हब्बी ने नीशी को रंडी बनाया

ओ शीट, मैने मेसेज का कुछ रिप्लाइ नही किया, थोड़े दिन बाद विवियन घर पे आया हब्बी के साथ कुछ काम से, मै किचन मे थी, विवियन पानी पीने के बहाने किचन मे आया और सीधा मुझे किस करने लगा, मैने धक्का दिया.

विवियन – अच्छा, हब्बी घर पे है तो डर लगता है? कोई बात नही, बाद मे आऊंगा, डर मत.

ये बोल कर उसने मेरा सर पकड़ के एक स्मूच कर लिया.

विवियन – बहोत हॉट है तू रंडी.

और फिर वो चला गया, मेरे जान मे जान आई.

मै डरने लगी की विवियन हब्बी को कुछ बता देता.

और एक दिन हुआ भी वैसा ही, विवियन ने मुझे मेसेज किया, और हब्बी ने देख लिया.

मेसेज: रंडी, बहोत दिन हो गये, आज घर आऊं? अपने पति को भगा देना कही पे, इस बार बिना कॉन्डोम के करेंगे, लव यू मेरी नीशी रखेल.

मै भी सर्प्राइज़ थी, क्यूकी उसने पहली बार ऐसा मेसेज किया, मैने अभी तक उसके साथ कुछ नही किया, फिर भी.

हब्बी गुस्सा हो गया और हमारा झगड़ा हो गया, हब्बी ने भी मुझे बहोत गालिया दी, मै गुस्से से अपने रूम मे चली गई.

हब्बी विवियन के घर चला गया झगड़ा करने, मैने सोचा आज तो फिर रियल मे सेक्स करके रहूंगी किसी के साथ, बिना कुछ किए इतनी गालिया सुनाई, !!

मै शॉर्ट ब्लॅक वन – पीस पहन के बार मे गयी, वाहा 2 ग्लास विस्की पी, और फिर वाहा नज़र घुमाई तो एक अमीरज़ादा मोटा अपने चम्चो के साथ बैठा था, मै वाहा जाके उसके पास बैठ गयी.

मै – आइ एम नीशी, मेरा मूड ऑफ है, क्या मै यहा आप लोगो के साथ एंजाय कर सकती हू?

यह कहानी भी पड़े  संगीता की चुदाई

ही – येस, वाइ नॉट, माइ नेम इस प्रिन्स, आजा.

उसने मुझे अपनी और खिच लिया.और अपने ग्लास की सारी वोड्का मुझे पीला दी, और फिर पीछे से मेरी गांड सहलाने लगा, मैने कुछ नही कहा तो उसने और एक ग्लास मुझे पिलाया, इस बार मेरे मना करने पर भी मेरी कमर पकड़ के पीला दिया, और वाहा पे वो मुझे किस करने लगा.

मैने सोचा थोड़ी देर के लिए उसकी जीएफ बन जाऊ तो वो झगड़ा भी भूल जाऊंगी, मै भी किस करने लगी, प्रिन्स ने मुझे उठा के अपनी गोद मे बिठाया और फिर मेरे वन – पीस के अंदर हाथ डाल के बूब्स दबाने लगा, उसके दोस्त भी हमे देख के एंजाय कर रहे थे.

थोड़ी देर एसा ही चलता रहा, फिर उसकी गोद मे ही बैठ कर हम बाते करने लगे, वो मेरे बॉडी को टच करता रहता था, कभी बूब्स तो कभी कमर, कभी गांड, मैने माइंड नही किया, रात के शायद 11 बजे होंगे, मैने सोचा अब मुझे चलना चाहिए.

मै – चलो गाइस, मै चलती हू, घर जाने का टाइम हो गया..

प्रिन्स – रुक रंडी, अभी हमे कही और जाना है, साली, खड़े लंड पे धोखा देगी.

उसने मेरा हाथ पकड़ लिया, और खिच के अपनी गोद मे बिठा दिया.

वो लोग मुझे ज़बरदस्ती शराब पिलाने लगे, पता नही वो क्या था बट बहोत स्ट्रॉंग था, तब मै क्या कर रही थी वो मेरी समाज के बाहर था, मुझे कुछ याद नही है उसके बाद क्या हुआ.

जब मेरी आँख खुली दूसरे दिन तो मै एक सी फेसिंग होटेल के रूम मे थी, मै पूरी नंगी थी, और मेरी चूत और गांड दर्द कर रहे थे, और मेरे बूब्स और टमी पे मार्कर से कुछ लिखा था.

यह कहानी भी पड़े  दीदी अब तक कुँवारी थी जब मैने उनकी सील तोड़ी

“नीशी तू रंडी है. छीनाल है, वेश्या साली, ” मैने देखा मेरा फोन पर्स सब गायब है, ईवन मेरे कपड़े भी वाहा नई थे, थोड़ी देर बाद प्रिन्स और उसका दोस्त आए.

प्रिन्स – चल रंडी, फिरसे चुदने के लिए रेडी हो जा, कल तो मज़ा आ गया साली, पी कर क्या कमाल चुदि है तू.

मै – शट अप. मै कहा हू? और मेरे कपड़े दे मुझे, घर जाना है मुझे.

प्रिन्स – जाएगी ना बेबी, शादी के लिए मान जा तो घर भी ले जाऊंगा.

और फिर उसने मेरे बाल खिच के किस किया मुझे, उसके दोस्त ने मेरे बूब्स दबाने स्टार्ट किया, दोनो के बीच मै फँस गई, प्रिन्स ने लंड निकल के मेरे मूह मे ज़बरदस्ती घुसा दिया, आहह ओएमजी.

प्रिन्स – चुस्स साली वेश्या कही की, हमारे जैसे अमीरो के पैसो से शराब पीटी है फिर चुदवाने से मना करती है, रंडी. ये कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

थोड़ी देर मै चुस्ती रही, और उसका दोस्त मेरी चूत मे उंगली करता रहा, फिर उसने मुझे बेड पर फेका और मुझपे चढ़ गया, आहह कुत्ते, मर गईइई, उसने धक्के से पूरा लंड चूत मे घुसा दिया आआअहह, ओह फुक्कक, ओएमजी, आहह.

उसने अपने दोस्त को कुछ इशारा किया और वो फिर वीडियो रेकॉर्डिंग करने लगा फोन मे, अहहह प्रिन्स और ज़ोर-ज़ोर से धक्के देने लगा, ओएमजी फुक्ककक उहह, आआहह उहह यअहह.

प्रिन्स – आहह रंडी मज़ा आ रहा है ना? एम.सी, तू सामने से चुदवाने आई कल, और आज नाटक कर रही है, हलकट वेश्या.

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!