दोस्त की बीबी को नाशिक में चोदा – 1

[मैं जब भी कही जाता हु तो अपने साथ कंडोम और वियाग्रा के टेबलेट ले जाना नहीं भूलता हु] हम चारो ने एक साथ होटल में खाना खाये रात के 9 बजे तो कुछ ही देर में मेरी बीबी को हल्की हलकी वोमटिङ होने लगी तो बीबी ने कहा कि किसी डाक्टर के पास ले चलिए मुझे तो मैं होटल के काउंटर पर डाक्टर का पता पूंछा जो होटल से करीब 5 किलोमीटर शिर्डी रोड में था मैंने और मेरा दोस्त कार में बीबी को बिठाकर ले गए जब तक मैं कार पार्किंग कर रहा था तब तक मेरा दोस्त मेरी बीबी को डाक्टर के पास दिखाया तो डाक्टर ने कहा कि भर्ती करना पडेगा तो मैंने बीबी को प्राइवेट रूम में भर्ती कर दिया और दोस्त से बोला कि तू चला जा कार लेकर तो ओ बोला कि मुझे कार चलाना नहीं आता है , तो मैंने बोला चल मैं छोड़ देता हु तुझे तो ओ तैयार हो गया तो मेरी बीबी बोली दोनों चले जाओगे तो मैं अकेली डरूँगी तो मैंने बोला कि दोनों यहाँ रहेगे तो उधर नीलिमा अकेले डरेगी तो मेरी बीबी ने बोला कि आप चले जाओ आपको कार चलना आता है इनको [दोस्त का नाम लिया] यही छोड़ दो तो मैंने दोस्त से बोला तो ओ खुसी खुसी राज़ी हो गया , मैं तो मन ही मन खुस हो गया पर खुसी जाहिर किये बिना बीबी का एक किस लिया सर पर हाथ घुमाया और चला आया तब तक रात के 10 बज गए थे मैंने रास्ते में एक वियाग्रा कि टेबलेट खा लिया और होटल पहुच गया और नीलिमा के रूम का दरवाजा खटखटाया तो नीलिमा नाइट सूट पहने अंगड़ाई लेते हुए

नीलिमा इस तरह से कपडे पहने हुए अंगड़ाई लेते हुए दरवाजा खोला और मेरी तरफ मादक नजरो से देखा

दरवाजा खोला और मुझे देखकर चौक गई और बोली कि भाभी और ये [पति का नाम लिया] कहा है तो मैंने सब बता दिया तो ओ कुछ नहीं बोली , तब मैंने रूम कि चाबी माँगा तो चाबी दे दिया मैं रूम में आकर कपडे बदला और सोने कि तैयारी करने लगा पर मन में तो नीलिमा का सेक्सी जिस्म नाच रहा था मैं करवटे बदल ही रहा था पर नींद नहीं लग रही थी तो मैंने नीलिमा के मोबाइल पर मिस काल दिया तो बदले में नीलिमा ने भी मिस काल दे दिया तो मैंने फिर से फोन लगाया और बोला कि नींद नहीं आ रही है तो नीलिमा कुछ नहीं बोली और फोन काट दिया मैं कुछ देर में बीच के दरबाजे में दस्तक दिया तो नीलिमा ने दरवाजा खोल दिया मैं अंदर आ गया देखा कि नीलिमा कि लड़की सो रही है तब मैंने नीलिमा को पकड़ कर किस कर लिया और बूब्स को दबा दिया तो नीलिमा बोली ये जाग जायेगी रहने दो ना तो मैंने बोला कि किस तुम्हे कर रहा हु ओ कैसे जाग जायेगी इतना कह कर नीलिमा को गोद में उठा लिया और किस करने लगा तो ओ बोली नीचे करिये गिर जाउगी तो मैंने उसे नीचे कर दिया तो मेरी तरफ देख कर बोलती है कि आप तो मुझे ऐसे उठा लिए जैसे कोई छोटी बच्ची हु तब मैं उसको किस करते हुए बिस्तर पर बैठ गया और उसे चूमने लगा और बिस्तर पर लिटा दिया और लेट गया और हम दोनों कि चूमा चाटी चलने लगी इतने नीलिमा कि लड़की जाग गई तो नीलिमा उसकी तरफ घूम कर उसे सुलाने लगी तो मैंने नीलिमा को बोला कि इसे सोफे पर सुला दो नहीं तो फिर से जाग

