गाओं मे बुआ की बेटी के साथ सेक्स

मैने करीब हाफ अवर बूब्स की मालिश किया और चूत की तरफ हाथ बढ़ाया उसने रोक दिया कहा आगे नही बढ़ना प्लीज़ उसने उसकी वर्जिनिटी उसके पति के लिए रखी थी, .मुझे गुस्सा आया और एक थप्पड़ जड़ दिया उसे तो वो रोने लगी.

मैने झट से उसका सलवार उतार फेका और बादमे पैंटी मे भी चुत बहोत चमक रही थी, बालो की वजह से मैने हाथ लगाया तो वो उछल पड़ी पहली बार किसी मर्द का हाथ उसकी चूत पर था मैने चूत मे उंगली डाली तो वो कराह ने लगी.

मैने उसे सीधा लिटाया और पैर फैलाकर लंड सेट किया, और एक ज़ोर का झटका दिया लंड का टोपा अंदर फस चुका था और इधर दी की जान जा रही थी वो दर्द से काँपते हुए रो रही थी उसकी मु से आवाज़ नही आ रही थी.

कहानी पढ़ने के बाद अपने विचार नीचे कॉमेंट सेक्षन मे ज़रूर लिखे, ताकि देसीकाहानी पर कहानियों का ये दौर आपके लिए यूँ ही चलता रहे.

मैं थोड़ा टाइम रुका जैसे ही उसका दर्द कम हुआ मैने और एक झटका दिया लंड चूत को चीरते हुए पूरा अंदर जा चुका था इधर वो दर्द से तड़प रही थी बेड पे ब्लड गिर चुका था बहोत ब्लड निकला, मैने उसे किस किया और प्यार किया बूब्स सक किए थोड़ा टाइम.

जब उसका दर्द कम हुआ तो मैं धीरे धीरे चोदना स्टार्ट किया वो भी अब एंजॉय कर रही थी और रेस्पॉंड भी कर रही थी गॅंड उठाके, मैं जनन्त की सैर कर रा था करीब 30 मीं बाद मैं झड़ गया और उसके उपर ही लेट गया.

यह कहानी भी पड़े  गर्लफ्रेंड रूबी की कुँवारी चूत

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!