दिन दिहाड़े चुदाई साली की चूत

उसकी चूत और मेरे लंड का पानी मिक्स हो कर बाहर आ रहा था. जो की सच मे बहोत मस्त लग रहा था. मैं उसके चुत्तड़ थोड़े उप्पर उठाए और मैने देखा की रीता की गांड का छेद बहोत छोटा और गुलाबी है. मेरा लंड तभी फिर से खड़ा हो गया.

मैने चूत से निकलते पानी से अपने लंड को आगे से पूरा गिल्ला कर लिया. और उसी पानी से उसकी गांड को भी पूरा गीला कर लिया. रीता समझ गई थी की अब उसकी गांड फटने वाली है. मैने तभी उसकी गांड पर अपना लंड फेरा और धीरे-धीरे उसे मस्त करना शुरू कर दिया.

आख़िर मे मैने अपना लंड उसकी गांड के छेद पर सेट किया. और खुद उसके उप्पर आकर उसके होंठो को चूसने लग गया. वो भी मेरा साथ देने लग गई थी. मैने उसकी जीब को अपने मूह मे लिया और उसी टाइम मैने नीचे इतनी ज़ोर से धक्का मारा की मेरा आधा लंड उसकी गांड मे घुस गया था.

रीता चिल्ला भी नही पाई पर वो मेरे नीचे तड़पने लग गई. पर अब कुछ नही हो सकता था. इससे पहले वो दर्द से थोड़ा सा संभल पाती मैने एक और धक्के से अपना पूरा लंड उसकी गांड मे उतार दिया. रीता रोने लग गई. उसकी आँखो से आँसुओ की बाढ़ आ गई थी. जिसे मैं पी रहा था. पर मैने उसकी एक ना सुनी और ज़ोर-ज़ोर से उसकी गांड मरने लग गया.

करीब 25 मिनिट तक मैने उसकी गांड मारी जिससे उसकी गांड एकदम खुल गई. और अब मेरा लंड बड़ी आसानी से उसकी गांड मे अंदर तक जा रहा था. अब रीता भी अपनी गांड को उठा उठा कर बहोत मज़े से अपनी गांड मरवा रही थी. मेरे लंड ने फिर से अपना सारा पानी उसकी गांड मे भर दिया. और फिर मैं उसके उप्पर ही लेट गया.

यह कहानी भी पड़े  अंजाने मे मोम की चुदाई

उस दिन मैने उसे शाम को 5 बजे तक खूब अच्छे से चोदा वो उसी दिन से मेरी साली मेरी दीवानी हो गई थी. जब तक उसकी शादी नही हुई तब तक मैं उसे होटेल मे ले जा कर चोदता रहा. जब से उसकी शादी हुई है तब से ले कर आज तक मैने उसे फिर नही चोदा.

मुझे अक्सर अपनी मस्त रीता साली की याद आती है. अब फिर से वो मुझसे चुदि तो वो भी आप को ज़रूर बताऊंगा. फिलहाल आप मुझे ये बताओ की आप को मेरी ये कहानी कैसी लगी. और नीचे दिए हुए कॉमेंट्स बॉक्स मे मुझे अपने विचार लिख कर ज़रूर बताना. मुझे आप के कीमती कॉमेंट्स का इंतेजार रहेगा.

Pages: 1 2

error: Content is protected !!