मेरी प्यारी मकान मालकिन भाभी की चुदाई

फिर मैं झड़ने के बाद भाई के ऊपर ही लेता रहा और हम दोनों नंगे ही एक दूसरों की बांहों में लेते रहे, भाभी जी ने अपनी जीभ से मेरा लौंडा साफ किया और उसको मुंह में लेकर पीने लगी आव मेरा लौंडा दुबारा भाभी जी जी को चोदने को तैयार हो रहा था धीरे धीरे वो बड़ा हो रहा था और मुझे फिर से मजा आ रहा था फिर 10 मिनट भाभी जी ने मेरा लौंडा को इसे क्रीम की तरह चूसा उसके बाद मैंने उसे उनकी चुत पे रखा फिर से अपना काम दुबारा शुरू किया पूरे कमरे में फूच फूच की आवाज़ गूँज रही थी भाभी जी आ आह आह कर रही थी,

कुछ देर बाद झाड़ गया और इस तरह से हमने उस दिन तीन बार चुदाई किया,ये मेरा पहली चुदाई था इस से मैंने पहले कभी भी चुदाई नहीं किया था उस दिन के बाद में बहुत खुश हुआ, और इस तरह से मैंने प्यासी मकान मालकिन भाभी की पायस बुझाई और उसके बाद हमें जब भी मौका मिलता हम सेक्स करते है

Pages: 1 2

error: Content is protected !!