भाभी ने माँ को चुदवाया

तो मैंने एकदम से माँ की चूत के दाने को मुहं से कसकर चूसा और माँ चिल्लाई उफफफफ्फ़ आईई क्या कर रहा है.. छीईई.. मुहं हटा वहाँ से वो गंदी चीज़ है बेटा। तो में कहने लगा कि नहीं माँ मुझे अच्छी लगती है और माँ उफफफ्फ़ अहह कर रही थी.. फिर मुझे जोश चड़ने लगा तो में और चूत पर मुहं से झटके लगाने लगा माँ उफफफफफ्फ़ अहह और मेरा सर चूत में दबाने लगी। फिर माँ ने कहा कि चल बस हो गया अब छोड़ दे। तो मैंने कहा कि अभी तो इसकी प्यास बुझाऊंगा माँ यह सुनते ही बोली कि तू समझदार है और सब जनता है.. फिर भी मुझे तड़पा रहा है। इतना प्यारा लंड है तेरा..

कितना मज़ा देगा यह आह उफ़फफफफ और फिर शरमाने लगी और वो पूरे जोश में थी.. फिर कहने लगी कि बेटा मेरी साड़ी खोल दो ना। तो मैंने माँ की साड़ी खोली और माँ का ब्लाउज, ब्रा और अब माँ के विशाल बूब्स मेरे मुहं में थे और माँ ने सिसकियाँ भरना शुरू कर दिया और दूसरा बूब्स मेरे मुहं में डाल दिया। तो मैंने माँ का नाड़ा खोल दिया और माँ का पेटिकोट खुल गया और नीचे गिर गया.. माँ पूरी नंगी थी। अब माँ क्या लग रही थी.. सर पर बिंदी बूब्स पर लटकता मंगलसूत्र और हाथों में चूड़ियां और पेरों में पायल और बिल्कुल नंगी.. दोस्तों आज मेरा सपना सच होने जा रहा था.. मैंने कहा कि माँ में आपकी चुदाई के पहले चूत में सिंदूर भरूँगा.. तुम्हे पहले अपना बनाऊँगा फिर चोदूंगा.. तो माँ कहने लगी कि तुझे जो करना है कर..

यह कहानी भी पड़े  अपने बॉस से सेक्स सम्बन्ध बनाई

लेकिन मेरी प्यास बुझा दे.. में बहुत बहुत दिनों से भूखी हूँ.. तेरे पापा भी यहाँ पर नहीं रहते है। फिर मैंने सिंदूर का लाल तिलक झांटो के ऊपर लगा दिया और माँ की चूत के होंठो पर लिस्टिक लगाई और फिर उसे किस करने लगा माँ उफफफफफ्फ़ कितना अच्छा बेटा है तू.. थोड़ा लंड पर शहद लगा ले.. में भी तेरा लोलीपोप चूसूंगी.. तो माँ और में 69 पोज़िशन में एक दूसरे के लिंग और योनि को चूसने लगे उफफफफ्फ़ हफफफ्फ़ बेटा बहुत मज़ा आ रहा है। तुम्हारे लंड से शादी करके अच्छा लग रहा है और में माँ के ऊपर ही लेट गया तो मैंने माँ की चूत पर मेरा लंड लगाया। वो एकदम चिल्ला गई.. लेकिन चूत गीली होने के कारण माँ ज्यादा ज़ोर से नहीं चिल्लाई और कहने लगी कि उफफफ्फ़ कितना मोटा है.. मेरी चूत को इसे लेने के लिए पूरा मुहं खोलना पड़ रहा है। फिर मैंने धक्के और तेज़ कर दिए और माँ ने भी चूतड़ को उछालना शुरू कर दिया।

फिर वो कहने लगी कि उफ़फ्फ़ अह्ह्ह बेटा और तेज़ करो.. माँ को चोद और चोद उउफफफफ्फ़.. बुझा दे इसकी प्यास.. तो में माँ के दोनों पैर अपने हाथ से पकड़कर चोदने लगा और चूमने चाटने लगा। तो माँ कहने लगी कि तू मुझसे कितना प्यार करता है? तो मैंने माँ को अपनी गोद में ले लिया और हम एक दूसरे से चिपक कर चूमने लगे.. माँ उफफफफफ्फ़ आअहह बेटा बहुत मज़ा आ रहा और माँ ने कहा कि तू थक गया होगा और माँ मेरे ऊपर आ गयी और मेरे लंड पर बैठ गयी और उचकने लगी और फिर लंड पर चूतड़ को गोल गोल घुमाने लगी..

यह कहानी भी पड़े  जवान बेटी की अन्तर्वासना बाप ने शांत की

माँ उफफफ्फ़ आह बेटा में तुमसे बहुत प्यार करती हूँ और माँ कहने लगी कि में झड़ने वाली हूँ और फिर मैंने माँ को गोद में ले लिया और माँ को लेकर खड़ा होकर चोदने लगा। माँ की चूत और चूतड़ को खड़े खड़े उछाल रहा था और माँ मेरे गले में हाथ डालकर किस कर रही थी और मेरे निप्पल चूस रही थी। फिर स्मूच करते ही माँ झड़ गयी और फिर मैंने भी झड़ गया और फिर में और माँ नंगे ही सो गये। फिर माँ और मैंने खाना खाया और हम दोनों पूरे दिन नंगे रहे और हमने 4 बार और चुदाई की और फिर हम सो गये ।।

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!