भाभी और मेरा चुदक्कद प्यार

जब हमने बीच मे जाने का प्लान बनाया तो भाभी ने सिर्फ़ नाइटी पहेन ली. और भाभी को इस अवतार मे देखते ही मेरा लंड खड़ा हो गया. मैं जैसे तैसे खुद को कंट्रोल किया और भइया-भाभी के साथ बीच के नज़ारे लेने चल पड़ा. हम तीनो आराम से बीच मे घूम रहे थे और इस बीच भइया ने मेरे भाभी के गीले जिस्म पर हाथ रख दिया.

हाथ रखते ही भाभी के मूह से गरम सांस की आहह निकल गई. ये सुनते ही मैं समझ गया की सब ओके है और मेरा रास्ता सॉफ है.

ऐसे ही अब मैने पानी मे हो कर भाभी के पीछे हो गया और अपने लंड को भाभी की गांड पर टच करने लग गया. उस समये मेरे लंड मे जो हलचल मच रखी थी वो तो बस मैं ही जनता हूँ की मैने कैसे कंट्रोल करी.

इससे पहले की मैं कुछ और भी कर पता उतने मे भइया पीछे हो गये. हमने फिर वाहा खूब मज़े किए और घर की ओर आ गये.

घर आ कर मैने एक प्लान बनाया की भाभी को चोदने के लिए, भइया को दारू के नशे मे डुबना पड़ेगा. इसलिए मैं भइया के साथ दारू पीने लग गया और हम फिर रात के 1 बजे जा कर सोए.

सब कुछ मेरे प्लान के हिसाब से चल रहा था और फिर मैने थोड़ी देर बाद भाभी के फोन पर फोन किया तो भइया ने फोन उठा लिया. फिर मैने उनको बहाना लगाया की मुझे ठंड लग रही है और मेरे पास चद्दर नही है. क्या मैं आपके साथ चद्दर शेयर कर सकता हूँ.

यह कहानी भी पड़े  पुष्पा आंटी की चूत चोदने की ख्वाहिस

भइया ने ये बात सुनते ही ठीक है कहा और दरवाजा खोल कर सो गये. फिर मैं जब आया तो भाभी से लिपट कर सो गया. मैं जनता था की भाभी को कोई दिक्कत नही है इसलिए मैं धीरे उनके जिस्म को दबाने लग गया.

पर भाभी को तो डर लग रहा था की कही मुकेश भइया जग ना जाए. इसलिए वो कुछ देर बाद बाथरूम मे चली गई और मै भी उनके पीछे पीछे वॉशरूम मे चला गया.

फिर क्या था, फिर मैने कुछ नही देखा और भाभी को नंगा कर के उन्हे टॉयलेट सीट पर बैठा दिया. उनकी टाँगे खोल कर मैने एक ही धक्के मे लंड पूरा डाल दिया और बड़े जबरदस्त तरीके से चोदने लग गया.

ये चुदाई करीब 20 मिनिट चली और फिर मैने अपना पानी उनकी चूत मे ही निकाल दिया और वापिस आ कर हम सो गये,

Pages: 1 2

error: Content is protected !!