काजल के चुदने की चुल

शादी शुरू हो गई थी फेरे सुबह 4 बजे होने थे. इस लिए मंडप पर घर के ज़रूरी फैमिली वाले ही थे. और बाकी सब जगह देख कर सो गये थे. उसके चक्कर मे मुझे रात के 12 बजे गये थे. रवि मुझसे बोला यार चल सोते है फिर सुबह यहाँ से निकलना भी है. मैने कहा चल ठीक है. रवि को बिल्कुल भी नही पता था की मैं किसी लड़की के चक्कर मे पड़ गया हूँ.

मैने ऐसे ही किसी से उसके बारे मे पूछा तो मुझे पता चला की वो दिल्ली की है. और उसका नाम काजल है उसकी उमर 18 साल की है. जब मैने उसकी उमर जानी तो मैं समझ गया की लंड के लिए पागल हो रही है. इसलिए मेरे चक्कर मे घूम रही है. रवि और मैने एक जगह देखी और वही पर लेट गये. रवि और मैं एक साथ लेटे हुए थे. रवि को बहोत जल्दी नींद भी आ गई थी. पर मेरी आँखो मे काजल का 32-28-34 का फिगर आ रहा था. मैं उसे चोदने के लिए बेकरार हो रहा था.

मेरे साथ एक लड़का सोया हुआ था वो एक बच्चा ही था. तभी रूम मे आया और उसने आते ही लाइट को ऑफ कर दी. मैने सोचा की इस बेड पर जगह तो है नही ये सला कहा पर सोएगा फिर. पर उसने बेड के साथ ही नीचे अपना बिस्तर लगा लिया और सो गया. कुछ ही देर मे मेरे उप्पर कुछ गिरने लग गया. मैने देखा तो वो फूल थे. मैने सोचा ऐसे ही कहीं से आ गया था. पर कुछ देर बाद फिर से फिर से.

यह कहानी भी पड़े  सरीना मेरे साथ ज़ियादा फ्री थी

मैने अपनी फोन की लाइट ऑन करी और नीचे लेटे हुए बंदे को देखने लग गया. मुझे उस साले पर बहोत घुस्सा आ रहा था. पर जब मैने उसे देखा वो तो नीचे काजल लेटी हुई थी. मैं खुशी से पागल हो गया था. मैं समझ गया फूल मेरे उप्पर काजल ही गिरा रही थी. मैने एक बार रवि और उस बच्चे को देखा की वो सो रहे है या नही.

वो दोनो बहोत गहरी नींद मे थे. मैं बेड से उठा और दरवाजा अंदर से बंद कर के काजल के पास लेट गया. काजल मे मुझे लेटते ही अपनी बाहों मे भर लिया. उसने मुझे कहा जब से मैने आप को कपड़े चेंज करते हुए देखा है. तभी से आप के लिए पागल होई घूम रही हूँ. मैंने कहा मुझे नंगा देखा है या मेरा लंड.

वो शरमा गई और धीरे से बोली लंड. बस फिर क्या था मैने उसके होंठो पर अपने होंठ रखे और ज़ोर ज़ोर से उसके होंठो को चूसने लग गया. मेरा एक हाथ उसके बूब्स पर था और दूसरा हाथ उसके चुत्तड़ो पर था. उसके बूब्स और चुत्तड़ दोनो काफ़ी सॉफ्ट लग रहे थे. मैने जल्दी से उसके कपड़े उतरने शुरू कर दिए. और काजल ने मेरा पजामा नीचे किया और मेरा लंड अंडरवियर से बाहर निकाल लिया.

लंड को वो अपने हाथ मे ले कर खेलने लग गई. मैं 69 की पोज़िशन मे आ गया. मैं उसके उप्पर था मैने देखा की काजल की पैंटी पूरी गीली हो रखी है. इसलिए मैने उसकी पैंटी भी उतार दी और अपनी जीब निकाल कर उसकी गीली चूत पर फेरने लग गया. उसकी चूत का रस्स पहले ही काफ़ी ज़्यादा बाहर आ रहा था. और मैने 15 मिनिट मे उसकी चूत को अच्छे से चाट कर उसकी चूत का रस्स एक बार फिर से निकाल दिया.

यह कहानी भी पड़े  चाची की चूत की चुदाई की कहानी करवा चौथ पर

काजल एक रंडी की तरह मेरा लंड चूस रही थी. इस तरह तो मेरा लंड आज तक नेहा ने भी नही चूसा था. मैं समझ गया की ये साली पहले भी चुद चुकी है. करीब 20 मिनिट मे ही उसने मेरा लंड चूस चूस कर मेरे लंड का सारा पानी पी लिया. मेरा लंड अब शांत हो चुका था. मैने फिर से उसका मूह चोदना शुरू कर दिया.

कहानी पढ़ने के बाद कृपया अपना फीडबैक नीचे कॉमेंट सेक्शन मे ज़रूर लिखिए, या फिर आप मुझे ईमेल भी कर सकते है और अब फॉलो कीजिए देसिकहानी फ़ेसबुक और गूगल+ पर.

और उसकी मूह की गरम थूक ने मेरा लंड 2 मिनिट मे ही पूरा खड़ा कर दिया. अब मैं सीधा उसके उपर आ गया और उसकी दोनो टाँगे खोल कर अपना लंड उसकी चूत मे पूरा 2 धक्को मे डाल दिया. शुरू शुरू मे काजल को थोड़ा दर्द हुआ पर बाद मे उसने खूब मज़े लिए. मैने उसे रात को 3 बजे तक जम कर चोदा. और फिर उसने मेरा फोन नंबर लिया और मैने उसका.

जाते जाते उसने मुझे खड़ा किया और खुद नीचे बैठ कर मेरा लंड चूसने लग गई. उसने कहा की जाने से पहले ये लंड मेरे गले मे डालो और मेरा गला चोद दो. मैने उसका गला करीब 15 मिनिट तक चोदा. और अपने लंड का सारा पानी उसके मूह मे ही निकाल दिया,

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2

error: Content is protected !!