दीदी के साथ मेरे लिव-इन रिलेशनशिप

दोस्तो, मेरी बड़ी दीदी का नाम प्रिया है. वो मुझसे 3 साल बड़ी है. वो मेडिकल पढ़ रही है. उसका नंबर हमारे यहा से दूर किसी दूसरी जगह लगा था.

जब तक वो यहा थी तब मै नया नया जवान हो रहा था. वो मुझे अपनी कामुक अदा से बहुत परेशान करती थी. वो जानबूझकर मुझेसे अपने मम्मे डबवाती. और मेरे लंड को मसलती रहती हर बार.

जब भी मैं उसका कुछ काम कर देता तो वो मुझे गाल की जगह लिप्स पर किस करती सब के सामने. और अगर अकेले मे हो तो नीचे का लिप्स अपने अंदर लेके चुस्ती रहती 1-2 मिनिट तक. पूरा हग करके कस के पकड़ती. और मेरा हाथ उसके गांड पे रखवाती.

वो जब भी कोई घर पर ना होता तो कपड़े दिखाने के बहाने मुझे अपनी ब्रा पेंटी दिखाती थी. एक बार तो वो मेरे सामने पूरे 2 मिनिट्स नंगी खड़ी थी.

उसके गोल गोल मम्मे. और गुलाबी चूत. वो मुझे देख चूत मसल रही थी. उसकी चूत पूरी चिकनी थी. बस उपर शेप मे छोटे छोटे बाल थे. इतना सेक्सी लगता था. मैं खुलने ही वाला था के उसका अड्मिशन उधर हो गया.

लेकिन अब हम बाय्फ्रेंड गर्लफ्रेंड की तरह रहने लगे थे. पूरी रात बाते करते. फोन पे क्या खाया, क्या किया आज दिन भर. और कट करते वक़्त दोनो एक दूसरे को आई लव यू बोलते उनकी क़िस्सी तो ख़तम ही नही होती.

वो सीधा बोलती मुझे तुझे टाइट हग करना है. तेरे होठ चूसने है. कब आएगा मुझसे मिलने. हम दोनो को पता था ये भाई-बेहेन से बढ़कर कुछ है, लेकिन इसी की आड़ मे हम दोनो अपनी अपनी हवस मिटा रहे थे.

अब मैं भी 12त पास हो गया. मैने दीदी के कॉलेज मे इंजिनियरिंग मे अड्मिशन लेली. जब हम वाहा गये तो सबसे मिलने के बाद दीदी ने मुझे उनका कॉलेज दिखाने के बहाने छत पे ले गयी.

यह कहानी भी पड़े  मुस्लिम भाभी की चुदाई कहानी

वाहा हम ने एक दूसरे को हग किया और किस करना चालू की. वो पहली टाइम थी जब मैं अपनी जिब दीदी के मूह मे देके चुस्वा रहा था. और दीदी की मैं चूस रहा था. हमने सांस लेना बंद किया. लेकिन किस से अलग नई हुए.

फिर एक लंबी सांस लेके वापस किस करना चालू किया अब मेरा हाथ गांड को मसल रहा था. मैने गांड पे ज़ोर ज़ोर से 3-4 चपेट लगाई.

फिर हम नीचे आगये, सब मे शामिल हो गये. पापा ने दोनो के लिए एक घर देख लिया. कॉलेज के पास ही. दिन भर हमने घर के समान की शॉपिंग की. शाम को मा ने खाना बनाया और फिर ख़ाके सो गये.

दूसरे दिन दीदी कॉलेज जा चुकी थी. मा ने उस दिन का खाना बनाया और फिर मैं उन्हे छोड़के आगया. आते वक़्त मैने बियर्स, कॉंडम, रूमफ्रेशनर एक रिंग, सेक्सी नेट वाली ब्रा पेंटी, वियाग्रा, ऐसी थोड़ी शॉपिंग करली .

शाम को जब दीदी घर आई तो मैने घर पूरा सज्जा दिया था. फुलो से बेडरूम तक रास्ता बना दिया था. जब वो अंदर आई तो फेन चालू किया सारे रूम मे फुलो की पंखुड़िया गिरने लगी. सोफे पर बियर्स और ब्रा पेंटी रखे हुए थे लाल रंग के.

तभी मैं दरवाजे के पीछे से आया और सीधा घुटने पे बैठ कर दीदी को रिंग दिखाकर प्रापोज़ किया. विल यो मॅरी मी दीदी. वो उछालने लगी. उन्होने झट से रिंग पहनली मुझे उठाकर हग किया. मैने फिर बियर का कॅन फोड़ा एक उनको एक मुझे ऐसे हमने वो दिन सेलेब्रेट किया.

यह कहानी भी पड़े  दीदी को चोद बन गया बहनचोद

फिर मैने उनके साथ 10-15 मिनिट्स रोमॅंटिक गाने पे चिपक कर डॅन्स किया. उसके बाद दीदी ने वो ब्रा पेंटी ली और बाथरूम चली गयी. मैने बेड सॉफ किया. और जाकर एक वाइग्रा खाली. और कॉंडम निकाल कर बाहर रखा. और बेड पे पोज़ लेके लेट गया.

थोड़ी देर मे दीदी बाहर आई. एक दम महकती. गोरा बदन उसपे लाल रंग का ब्रा पेंटी. जैसे ही मेरे पास आई मैने लपक के मेरे उपर लेके चूमना चालू किया. सन्नी लेओनी से कम नही लग रही थी मा कसम.

मैने उनका ब्रा निकाल कर फेका और बूब्स मसलने लगा. तभी उन्होने कहा. अजी आराम से, अब से आपकी ही हू.

मैं बूब्स मूह मे लेके चूसने लगा. वो भी बच्चो की तरह एक के बाद एक चुस्वाति रही. फिर पेंटी मे हाथ डाला तो पूरी चूत चिकनी. और चूत गीली गीली.

फिर मैने उसी पेंटी से चूत पोछी और उसे चाटने लगा. वो मेरे उपर आकर बैठ गयी और मज़े से चूत चटवाने लगी. फिर उसने मेरा लंड चूसना चालू किया. मेरे आंड भी चाटे यहा तक की मुझे फैला कर मेरे गांड का होल चाटा.

फिर उपर आकर अपनी बगल फैलाकर मुझसे चटवाया. फिर मैने कॉंडम लगाया जैसे ही धक्का मारा मुझे दर्द होने लगा. बहुत टाइट चूत थी. वो भी कराहने लगी दर्द से मुझे दूर करने लगी.पर मैं कहा सुनने वाला था.

मैने धक्के चालू रखे 8-9 धक्को बाद उसकी चूत गीली हुई इसलिए थोड़ा ईज़ी जाने लगा. अब तो वो भी मज़े से चुदवा रही थी. जब मैने उसे डॉगी स्टाइल मे बैठाया तो देखा चुत से खून निकल गया था. सील तोड़ी थी मैने.

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2

error: Content is protected !!