोने लगी मैं दबा दबाके उनको बोलता मामी मैं हूँ ना नीचे से पापा चिल्लाने लगे बेटे हम जा रहे है अपनी मामी को शांत करो, मैं बोला हान पापा और मामी की गॅंड पर कस कसाके लॅंड दबाने लगा और वैसे ही ब्लाउस के आधे हुक खुल गये थे.

अब मैं मोटे गोरे-गोरे बूब्स भी दबाने लगा और बोलने लगा मामी मत रोना मत रोना और गॅंड पर लॅंड दबाता कभी गालो पर हाथ घुमाता तो कभी मूह चूमता जैसी ही बॉडी लेके जाने लगे रात के दो बजे थे मामी ज़ोर-ज़ोर से रो के झट से दौड़ के अपने बेडरूम मे गयी और बेड पर सोके रोने लगी, उनके बूब्स बाहर आए हुए थे और जब-जब वो पैर फोल्ड करती सारी चुत तक नीचे दिख रही थी, मैं खड़े-खड़े एक हाथ जाँघो पर घुमाने लगा और एक हाथ मामी के मूह पर घूमाते हुए बूब्स को भी दबाने लगा और मामी के अंडरवेर के उपर से हाथ घुमाने लगा, मामी रो रही थी तो मैने झट से अपनी पैंट अंडरवेर निकाली और मामी पर चढ़ गया और मामी का मूह चूमने लगा और एक हाथ से मामी की अंडरवेर निकालने लगा और आख़िर मैने मामी की चुत पर लॅंड रखा और कस्के एक शॉट मारा, मामी हहहहहहह करने लगी तो मैने और ज़ोर से शॉट मारा मामी चिर्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्ररर उूुुुउउम्म्म्मममम करने लगी.

यह कहानी भी पड़े  प्राकृतिक आपदा - 1

और मामी की चुत एक दम टाइट थी, तो मैं बोला मामी कितनी टाइट है चुत तो मामी बोली भैया तेरे मामा सील नही तोड़ पाए चुत देखते ही उनका पानी निकल जाता था, भैया कैसा भी करके मुझे गर्भवती बना जल्दी बाद मे ये पॉसिबॅल नही है संतान ही मेरा सहारा है नही तो विधवा को कोई नही पूछेगा तो जब तक वे समशाण से नही आते खूब चोद मुझे मुझे पेट से कर चोद हहहा हहा हहा और ज़ोर से भैया और मैं मामी को धन धना धन चोदने लगा और मैने पिचकारी मारी, तो मामी ने मुझे कसके दबोचा और बोली भैया आज तू मेरे उपर हाथ घुमाने लगा और मुझे अछा लगने लगा था फिर जब तू लॅंड टच करने लगा तो तभी मैने तुझे फसाने का प्लॅन किया, भैया यही मौका है मुझे जल्दी से गर्भवती बना और मुझे कुछ नही चाहिए बाद मे अगर मैं ऐसा करू तो सब मुझे पत्थर मार-मार के निकलेंगे और अगर अभी मैं पेट से हुई तो लोग समज़ेंगे की ये तेरे मामा की निशानी है.

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2

error: Content is protected !!