बॉयफ्रेंड ने मेरी मम्मी और मुझे चोदा

अब यश आराम-आराम से अपने लंड को अन्दर बाहर कर रहा था। फिर जैसे-जैसे वो अपने लंड को अंदर बाहर करता रहा, मेरा दर्द कम और मजा ज्यादा आने लग गया था। अब मम्मी मेरी चूचीयाँ दबा रही थी, तो कभी मेरे होंठ चूस रही थी। अब धीरे-धीरे यश की स्पीड बढ़ने लग गयी थी। अब में आनंद के सागर में गोते लगा रही थी आहहहहहहहहह, ओहहहहहहहहह, आहहहहहहह, ऊहहहहहहहह मेरे मुँह से ऐसी सिसकारियां निकल रही थी और गर्म साँसे निकल रही थी ऊईईई माँ मार डाला रे जालिम ने, यश और चोद, चोद-चोदकर मेरी चूत फाड़ दे, चोद ना मेरे राजा, जी भरकर चोद, में कब से तेरा लंड लेने को बेरार थी? चीथड़े उड़ा दे अपने लंड से मेरी चूत के, आहहहहहहहहह, ओहहहहहहहहह, आहहहहहहह, ऊहहहहहहहह। फिर यश ने अलग-अलग पोजिशन लेकर मुझे जी भरकर चोदा। फिर जब यश ने मुझे कुत्तिया बनाकर चोदा, सच में बहुत मजा आया था, वो उस पोजिशन में क्या चोद रहा था? अब मुझे जीवन का सारा आनंद मिल रहा था, में आज तृप्त हो गयी थी। अब यश के चोदते-चोदते में तीन बार झड़ चुकी थी। अब यश भी झड़ने वाला था। तो तब मैंने यश से कहा कि यश अपने लंड का माल मेरी चूत में गिराना, ताकि में तुम्हारे बच्चे की माँ बन सकूँ।

फिर यश के गर्म-गर्म माल ने मेरी चूत को ऐसे शांत किया कि मजा आ गया था। फिर थोड़ी देर तक यश मेरे ऊपर ऐसे ही लेटा रहा। फिर उसके बाद हम तीनों ने मिलकर नंगा डांस किया और डांस करते करते यश मेरी और मम्मी की चूची का मजा लेता रहा और हम दोनों को बाँहों में लेता रहा। अब डांस करते-करते हम फिर से गर्म हो गये थे। फिर अबकी बार यश ने मम्मी को चोदा। अब में भी बहुत गर्म हो थी, शायद काफी देर से बाहर मेरा छोटा भाई हम सबकी हरकत देख रहा था, क्योंकि जब में अन्दर आई थी तो में दरवाजा बंद करना भूल गयी थी। अब वो अंदर आ चुका था और फिर मेरी नजर उसके पजामे पर पड़ी तो उसका लंड खड़ा हो चुका था। अब उसका भी चोदने का मन हो रहा था। फिर मैंने मम्मी से कहा कि तू यश से चुदवा ले और में भाई को शांत करती हूँ। फिर मैंने अपने भाई को अपनी तरफ खींचा और उसके होंठ चूसने लग गयी थी।

यह कहानी भी पड़े  मेरे मंगेतर ने मुझे शादी से पहले ही चोदा और प्रेग्नेंट भी कर दिया

फिर मैंने उसका पजामा नीचे करके उसका लंड बाहर निकाला, उसका लंड यश के लंड जितना तो नहीं था मगर गोरा और चिकना बहुत था। फिर मैंने काफी देर तक अपने छोटे भाई का लंड चूसा और फिर उसे नीचे लेटाकर उसके ऊपर आ गयी और उसका लंड अपनी चूत में लेकर उससे चुदवाने लगी थी। अब यश मम्मी को और में अपने भाई से जोड़ी के रूप में चुदाई का आनंद लेने लग गये थे। फिर उसके बाद में मैंने यश से भी चुदवाया और मम्मी ने भाई से चुदवाया। फिर पूरी रात हमारी चुदाई का खेल चलता रहा और फिर हम सुबह 4 बजे सोंए। अब हमें डिस्टर्ब करने वाला कोई नहीं था। फिर हम चारों नंगे ही सो गये और फिर 11 बजे उठे। फिर हम सब बाथरूम में जाकर नंगे ही नहाए और एक बार बाथरूम में भी चुदाई का मजा लिया। फिर उसके बाद से लेकर अब तक में 5 लोगों से चुद गयी हूँ, मेरे चाचा और मेरे बड़े भाई यानि मेरे ताऊ के लड़के ने भी मुझे चोदा है। अब मुझसे चुदाई के बिना नहीं रहा जाता है। अब में अपने छोटे भाई और अपने बॉयफ्रेंड से अक्सर चुदाई का मजा लेती हूँ ।।

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!