Category «रिश्तों में चुदाई Incest Kahani»

मेरी सौतेली बहन की कामुकता

मेरी सौतेली बहन मेरे साथ ही रह कर पढ़ रही थी. एक बार मैं जल्दी अपने फ़्लैट पर आ गया. उस दिन मैंने देखा कि मेरी बहन सीढ़ियों में अपने लवर के साथ … दोस्तो, अन्तर्वासना पर यह मेरी पहली कहानी है आप पढ़ेंगे तो खुद ही जान जायेंगे कि इसमें सच का पुट कितना …

मेरे भाई ने चोदा मुझे सड़क किनारे

एक बार मेरे भाई ने मुझे बाथरूम में नंगी देख लिया और उस दिन से वो मेरे सेक्सी जिस्म को भोगना चाहते थे. पढ़ें कि कैसे मेरे भी ने चोदा मुझे सड़क किनारे झाड़ी में! हेलो दोस्तो, कैसे हो? मैं सोनिया राजस्थान से! मेरी पिछली कहानी बाप बेटी की चुदाई करवा दी आपने पढ़ी और …

मौसी के साथ बिताई कुछ रातें

दोस्तो, मैं राज सिंह कानपुर के पास के जिले का रहने वाला हूँ, मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ, मैं अन्तर्वासना की कोई भी कहानी नहीं छोड़ता हूँ। मैंने सोचा क्यों न अपनी कहानी अन्तर्वासना पर लिखूं। आपका ज्यादा समय न लेते हुए कहानी पर आता हूँ। बात उन दिनों की है जब मैं 12वीं …

मेरी बुआ की बेटी चुदाना चाहती है

नमस्कार दोस्तो, आज मैं आपके सामने अपने मन की बात कहने जा रहा हूँ, आपके जवाब का मुझे इंतजार रहेगा। मेरा नाम सौम्यक है, मैं बीस साल का होने वाला हूँ और अपने मन की बात आपके सामने रख रहा हूँ। बात कुछ उन दिनों की है मेरे बुआ की बेटी मेरे यहाँ ही रहती …

फूफा जी का बड़ा लंड दोबारा चूत में लिया

आपकी प्यारी कोमल भाबी का सारे प्यारे प्यारे लंड और चुत को प्यार भरा चुंबन.. दोस्तो आपने पिछली पोर्न कहानी फूफा जी के हब्शी लौड़े से चूत की चुदाई करवा ली में पढ़ा कि कैसे मैंने रात को फूफा जी का नशे की हालत का फ़ायदा उठा कर उनका बड़ा हब्शी लंड अपनी चुत में …

कमसिन बेटी की महकती जवानी-6

अब तक की इस हिंदी में चुदाई की कहानी में आपने जाना था कि बाप अपनी बेटी से अपने लंड की मुठ मरवा रहा था, उसे मर्द के लंड की मुठ मारना सिखा रहा था. अब आगे.. जब पद्मिनी ने ठीक से वैसे ही करना शुरू किया तो बापू फिर से लेट गया और मजा …

कमसिन बेटी की महकती जवानी-3

अब तक की सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा था कि पद्मिनी के बापू ने रात को उसकी चूत में उंगली डाल कर चैक कर लिया था कि उसकी बेटी अभी कुंवारी है. फिर उसके चूतड़ों की दरार में अपना लंड रगड़ कर माल निकाल कर सो गया था. अब आगे.. सुबह को यूँ तो हर …

कमसिन बेटी की महकती जवानी

पद्मिनी की माँ का उस समय ही देहांत हो गया था, जब पद्मिनी कच्ची उम्र की थी. उसका कोई भाई बहन न होने के कारण पद्मिनी अपने पिता की बड़ी दुलारी थी. एक ही औलाद होने के कारण छोटी उम्र से वह अपने पिता के साथ ही सोती थी. पिता को पद्मिनी से बहुत प्यार …

error: Content is protected !!