भाभी ने सेक्स की गोली खिलाकर चूत चुदवाई

भाभीजी के कहने पर हम बातें करने लगे.
ऐसे ही बातों में वो पूछने लगी कि रामू तुम्हारी तो गर्लफ्रेंड भी होगी?
हमने कहा कि हां है.
फिर वो बोली- तो फिर उसके साथ तो तुमने ‘वो’ भी किया होगा.
हमने कहा- क्या मतलब भाभीजी, हम कुछ समझे नहीं.

हम भाभी जी की बात का सब मतलब समझ गया था मगर हम नाटक कर रहे थे.
फिर भाभी जी बोली- क्या तुम अपनी गर्लफ्रेंड के साथ सेक्स भी किये हो?
मैं बोला- नहीं भाभी जी, हम उसके साथ सेक्स तो नहीं किये हैं कभी.

भाभी बोली- तुम्हारा मन तो करता होगा सेक्स के लिए, या फिर वो तुमको करने नहीं देती?
भाभी की बात सुन कर हमारा लंड हमारी पैंट में तन गया था.
मैं बोला- भाभीजी मन तो बहुत करता है, मगर अभी हमारी नई नई दोस्ती हुई है उसके साथ इसलिए हमने कुछ नहीं किया है.

वो बोली- तो फिर हमारे साथ करोगे क्या?
हम भाभी की तरफ हैरानी से देखने लगा. वो एकदम से सेक्स बात कहने लगी तो हमको अंदाज ही नहीं हुआ कि ये भाभी अपने मुंह से हमारे साथ सेक्स करने की बात बोल रही है.

हमारा लंड तो पहले से ही तना हुआ था. भाभी ने मेरा लंड पर हाथ रख दी. हम भी जोश में आ गया. लंड जोर से फड़कने लगा. भाभी हमारे पास में आ गयी और हम दोनों एक दूजे को किस करने लग पड़े. भाभी जोर से मेरा होंठ पकड़ कर अपने होंठ से चूस रही थी.

मैं भी भाभी के मुंह में जीभ डाल कर उसका रस का मजा लेने लगा. भाभी के चूचियों पर हमारे हाथ अपने आप ही चले गये थे. हम उनकी चूची को जोर से दबाने लगा. उनकी चूचियों को दबाते हुए हमको बहुत मजा मिल रहा था.

यह कहानी भी पड़े  आशीष मेरी चूत खा जाओ!

हम दोनों काफी देर एक दूजे को चूमे और फिर भाभी कहने लगी कि रामू मैं तुम्हारे लिये दूध लेकर आती हूं. वो अंदर चली गई और जब वापस आई तो हम उसको देखते ही रह गये. वो अपनी नाइटी निकाल दी थी. हमारे सामने वो केवल ब्रा और पैंटी में मटकती हुई चली आ रही थी.

भाभी को इस रूप में देख कर हम पगला उठे. उनका फीगर 40-32-38 का रहा होगा. वो दूध लेकर हमारे पास बैठ गई. उसकी चूचियों को देख कर हमसे रहा नहीं जा रहा था. हमने जल्दी से सारा दूध गटक लिया और भाभी को अपनी तरफ खींचने की कोशिश किये.

वो बोली- अपने कपड़े नहीं उतारियेगा?
हम बोले- जरूर भाभी, लेकिन आप ही उतार दीजिये न.
फिर भाभी हमारे कपड़े को उतारने लगी.
पहले उसने हमारी बुशट (शर्ट) को खोला और फिर हमारी पैंट को खोल दी.

कच्छे में हमारा लंड एकदम से फनफना रहा था. हम भाभी की चूत चोदने के लिए मरे जा रहे थे. मगर अभी भाभी को गर्म करना था. मैं भाभी की ब्रा को उतार दिया और उसके दूधों को पीने लगा. उसके दूध बहुत मोटे थे. भाभी के निप्पल गहरे भूरे रंग के थे जो उसके दूधों के बीच में बहुत ही जबरदस्त लग रहे थे.

अब हम भाभी की चूत की तरफ मुंह कर दिये. मैं भाभी की बुर को चाटना चाह रहा था. हमने भाभी की पैंटी को उतार दिया. उसकी बुर को देख कर हम खुश हो गये. भाभी ने चूत के बाल साफ करके उसको बिल्कुल चिकनी कर दी थी.

उसकी चूत को देख कर हमने कहा कि भाभीजी हमको आपका चूत चाटना है. हमारी गर्लफ्रेंड सेक्स नहीं करने दी थी इसलिए हमारा बहुत मन है चूत को चाटने का.
भाभी बोली- हां रामू, तुम्हारे लिये ही तो मैंने इसको साफ किया है.

यह कहानी भी पड़े  फेसबुक की अनजान लड़की से प्यार

ऐसे बोल कर वो हमारे सामने अपनी चूत को खोल बैठी और चाटने के लिए बोली. हमने उसकी चूत पर किस किया. उसकी चूत पर किस करते ही हम चूत चाटने के लिए पगला गये. हम उसकी चूत को तेजी से चूसने लगे.

बहुत मजा आ रहा था चूत को चाटने में हमको. बहुत देर तक हम भाभी की चूत को चाटा तो भाभी हमारे मुंह में ही झर गई. मेरा मुंह पर भाभी की चूत का रस पूरा फैल गया था. हम उसकी चूत के रस को जीभ से साफ कर दिये.

फिर वो बोली कि तुमने मेरी तो चाट ली मगर तुम्हारा मन नहीं कर रहा है अपना ये हथियार मेरे मुंह में देने के लिए?
हम लंड की ओर देखे तो वो तन कर पूरा खड़ा था. हमने कहा कि भाभी आपको पसंद हो तो कर दो.
वो बोली- हां, तुमने मुझे इतना मजा दिया है तो मैं भी तुमको ऐसे ही मजा दूंगी.

वो एकदम से घुटनों पर जा बैठी और मेरा लंड को मुंह में भर ली. फिर वो उसको अंदर लेकर चूसने लगी. हमको बहुत मजा दे रही थी भाभी. हमने पहले कभी अपना लंड किसी के मुंह में नहीं दिया था. हम तीन-चार मिनट में ही पानी छोड़ देते थे, आज नहीं आ रहा था. दस मिनट तक भाभी लंड को चूसती रही.

Pages: 1 2 3 4

error: Content is protected !!