दो लंडो का स्वाद अपनी ही चुत मे

तब श्लोक का ध्यान अबे की गया | और श्लोक उठकर अबे के पास गया और बोला अगर चाहो में भी आपकी मदद करू तो रितिका ने झट से कहा हां क्यों नही तुम भी आ जाओ, श्लोक और अबे अपने लंड लिए हुए रितिका के मुह की और बड़े और रितिका इन दोनों को देख कर बोली बाह क्या बात है आज दो दो लंड मिल रहे है और मुह में लेकर चूसने लगी, रितिका बोली मेरे बदन में लगी आग को क्या ये दोनों बुझा सकते है ? तभी श्लोक बोला चल उठ इसको अपने होंटो से छु कर एक बार रॉड जैसा बना दे फिर फाड़ता हु तेरी इस तडपती चूत को अबे बोला हम दोनों तुमे एक साथ चोदे गे जिससे त्रि चूत और गांड को किसी के लायक नही छोड़ेगे, तो रितिका बोली मैंने भी तुम जैसे बहुत से लोंडो को चूत को फाड़ने का मौका दिया है मगर ऐसा कोई नही कर पाया, तो अबे देर किस बात की साली को एक साथ चोदते है वो भी बिना रुके ,

ओके रितिका तयार हो हा रे में तयार हूँ कही तुम्हारे लंड मेरी चूत में जाकर जवाब न दे दे ? तब अबे और श्लोक ने रितिका को खड़ा किया और श्लोक ने उसकी चूत में एक ही झटके से लंड अंदर डाल दिया और अबे ने पीछे से उसकी गांड में लंड डाला और दोनों जोर जोर से झटके मरने लगे और बोले अब बोल रंडी तेरी चूत क्या मांग रही है को दर्द हो रहा था और चिला रही थी अबे सालो मत मारो ऐसे झटके अब क्या मेरी चूत और गांड को फाड़ कर सांस लोगे | उनकी रफ़्तार और भी बड गयी रितिका की दर्द भरी आवाज़ पुरे रूम में गूँज रही थी और रितिका दो बार अपना पानी श्लोक के लंड पर छोड़ चुकी थी, अब अबे और श्लोक भी पानी छोड़ने ही वाले थे दोनों ने रितिका की गांड और चूत को पानी से भर दिया और लंड निकल कर उसके मुह में डाल दिए रितिका को सांस लेने में भी तकलीफ हो रही थी और लंड को एक साथ चाट रही थी | फिर अबे ने रितिका को बेड पर लेटा दिया और आप दोनों नहाने चले गये तब श्लोक वापिस मेरे साथ आ कर लेट गया और मुज को ढेर सारा प्यार करने लगे, सब पूरी तरह थक चुके थे और किसी को पता ही नही चला कब नींद आ गयी

यह कहानी भी पड़े  बीबियों की अदला बदली करके चुदाई की

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!