चार लड़कों ने मिलकर खूब चुदाई की

फिर थोड़ा देर बाद उसने एक पेग और पिया और उसके बाद उसने मुझे बेड पर लेटा दिया। उसके बाद वो मेरे दोनों पैरों के बीच में आ गया और अब उसने अपने लंड को मेरी चूत के छेद पर रख दिया और एक बार धक्का दिया, जिसकी वजह से मुझे बहुत दर्द हुआ और मेरे मुहं से अहहहहह उऊईईईईई माँ की आवाज निकल गई। फिर वो थोड़ा सा रुक गया और मेरे ऊपर लेट गया और मुझे किस करने लगा। जब मेरा दर्द उसको कम लगा तो वो दोबारा धीरे धीरे धक्के देने लगा और अब मैंने उसको कसकर अपनी बाहों में जकड़ लिया। में महसूस करने लगी थी कि धीरे धीरे उसका लंड मेरी चूत के अंदर अपनी जगह बनाता हुआ जा रहा था और उस वजह से मेरा दर्द बढ़ता ही गया। फिर एकदम उसने अपने लंड को बाहर निकाला और फिर एक ही जोरदार झटका दिया, जिसकी वजह से उसका पूरा लंड मेरी चूत में सनसानता हुआ चला गया। में तो मर ही गयी और मेरे मुहं से उम्म्म्मम आह्ह्हह्ह की आवाज निकल गई, लेकिन कुछ भी कहो उसका क्या लंड था? एकदम घोड़े के जैसा। पहली बार किसी मर्द का इतना मोटा बड़ा लंड मैंने देख लिया था। फिर वो मेरे होंठो पर किस करने लगा और साथ साथ अपने लंड को मेरी चूत के अंदर बाहर भी करने लगा था। में उम्म्म उफफफ्फ़ अहह्ह्ह करने लगी थी और थोड़ी देर के बाद मुझे थोड़ा सा आराम मिलने लगा था, लेकिन मुझे अब उस दर्द में भी मज़ा आ रहा था। फिर धीरे धीरे मेरा वो दर्द कम हो गया और अब उसके धक्के देने की वो रफ़्तार बढ़ने लगी थी और वो मुझे अब अपनी तरफ से ज़ोर ज़ोर से धक्के मारने लगा अहहहह उफ्फ्फ्फ़ आऊऊऊ मुझे मज़ा आने लगा और थोड़ा दर्द भी था। फिर थोड़ी देर के बाद झड़कर मेरी चूत का पानी निकल गया, जिसकी वजह से में सुस्त होकर शांत होती चली गयी और अब लंड के गीली चूत के अंदर, बाहर होने की वजह से पच्छ पच्छ की आवाज़ भी आने लगी। अब वो मेरे ऊपर से उठा गया उसने कहा कि तुम्हारा तो पानी बाहर आ गया। अब मेरा भी कुछ उद्धार तुम कर दो। फिर इतना कहकर उसने मेरा पेटिकोट उठाकर मेरी चूत को और अपने लंड को उससे साफ किया और फिर मेरी जांघे उठाकर बैठ गया। उसने दोबारा अपने लंड को मेरी चूत में डाल दिया और वो फिर से धक्के देना शुरू हो गया। वो लगातार धक्के मारने लगा था, लेकिन मैंने महसूस किया कि अब वो पहले से भी ज़्यादा स्पीड से धक्के देकर मुझे चोदने लगा था जिसकी वजह से उसका लंड और मेरी चूत भी उसके बड़े मज़े ले रहे थे क्योंकि अब वो लंड को अपने अंदर पूरा ले रही थी और लंड पूरा जड़ तक बहुत आसानी के साथ जा रहा था। फिर उसने कुछ देर मेरे दोनों बूब्स को अपने दोनों हाथों से पकड़कर धक्के देने शुरू किए अहह् वाह क्या मस्त दमदार मर्द था वो उसने मेरी तो पूरी चूत को फाड़कर ही रख दिया था। मुझे ऐसा लग रहा था जैसे वो मेरी पहली चुदाई थी और कभी तो मुझे ऐसा लग रहा था कि जैसे उसका लंड मेरे पीछे से ना निकल जाए आख़िर वो बड़ा भी तो बहुत था, लेकिन मुझे उसके बड़े लंड से अपनी चूत की चुदाई करवाने में बहुत मज़ा आया और एक बार फिर से मेरी चूत का पानी निकल गया, लेकिन वो तब भी नहीं रुका और वो मुझे वैसे ही ज़ोर ज़ोर के धक्के देकर चोदता रहा और थोड़ी देर बाद उसके लंड का पानी भी अब बाहर आ गया और उसने मेरी चूत को अपने उस गरम गरम वीर्य से पूरा भर दिया था जो बहकर बाहर भी निकलने लगा था और अब वो मेरे ऊपर लेट गया, मेरे होंठो को चूसने लगा बूब्स के सहलाने लगा।

यह कहानी भी पड़े  Meri Kunvari Gaand Ki Shaamat Aa Gai- Part 2

अब वो मुझसे पूछने लगा क्यों तुम्हे अब कैसे लगा मेरी रानी मेरे साथ चुदाई करके मज़ा आया कि नहीं? तो मैंने उससे कहा कि हाँ मुझे इसमे बहुत मज़ा आया और तुम्हारा तो वैसे भी इतना बड़ा है, इसको अपने अंदर लेकर किसको मज़ा नहीं आएगा और वैसे भी अब तो तुम्हारे लंड ने मेरी चूत में अपनी आने जाने की जगह बना ली है, अब तुम मुझे खूब चोदो। अब एकदम उसने मेरे निप्पल को चूसना शुरू किया और फिर इस तरह पूरी रातभर उसने मुझे बहुत ज़ोर ज़ोर से धक्के देकर पांच बार चोदा जिसकी वजह से मेरी चूत पूरी तरह से खुलकर मज़े लेने लायक हो चुकी थी। मुझे अब दर्द तो बिल्कुल भी नहीं हो रहा था और एक बार उसने मेरी गांड भी मारी, लेकिन मेरी गांड उसका मोटा और लंबा लंड नहीं ले सकी इसलिए ज़्यादा उसने मेरी चूत को ही चोदा और उसके बाद वो मुझसे बोला कि सच तुम तो बड़ी ही मस्त कमाल की चीज़ हो, जब मैंने तुम्हे पहली बार काले रंग की साड़ी में देखा था तभी में समझ गया था कि तुम बहुत सेक्सी हो और तुम मेरे लंड से बहुत मज़े करोगी और फिर ठीक ऐसा ही हुआ।

Pages: 1 2 3 4 5

error: Content is protected !!