कामुकता सेक्स प्यास बुझा दो

वह मेरी ऊवार देखकर बोली”ओह सुनील देखोना ज़ुबैर और सबीहा को कैसे मज़े से चोद रहा है. तुम भी अब मुझे तरसाओ नही और जल्दी से मुझ को चोदो.” सुनील ने सलमा के पैरो को अपने कंधे पर रखकर लंड को उसकी चूत पर रगड़ना शुरू किया तो सलमा बोली “ओह्ह हेय मेरे राजा, क्यों मुझे को तडपा रहे हो. हे जल्दी से मुझ को चोद दो.” सुनील ने अपने लंड को उसकी चूत पर लगा धक्का लगाया तो चौथाई लंड उसकी चूत में चला गया. सलमा ने उसके चूतादो को दबाते हुवे कहा”यस यस डालो. पूरा डालकर चोदो.” वो दोनो एक दूसरे के ऑपोसिट धक्के लगाने लगे और इस तरह सुनील का पूरा लंड सलमा की चूत में चला गया. सलमा की चूत के बॉल उसके लंड के चारो ऊवार फैल गये थे. सुनील पूरा पेलकर उसके मम्मो को मसल्ने लगा था. इधर ज़ुबैर मेरी चूत में अपने मोटे लंबे लंड को पुक्क पुक्क अंदर बाहर कर रहा था और में हर धक्के के साथ सिसक रही थी. सुनील से चुदवाने से ज़्यादा मज़ा मुझे उस अजनबी ज़ुबैर के साथ आ रहा था. में चुदवाते हुए दूसरी बर्त पर भी देख रही थी. सुनील मम्मों को मसल्ते हुए सलमा की चूत को चोद रहा था और वह नीचे से कमर उचकाते हुए सुनील की गांद को कुरेद रही थी. अब सुनील सलमा की चुचियों को मुँह में लेकर चूस्ते हुवे तेज़ी से चुदाई कर रहा था. सलमा मदहोशी में बोली”ओह सुनील मेरे यार बहुत मज़ा आ रहा है. हे और ज़ोर से चोदो. पूरा जाने दो फाड़ दो मेरी चूत. चिथड़े उड़ा दो.” सलमा पूरे जोश में अपनी कमर उचका कर लंड का मज़ा ले रही थी. में उन्दोनो की चुदाई का नज़ारा करते ज़ुबैर से चुदवा रही थी. ज़ुबैर ज़ोर ज़ोर से धक्के लगाने लगा तो मुझे ऐसा लगा कि मेरी चूत से पानी निकाल पड़ेगा. ऐसा महसूस करते ही मैं ज़ुबैर से बोली”आह ज़ुबैर डार्लिंग मेरा निकलने वाला है. राजा मेरी हेल्प करो तुम भी मेरे साथ ही अपनी मलाई मेरी छूट में ही निकालो.” ज़ुबैर पर मेरी बोली का असर हुवा और वा तेज़ी से चुदाई करने लगा. कुच्छ देर में ही मेरी चूत से फव्वारा चलने लगा और मेरे साथ ही ज़ुबैर के लंड की पिचकारी भी चल दी. उसकी पिचकारी ने गरम पानी से मेरी चूत भर दी. जब मेरी चूत भर गयी तो मलाई चूत से बाहर निकलने लगी. झड़ने के बाद हम दोनो एक दूसरे लिपटकर उखड़ी सांसो को दुरुस्त करने लगे. मेरा ध्यान फिर सलमा की तरफ गया. सलमा मदहोशी में कराह रही थी और कमर को हवा में लहराते हुवे सुनील से चुदवा रही थी. कुच्छ देर बाद जब ज़ुबैर अलग हुवा तो में उठकर सलमा के पास गयी. मेरी चूत लंड के पानी से चिपचिपा गयी थी और ज़ुबैर के लंड ने इतना ज़्यादा पानी उगला था कि जांघे तक भीगी थी. में ऐसे ही सलमा के पास गयी और उसको लिप्स पर किस करने लगी. सलमा ने मेरी गर्दन दो अपने हाथो से पकड़ लिया और मेरे सिर को अपनी चुचियो पर लाने लगी. मैं समझ गयी की वह अपनी चुचियो को चुसवाना चाहती है. में उसके एक माम्मे को मुँह में लेकर चूसने लगी. उसकी एक मोटी मोटी चुचि को चूस्ते हुवे में दूसरी को दबाने लगी. सलमा चूतड़ तेज़ी से उठाने गिराने लगी और सुनील भी ज़ोर ज़ोर से धक्के देने लगा. 20-22 धक्को के बाद सलमा की गांद रुक गयी. उसकी चूत से पानी गिरने लगा था. सुनील ने भी दो चार धक्के और लगाए और सलमा के ऊपर लेटकर लंबी लंबी साँसे लेने लगा. उसका लंड भी गरम लावा निकल रहा था. सुनील अपनी क्लासमेट की चूत में अपने लंड का माल उंड़ेल रहा था. वो दोनो काफ़ी देर तक सुस्त होकर एक दूसरे से चिपके रहे. फिर वो अलग हुवे तो मेने सलमा की ओर अपनी चूत सॉफ की फिर दोनो के ढीले लुंडो को भी सॉफ किया. फिर हमलॉग अलग होकर सोने चले गये. मुझे नीद नही आ रही थी. मेरी आँखों के सामने दोनो के लंड नाच रहे थे. ज़ुबैर का देल्ही में अपना फ्लॅट था और वो अनमॅरीड था. उसने सुनील और मुझ को अपने फ्लॅट में रुकने को कहा तो में तय्यार हो गयी. सलमा अपनी सिस्टर के घर चली गयी. ज़ुबैर ने उसको भी अपनी कॉंटॅक्ट डीटेल्स देदी. ज़ुबैर के फ्लॅट पर ज़ुबैर ने मुझे कैसै चोदा! वो में आप लोगो की फीड बॅक मिलने पर लिखूं गी.
समाप्त

यह कहानी भी पड़े  जवानी बड़ी जालिम है

Pages: 1 2 3 4

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!