मां बहन का आशिक बेटा 3

शाम को आकाश घर आया सीधी सोनिया को किस किया और मेरेे पास आकर मेरे चुचियों को दबाने लगता और पेंटी ब्रा 4 सीट लाया था और दूर नाइटी लाया था,
खाना खाने के बाद मुझे भीी खाना जबरदस्ती खिलाया उसके बाद मुझेे उठा बेड पर लेटा दिया मैं उसका विरोध करने के लिए मैं खड़ी होती आकाश मेरे
सारे कपड़े उतार कर पहना दिया मैं रोक ना सके उसकेे बाद सोनिया सोनिया देखो में इतनी सुंदर लग रहे हैं सोनिया मुस्कुराते हुए बोली मां किसकी है,

आकाश मुझे अपनी मोबाइल देकर आज के बाद यह मोबाइल तुम्हारे पास रहेगा,

———- Forwarded message ———
From: Meera Roy
Date: Mon, Dec 30, 2019 at 6:12 PM
Subject: मां बहन का आशिक बेटा 5
To: Suuny leone

मैं मीरा आज अपनी कहानी का सबसे रोचक जानकारी देने जा रही हूं यही से मेरे जीवन या आप कह सकते हैं मस्तिष्क का परिवर्तन हो गया मैं अपनी घटना पीछे जहां खत्म किया था वहीं से शुरू करतीं हूं

आकाश मुझे मोबाइल फोन दिया लेकिन मैं इस मोड़ फोन पर करती क्या किससे बात करती,

उस रात आकाश ने मुझे नंगा कर दिया और मेरे चूत के बाल साफ़ करने के लिए क्रीम लगाने लगा मैं थोड़ा बहुत विरोध कर रही थी लेकिन सोनिया ने मेरे पैरों को फैला दिया था मेरे चूूत के बाल साफ़ करने के बाद आकाश सोनिया से कहा मम्मी को तुम चूत के रस का सेवन करो मैं मम्मी के चूचियों के स्वाद का सेवन करता हूं,
मैं अपना पैर को घुटने टेक कर बौठ गई आकाश बोला मम्मी माा जाओ अब क्या बचा है मैं कुछ बोले बिना पैर नहीं फैलाया सोनिया बोलीं मां को अकेले नहीं चोद सकते,
सोनिया अपने दुपट्टेे स मेरे पैर को बांध दिया और हाथ को भी और बोली भाई मम्मी अब कोई दिक्कत नहीं करेंगी आकाश ने मेरे पैरों को खोल दिया और कहा मम्मी मैं आप के साथ आप के इच्छा से चोदना चाहता हूं
मैं बोली ऐसा कभी नहीं होोाग आकाश ने कहा ठीक है तब मैं शांत होने के लिए आप के चूत के रस को पीने का सौभाग्य अभी नहीं छोड़ेंगे,

यह कहानी भी पड़े  दीदी की चूत का विज्ञान

सोनिया मेरे पैरों की फैला दिया आकाश चूत में मुंह डालकर चूसने लगा मेरे चूत से पानी निकल गया और आकाश बोला मम्मी आप का पानी निकल रहा है सोनिया बोली मम्मी की मर्जी है बस नखडे दिखा रही हैं,
आकाश मेरे चुचियों को दबाने के लिए सोनिया को कहा सोनिया खुश हो गई और बोली भाई मम्मी के चूचियों को दबाने का सौभाग्य प्राप्त हुआ,

आकाश मेेी चूत में लन्ड को पकड़ कर डाल दिया और कहने लगा मम्मी मान जाओ मैं अपने सिर को घुमाा कर कुछ नहीं बोली आकाश कहां मम्मी तक ऐसे ही करते रहेंगे,

आकाश चूत** में लन्ड** डालकर झटके देने लगा मैं एक बार फिर बिना इच्छा के चोदने के लिए मजबूर हो गई थी आज रात आकाश बुरी तरह चोदा,
सुबह फिर नॉर्मल होकर ऑफिस चला गया सोनिया फिर मुझे चाय और खाना देकर मेरे पास आकर बैठ गई

और मोबाइल में सेक्सस स्टोरी खोलकर देदी और बोली मम्मी दुनिया में तुम ही एक अकेली नहीं है जो अपने बच्चे फिर सेक्स कराती है देखो पढ़ो इसको पहलेे तो मैं इसे पढ़नेे स इनकार कर दिया लेकिन सोनिया के जाने के बाद मैंने सेक्स स्टोरी पढ़ना शुरू करें पहले यह दो काफी सेक्सी स्टोरियां पढ़ती रही सोनिया मुझे आकर देखकर बोली मम्मी पता चला कि कितने लोग हैं संसार में तुम बेवजह के पागल बनी मैं कुछ नहीं बोले शाम के 5:00 बजे तक मैं सेक्स स्टोरी पड़ती है और सोचती रही यह सही है कि गलत है लेकिन मैं एक निष्कर्ष पर पहुंचे अगर यह सही है तो सही है अगर गलत है तो यह भी किसीी इंसान की कल्पना होगी जोो अपनी

यह कहानी भी पड़े  भाई ने बहन की चिकनी चूत को फाड़ा

जो अपनी कल्पना को कहानी का रूप धारण करके पेश किया है और बहुत सी कहानियां सही भी लगी एक कहानी तो 17 अट्ठारह भागों में थी उस कहानी को पढ़ने पर लगा की यह कहानी मेरी तरह है वह कहानी दो हजार अट्ठारह की प्रकाशित थी याा कहानी मुझे अपनी कहानी की तरह लगी इस कहानी को मैं अपनेे आदर्श रूप में मानकर अपनी कहानी भी लिखने का प्रयास किया मेरी कहानी तो इतनी लंबी नहींं है,

मैं कहानियां पढ़ती गई मेरे विचार अब चेंज हो रहे थे ऑटोमेटिक बेटे के प्रति बदल रही थी मैं कहानी के रूप में बेटे को देख रही थी,

आकाश मेरे लिए नाइटी बिकनी ब्रा दर्जनों लेकर आया पहनने को बोल रहा था लेकिन मैं नहीं पहनी मैं अभी बहुत परेशान थी लेकिन आकाश का काम होता रहा कहानियों को पढ़ते रहे और सोनिया मुझे कहानी पढ़ते मुस्कुराने लगती थी मैं कुछ नहीं बोलती थी इसी तरह चलता

3 महीनेेे बीत थे अब यह मान चुकीी थीं अब कुछ होना नहीं है मैं यह सब कहानियों के योगदान मानती हूं अगर सेक्स स्टोरी मस्ताराम नहीं होता शायद मेरे जीवन में यह पल देखने कोो नहीं नहींीं मिलता

Pages: 1 2 3 4

error: Content is protected !!