यह कहानी भी पड़े  अंतर्वसना सेक्स मेरा अमर प्यार

जायेगी तो नीलिमा उठी और अपनी लड़की को सोफे पर सुलाने के लिए लड़की के साथ लेट गई करीब 5 मिनट लड़की गहरी नींद में सो गई तो मैं नीलिमा के पास गया और सोफे के पास बैठ कर नीलिमा की पीठ पर चूतड़ो पर कमर पर किस करने लगा नीलिमा के छोटे छोटे टाइट बूब्स को दबाने लगा बूब्स को दबाने तो नीलिमा सोफे से उठी और मेरे को किस करने लगी तो मैंने नीलिमा को गोद में उठा लिया और बेड पर लाया और नीलिमा की गाउन,ब्रा पेंटी को उतार दिया और मैं भी
नीलिमा कि दोनों टाँगो को अपने कमर में डाल कर लण्ड पेल दिया
नंगा हो गया और नीलिमा को लिटा दिया बेड पर और उसकी जांघो को ,पीठ को ,पेट को किस करने लगा किस करते करते नीलिमा कि चूत को चाटने लगा तो नीलिमा बोली इसे मत चाटिये नहीं तो मैं 5 मिनट में ही ठंडी हो जाउगी तब मैंने नीलिमा से पूछा कि तुम्हे कैसा सेक्स अच्छा लगता है तो नीलिमा बोली कि खूब देर तक मेरी चूत में लण्ड कि घिसाई बहुत अच्छी लगती है आप जितना देर तक स्ट्रोक मारेगे मैं उतना ज्यादा इंजॉय करुँगी ये [पति का नाम लिया] तो जल्दी से गरम करके 25-30 झटके मारकर मुझे झाड़ देते है और खुद भी रिलेक्स हो जाते है , तब मैंने बोला टीक है और नीलिमा को बिठा दिया और उसकी टाँगो को अपने कमर कि तरफ दोनों तरफ डाल लिया और पकड़ कर खीच लिया और अपने खड़े लण्ड को नीलिमा कि चूत में पेल दिया , तो नीलिमा बोली कंडोम लगा लो अभी कल ही बाल धोया है [बाल धोया मतलब माहवारी बंद हुई] और नीलिमा तकिये के नीचे से कोहिनूर कंडोम निकाला और उसकी पेकिंग को फाड़ कर मेरे लण्ड पर चढ़ाने लगी सुपाड़े कि चमड़ी खिसकाए बिना तो मैं नीलिमा से बोला कि इसको [लण्ड कि तरफ इसारा किया] नंगा करके कपड़े [कंडोम] पहनाओ तो बोली नहीं रहने दो ऐसे में ज्यादा देर तक रुकोगे और चढ़ा दिया और वापस से अपनी चिकनी मुलायम टांगो को मेरे कमर के बगल में डाल दिया और लण्ड के पास आपनी चूत को ले आई तो मैं लण्ड को उसकी चूत में डाल दिया चूत नारमल थी ना तो ढीली और ही ज्यादा टाइट , मैं धीरे धीरे लण्ड को पेल दिया और आगे पीछे करने लगा नीलिमा को किस भी करता ,नीलिमा के बूब्स को चूसता, नीलिमा बड़े मादक अंदाज में अपने चूतड़ो को आगे -पीछे करती अपने दोनों हाथो को बेड रख कर चूतड़ो के झटके मारती ,मेरे लण्ड पर करीब 5 मिनट तक इसी तरह से चुदाती रही नीलिमा पचौरी तब मैंने नीलिमा को बेड के किनारे खीच लिया और मैं बेड के नीचे खड़ा हो गया

यह कहानी भी पड़े  बहन की प्यासी सहेली की चुदाई

Pages: 1 2 3

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!