बीवी नही तो साली ही सही

हेल्लो फ्रेंड्स, मैं अजय आपका दोस्त. मेरा नाम तो आप जानते ही हो और मैं दिखने मे काफ़ी स्मार्ट हूँ. और हो भी क्यू ना आख़िरकार मैं हूँ ही इतना स्लिम और फिट.

मैं बहोत ही मज़े से रहता हूँ. मेरी शादी हो रखी है और मेरी बीवी मुझसे बहोत प्यार करती है. और करे भी क्यू ना आख़िरकार वो मेरी बीवी है. और मैं उससे बहोत प्यार करता हूँ.

ये कहानी तब की है जब मेरी बीवी प्रेग्नेंट थी. कहानी भी शुरू करूँगा पर उससे पहले मैं आपको अपने बारे मे बताना चाहता हूँ.

मैं अपनी बीवी की बहोत चुदाई करता हूँ. और उसे खूब प्यार भी करता हूँ. मैं उसकी चुदाई खूब अच्छे से करता हूँ और उसे भी चूत मरवाने मे खूब मज़ा आता है.

मैं ऐसे ही उसकी कई बार गांड भी मार लेता हूँ और मारू भी क्यू ना आख़िरकार वो मेरी बीवी है. और सच बताउ तो वो मेरे लंड को बहोत ही अच्छे तरीके से चाटती है. मुझे उसके मूह को अपने लंड से चोदने मे खूब मज़ा आता है.

और खास कर तब जब मैं उसके मूह मे अपना पानी निकालता हूँ और वो मज़े से पी भी जाती है.

ऐसे ही फिर तब वो प्रेग्नेंट हो गई. मैं ये न्यूज़ सुन कर बहोत ही खुश हो गया. और होता भी क्यू ना आख़िरकार मैं बाप जो बनने वाला था. और बच्चे के आने की खबर को सुन कर तो हर कोई खुश हो जाता है तो ठीक मेरे साथ भी ऐसा ही हुआ.

चलो अब मैं कहानी पर ले कर चलता हूँ. तो दोस्तो बात तो तब की है जब मेरी बीवी प्रेग्नेंट थी. और स्टार्टिंग मे तो थोड़ा बहोत कुछ कर ही लेते है पर बाद मे हम सेक्स न्ही कर पाते है. तो ठीक वैसे ही मेरे साथ भी हुआ.

यह कहानी भी पड़े  पड़ोसन शोभा की सील तोड़ी

मैं स्टार्टिंग मे तो कुछ करलेता था पर बाद मे जब डॉक्टर्स ने भी मना कर दिया तो मेरा मन उसे चोदने का करता था.

पर मैं कुछ कर न्ही सकता था. मैं बहोत खुश था. और तो और मैं उसे भी बहोत खुश रखा करता था. पर मुझे अपने लंड की प्यास को कम करने का रास्ता न्ही दिख रहा था. पर तभी मेरे माइंड मे एक बात आई की मैं अपनी साली पूजा को ही क्यू न्ही चोदु.

मैने ये सब अपनी बीवी से ही सुना था की वो मेरे ससुराल के शहर मे ही रहती है. और तो और उसका पति शराबी है और उसे बहोत सुनाता भी है..

और उनके बीच फिज़िकल न्ही हो पता है क्योकि उसका पति उससे प्यार न्ही करता है. और ये सब बाते सुन कर मेरे माइंड मे आ गया क्यू ना उसे ही पटाया जाए और उसे ही पट्टा कर उसको चोदा जाए.

ये सब सोच कर मैं काफ़ी खुश हो गया और तो और काफ़ी सपने भी देखने लग गया. मैं तो बस ये चाहता था की वो जल्दी से मुझे हाँ कर दे और मैं उसे चोद डालु.

फिर एक दिन मैं अपनी बीवी के साथ अपने ससुराल गया हुआ था. वाहा पर मैं सबसे मिला और फिर उसके बाद मम्मी ने मुझे पूजा के घर उसको ले कर आने के लिए भेज दिया. मैं उसे घर पर लाने के लिए पागल हो रहा था. और तो और मैं खुश भी था की मुझे आज मौका मिल ही गया

यह कहानी भी पड़े  दादी गलती से ओर मम्मी की जबरदस्ती चुदाई

मैं उसके घर पर गया और फिर मैने डोर बेल बजाई तो उसने आ कर दरवाजा खोला. मैने देखा की वो अभी न्हा कर ही आई थी और उसने नाइटी डाल रखी थी. घर पर वो अकेली थी तो मैने उसके पति के बारे मे पूछा तो उसने कहा की वो 2 दिन के लिए टूर पर गये हुए है.

ये सुन कर मैं काफ़ी खुश हो गया और फिर वो चाय बना लाई और हमने इधर उधर की बाते करके चाय ख्तम करी. और वो फिर तयार होने अंदर चली गई.

मैं भी उसके पीछे पीछे चला गया. कमरे का दरवाजा खुला हुआ था तो मैं बाहर ही खड़ा हो कर उसे देखने लग गया. वो अब सिर्फ़ पेंटी मे थी और उसका फिगर देख कर मैं पागल हो गया था. मेरा लंड तो खड़ा हो गया था और मैं पागलो की तरह लंड को उपर नीचे करे जा रहा था.

फिर उसके बाद वो एक दम से छिप गई. वो आल्मिराह के वाहा चली गई जहा मैं न्ही देख सकता था. और फिर एक बार ऐसे ही फिर से हुआ पर अब वो बाहर ही आ गई. और मुझे देख कर बोली.

पूजा – जीजू आप यहा क्या कर रहे हो?

मैं – कुछ न्ही.

और ये कहते ही मैने उसे अपनी बाहो मे भर लिया और उसे कह दिया की मैं तुम्हे चोदना चाहता हूँ.

पूजा – न्ही जीजू ये सही न्ही है और दीदी को पता चलेगा तो वो टूट ही जाएगी.

मैं – देखो आज के टाइम मे हर चीज़ की ज़रूरत होती है ठीक वैसे ही इसकी भी होती है.

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!