भाभी की बच्चे की लालसा

मुझे इसमे काफ़ी मज़ा आ रहा था और मैं अपनी आँखे बंद करके सब मज़े ले रहा था. फिर जब मुझसे बर्दाश नही हुआ तो मैने अपनी आँखे खोली और अपनी बाहे खोलते हुए उसे अपनी बाहो मे जकड़ लिया.

वो भी अब मेरी बाहो मे आ गई और फिर हम दोनो एक दूसरे के होंठो को होंठ मे डाल कर चूसने लग गये. हमे एक दूसरे को किस करने मे काफ़ी मज़ा आ रहा था.

अब क्या था, अब जब इतना हो ही गया था तो बाकी का करने मे कोई देरी नही होनी थी. फिर मैने उसके कपड़े उतार दिए और उसको अपनी नज़रो के सामने बिल्कुल नंगा कर दिया. नंगी वो एक दम मस्त लग रही थी और मैं उसके बड़े-बड़े बूब्स हाथ मे ले कर दबा रहा था.

जिससे वो गरम साँसे निकालने लग गई थी. अब मैने उसके बूब्स मूह मे भर कर चूसना शुरू कर दिया और वो मेरे लंड को हाथ मे ले कर उप्पर नीचे करने लग गई थी. मैं अब उसकी चूत पर आ गया और अपनी जीब से चूत को चाटने लग गया.

क्या मस्त चूत थी एकदम गुलाबी और चिकनी पड़ी थी. मुझसे तो खुद ही विश्वास नही हो रहा था की आख़िर ये हो कैसे रहा था.

फिर मैने जीब से उसकी चूत को चाटा जिससे उसका पानी निकल गया और वो तड़पने लग गई. तब उसने मुझसे कहा की अब अपने लंड से इसे चोद डालो, इसकी प्यास को भुजा दो.

अब क्या था, अब मैने सीधा ही लंड को चूत पर रखा और चूत मे लंड को उतार दिया. वो एकदम से चीखी और चिल्लाई पर मैने कोई परवाह नही करी और जबरदस्त तरीके से चोदने लग गया.

यह कहानी भी पड़े  क्रतिका की पहली चुदाई

करीब 30 मिनिट की चुदाई के बाद मेरा पानी निकला तो मैने उसकी चूत मे ही निकाल दिया और उससे लिपट कर सो गया.

जब भी अब मुझे भाभी को चोदना होता है तो भाभी कभी मना नही करती है

Pages: 1 2

error: Content is protected !!