स्कूल गर्लफ्रेंड नेहा की कुँवारी चूत

दोस्तो, मैं रवि आज अपनी लाइफ की पहली चुदाई की कहानी आप सब के लिए ले कर आया हूँ. दरअसल ये मेरी पहली कहानी है, मैने आज से पहले अपनी लाइफ मे बहोत सारी कहानिया पढ़ी है.

उन सब कहानियो को पढ़ने के बाद मुझे लगा की शायद मुझे भी अब अपनी एक कहानी लिखनी चाहिए. इसलिए मैने सोचा क्यो ना आपके साथ अपनी लाइफ की पहली चुदाई शेयर करूँ.

तो दोस्तो, आज मैं आपके साथ अपनी पहली चुदाई का किस्सा शेयर करने जा रा हूँ. मुझे उम्मीद है आपको मेरी ये कहानी पसंद आएगी. अब मैं बिना टाइम खराब किए सीधा अपनी कहानी पर आता हूँ.

ये बात तब की जब मैं **त क्लास मे था, मेरे साथ एक नेहा नाम की लड़की पढ़ती थी. मैं उसे बहोत पसंद करता था, और करूँ भी क्यो ना भला वो है ही इतनी सेक्सी .

मैं स्कूल मे एक सीधा साधा सा लड़का था, पर स्टडी के मामले मे बहोत तेज था. नेहा भी स्टडी मे काफ़ी अच्छी थी, धीरे धीरे हम दोनो मे बात चीत शुरू हो गई. मैं अब उसे अलग ही नज़रो से देखने लग गया था. वो भी शायद मुझे और मेरी नज़ारो को समझने लग गई थी.

दरअसल बात ये थी की हम दोनो एक साथ जवान हो रहे थे. मेरी नज़र अकसर उसके बूब्स पर आ रुक जाती थी. उसके बूब्स करीब 30 या 32 के होंगे. पर जैसे ही मैं उसके बूब्स को देखता था, मेरा मन उसका रस्स चूसने का करने लग जाता था.

मन तो करता था की अभी साली के बूब्स को मूह मे भर कर उसका सारा रस्स पी जाउ. नेहा स्कूल मे स्कर्ट डाल कर आती थी, दिन मे काफ़ी बार मुझे उसकी जाँघ दिख जाती थी, जिससे मेरा मन उसको चोदने का होने लगता था.

यह कहानी भी पड़े  माँ के संग नंगा मसाज

मेरे मूह मे पानी आ जाता था, और मैं आपको उसके होंठो के बारे मे बताता हूँ. नेहा के होंठ एक दम गुलाबी रस्स से भर हुए थे. मैं तो उसको चूसने के सपने देखता रहता था.

अब मुझसे और न्ही रुका जाता था, मैने एक फ़ैसला किया आज तो मैं नेहा से अपने प्यार का इज़हार कर दूँगा. फिर एक दिन वो लंच ब्रेक मे लंच कर रही थी, मैं उसके पास गया और उसके सामने बैठ कर उसे कहा.

मैं – हेल्लो नेहा.

नेहा – हा रवि बोलो.

मैं – मैने तुमसे कुछ कहना है.

नेहा – हा तो बोलो ?

मैं – नेहा आई लव यू सो मच.

ये सुनते ही नेहा एक दम चुप हो गई और उसका सिर शरम के मारे नीचे हो गया. फिर वो शर्मा कर वाहा से भाग उठी और जाते हुए उसने मुझे पीछे मूड कर देखा, और मुझे देख कर मुस्कुरा दी.

मैं खुशी से झूम उठा, क्योकि लड़की अगर हसी तो फसि. फिर उस दिन के बाद हम दोनो एक दूसरे को देखते रहते थे. बाकी सबसे चुपके चुपके बातें करने लग गये थे.

नेहा अपनी कुछ दोस्तो के साथ मेरे घर भी आने लग गई थी. मैं उसे अपने घर देख कर काफ़ी खुश हो जाता था. हम दोनो अकेले बैठ कर बातें करने लग गये थे.

मौका मिलते ही मैं नेहा के छोटे छोटे बूब्स को दबा देता था. इसमे मुझे और उसे बहुत मज़ा आता था. मैं उसके गालो पर किस भी कर लेता था, वो मुझे कुछ भी न्ही कहती थी.

यह कहानी भी पड़े  सिमरन, बड़े भाई की हॉट गर्लफ्रेंड

फिर एक दिन सनडे के दिन मेरे पापा अपने काम पर चल गये थे, और मम्मी और मेरी बड़ी बेहेन मासी के पास चले गये थे. वो तीनो शाम तक ही घर आने वाले थे.

इसलिए मैने फोन करके नेहा को अपने घर अकेले आने को कह दिया. पहले तो नेहा ने थोड़े नखरे करे, पर थोड़ी ही देर बाद वो मान गई. उसके घर आने से पहले मैने अपने पूरे घर को अच्छे से सेट कर दिया.

मैने अपना बेडरूम अच्छे से सज़ा दिया, कुछ ही देर मे वो घर आ गई. मैं सीधा उसे बेडरूम मे ले गया. बेडरूम मे उसे बिठा कर मैं उसके लिए कोल्ड ड्रिंक ले कर आया. फिर हम दोनो कुछ देर बातें करने लग गये.

नेहा – यार चलो आज कोई मूवी देखते है.

मैं – ठीक है मैं अभी लगाता हूँ.

तभी मेरे दिमाग़ मे एक ख़तरनाक आइडिया आया और मैने एक हिन्दी सेक्स वीडियो डीवीडी प्लेयर मे लगा दी. मैं और नेहा बेड पर पेट के बल लेटे हुए थे. तभी मूवी मे एक सुहाग रात वाला सीन चलने लग गया. इसे देख कर नेहा बोली.

नेहा – रवि तुमने कभी ऐसा किया है ?

मैं – न्ही क्या तुमने कभी किया है ?

नेहा – न्ही मैने भी न्ही किया ?

मैं – तो आज ये ट्राइ करें ?

नेहा – न्ही यार ये ग़लत है.

ये कहते ही नेहा उठ कर बैठ गई, और मैं भी उठ कर बैठ गया. फिर वो ज़्यादा ना नुकर कर रही थी. इसलिए मैने उसके होंठो पर किस कर दी. वो एक दम चुप हो गई.

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!