मां बहन का आशिक बेटा 3

मस्ताराम ने मेरे जीवन में दूसरी पारी लाई और मुझे यह समझाने बहुत सहायक सिद्ध हुई कि दुनिया में कोई रिश्ता च** से बड़ा नहीं होता मस्ताराम कोो बहुत-बहुत धन्यवाद करती हूं, इसने मेरे जीवन को खुशियों से भर दिया और मुझे जीने का एक सहारा दिया अगर शायद याा सेक्स स्टोरी नहीं पड़ी होती तो मैं दुनिया को नहीं समझ पाती और अपनी बात को नहीं रख पाती सहयोग से मुझे आज इस मुकाम पर पहुंचाया है

करवा चौथ का दिन था आज मैं पूर्ण रूप से अपने बेटे होना चाहती थी मैं आज अपनी इच्छा से उसके साथ चुदाई का आनंद लेना चाहती थी मैंं सुबह उठी और नहा कर तैयाार हो सोनिया बोली मम्मी मैं आकाश की पत्नीी बन चुुकी हूं, मैं करवा चौथ का व्रत रख दी है, आपके लिए बाहर से खाना मंगवा लेंगे मैं पेट का बहाना कर केे कहां मुझेे भी भूख नहींं लगी है, सोने जा रही थी सोनिया बोली ठीक है आकाश जी आज बाहर खाना खाएंगे और हमारे लिए सामान शाम कोो लेकर आएंगे मैं कुछ बोले बिना छत पर चली गई 6:30 बजे आकाश छुट्टीटी लेकर आ गयाा,

सोनिया तैयार होकर लाल साड़ी पहनकर खिड़कीी के पास आकर चांद को देखकर आकाश में सोनिया का व्रत छुड़वाया और किस है मैं नीचे थी,
जब सोनिया तैयार हो रही थी तभीी मैं बेटे द्वारा लाई हुई साड़ी और बिकनी ब्रा ब्लाउज पहन कर तैयार हो गई, और नीचे थाली लेकर पानी लेकर बैठी थी,

कुछ देर बाद आकाश नीचे आया मुझे देख कर दंग रह गए बोला मम्मी आप भी मैं मम्मी ना बोली बोलिए आज से आपके में पत्नी बन रही हूं, सुबह से मैंं भी करवाााा चौथ की व्रत राखी हूं, और यह सिंदूर मेरी मांग में भरीये और मुझे अपना बना लिजिए,

यह कहानी भी पड़े  जगत मौसी के जिस्म की गर्मी

आकाश मुझे छत पर लेकर चला गया सोनिया मुझेे तुझ पर दंग रह गई बोली मम्मी आकाश ने इशारा करके सोनिया को चुुप रहने को कहा,
पहले मेरी मांग में सिंदूर भरा उसके बाद मंगलसूत्र था उसको पहनाया फिर मुझे पानी पिला कर व्रत तोड़ा और बाहोंंंं में भर कर बोला मम्मी मुझे बहुत खुशीी हुई आज मैं बोली आज से मैंं मीरा हूं और पत्नी हूं आप की,

सोनिया बोली मम्मी को आपकी पत्नी बनाने में मैंंं बहुत मदद की हूं अगर मैं सेक्स कहानियां नहीं पढ़ाती तो आज मम्मी आपकी पत्नीी नहीं हो सकती थी,

मैं सब जानता हूं हम तीनो लोग खाना खाए फिर छत पर ही आ गए आकाश धीरेे धीर मेरे सारे कपड़े उतार के मैं लाल पेंटी और ब्रा हो गई और सोनिया का भी सारे कपड़ेे उतार दिए सोनिया ब्लैक पेंटी और ब्रा में नंगी थी हम दोनों आकाश के कपड़े उतार दिए आकाश बहुत खुश नजर आ रहे थे आज मैं भीी अंदर से बहुत खुश थी मुझेे किसी से शिकवे गिले नहीं थे मैंं आकाश को अपने हाथों से लड़के को लन्ड** को पकड़ कर पूछने लगी

सोनिया के चेहरेे पर खुशी गायब देख रहीी ीं थी मैं आकाश के ल** को चूस रही थी 10 मिनट चूसने के बाद आकाश मेरे चूत** में उंगली डालकर हिलाने लगा मैं बोली लंड किस काम का मुझे इसका रस चाहिए आकाश बोला जान इसका भी रस मिलेगा थोड़ा सब्र तो करो पहले तो आप के चूत** केे रस पान करने दो, आकाश मुझे अपने मुंह पर चूत लाने को बोला मैं अपनेे चूत** को आकाश के होठों पर रख दिया, आकाश नीचे से च** को चाटने लगा मैं ऊपर से चूत को चाटने लगी कुछ देर चाटने के बाद आप मुझे नीचे करके च** मेंं ल* डालते हुए*

यह कहानी भी पड़े  बहन के साथ है जीवन के आनंद

बोला मम्मी आज आप अपनीी इच्छा मेरे साथ सब कुछ कर आ रही है मुझे बहुत खुशी मिल गई है मैं बोली मम्मी ना बोलिए मीरा बोलिए, आकाश बोलते हुए सोनिया को इशारा किया फिर मेरे चुचियों को तुम चुसो सोनिया बिनाा मन केे मेरे चूचियों को चूसने लगी मैं भी जोश में आकर बोली अभी तो शुरुआत है बेटी मेेेेरेे आग में घी डाल दिया है तुमने मैैं6 साल से किसी तरह से शांत की थी,

बेटा बोला मम्मी ये हुई बात अब मैं अपनी पत्नी के साथ मज़ा ले सकता हूं मैं आकाश को छेड़ते हुए कहा पत्नी नहीं पत्नियों के साथ सोनिया बोली मम्मी को पा कर हमें भूूल ग्रे आप, मैं सोनियाा की चूची को दबाते हुए बोली कैसे भूल जाएंगे जान तुम्हारे चूतड में उनकेेे ल** को* मैं डालूंगी सोनिया बोली आपके चूत** का रस में ले सकतीी मैंने कहा अरे मेेेरे पतिदेव पूछिए उनके इसको टच भी नहीं कर सकती आकाश बोला मम्मी आप मुझे खुश कर दे आप जोो कहेंगे मैं करने को तैयार हूं बस आप मेरा साथ दीजिए मैं बोली अब तो पति बन गए हो आपका पूरा हक है मेरे ऊपर आकाश ने मेेरे होठों चोदते हुए चोदने की स्पीड बढ़ा दी और मैं नीचे से झटके देने लगे 10 मिनट में आकाश अपनेे पानी पानी केे फव्वारे च** में उलट दिए मैं भी अपना पानी छोड़़ चुकी आकाश मुझसे चिपक कर सोता रहा

Pages: 1 2 3 4

error: Content is protected !!