सास बनी हमराज करी बहू की चुदाई

पर यह बात हम दोनों के बीच ही नहीं रही. सासू माँ सच कह रही थी. मेरे पति तो मादरचोद निकले. उधर मेरे ससुर का बड़ा लौड़ा सुन कर तो मेरे मुंह में पानी आ गया. मैं बड़ी बेसब्री से अपने ससुर का इंतज़ार कर रही थी. इस के लिए मुझे ज्यादा दिन ठहरना नहीं पड़ा. २ दिन के बाद ही ससुरजी और मेरे पतिदेव आ पहुंचे. जहाँ ससुर के आने से मैं प्रसन्न थी, वही पति के आने से घबडा गयी. ये देख कर सास ने कहा, “अरी घबडा मत, सब का इंतज़ाम है मेरे पास. तू चिंता न कर, बस मेरे इशारे पर आ जाना.”
उस दिन रात को सब भरे पड़े थे, ख़ास कर मेरे पति. अगर वो मेरी तरह चुदक्कर नहीं है तो पक्का नयी शादी की विरह झेल नहीं प् रहे होंगे. जैसा सोचा था वैसा हुआ. रात को खाने के बाद वो सीधे कमरे में आ गए. उनका लौड़ा तो लोहे कि तरह तना पड़ा था. दरवाजा लगा कर सीधे मेरे कपडे उतारने लगे. मैं तो पजामे से ही उनका तम्बू देख चुकी थी. दोनों नंगे थे, मुझे वो मुंह में लेने के लिए कह रहे थे, मुझे ऐसा करने में घिन आ रही थी. इतने में सासू माँ कि आवाज़ आई, “अरी बहु, ससुरजी को खिला दिया क्या?” और दरवाजे को खोल कर अन्दर आ गयी.
मेरे पति बोले “माँ, ये क्या?”
सासू माँ ने कहा, “अरे कोई बात नहीं, मैं भी शामिल हो जाती हूँ.” ये कह कर वो भी कपडे उतारने लगी.
मुझे न चौंकते हो देख कर मेरे पति चौंक गए, “तुम्हे पता है?”
इस बात का जवाब मेरी सास ने दिया, “हाँ इसे पता है, तू कैसा गांडू आदमी है रे, तुझसे इसकी चूत भी फाड़ी नहीं जा सकी. देख मैंने इसको कैसा टंच माल बना दिया. एक दम रसीली चूत.”
“पर माँ, ये तो मुंह में लेने से मना कर रही है.”
“तो लंडूरे, ये भी अपनी माँ से कराएगा? ला मैं सिखाती हूँ.”
“पर सासू माँ अगर आप इनका लोगी तो मैं कैसे सीखूंगी?”
“अरी तेरे ससुरजी हैं न दरवाजे पर, उनका लंड ले कर देख, फिर कभी नहीं भूलेगी.”
इतना कहना था कि ससुरजी लुंगी में अन्दर आ गए. उन्होंने लूंगी उतार दी, और सच में उनका लौड़ा तो इनसे बड़ा था. इनका ७” का उनका ८-८.५” का था. “माँ, इतना बड़ा कैसे लूंगी”
“अरी, जब लेगी तो छोड़ेगी नहीं, पर तू घबरा मत, तेरे पति का भी कुछ दिनों में इतना ही बड़ा हो जायेगा, फिर तू दोनों से चुद्वाती रहना.”
सासू माँ ने पहले अपने बेटे का सूपड़ा चाटा, मैं भी उनका अनुकरण करते हुए, अपने ससुर के लंड का सूपड़ा चाटने लगी. फिर सासू ने अन्डो को चाटने चूसने लगी, मैं तो लोलीपोप कि तरह चूसने लगी थी. फिर सास ने लौड़ा मुंह में लिया. ससुरजी का लौड़ा बड़ा था, वो पूरा मुंह में ही नहीं आ रहा था. ससुरजी तो मुन्ह्चोदी में माहिर थे, मैं पूरा नहीं ले पा रही थी तो उन्होंने मेरा सर पकड़ा और सीधे मेरे कंठ में अपना लंड पेल दिया. वो छोड़ ही नहीं रहे थे. थोड़ी देर मुन्ह्चोदी के बाद उन्होंने अपना लंड निकला और मुझे बेड पर फेंका, उधर सास पहले से चुदाने में मशगूल थी. मुझे तरीके तरीके से चोदा गया.

यह कहानी भी पड़े  नाजायज़ सेक्स संबंध

के लिए कहा गया. हम दोनों एक दुसरे को चूमने लगे, पर तभी मेरा ध्यान बाप बेटे पर गया. वो दोनों भी एक दुसरे को चूम रहे थे. मेरे ससुरजी मेरे पति का लंड हिला रहे थे और मेरे पति उनका. फिर मैं और सासू माँ ६९ में आकर एक दुसरे की चूत चाटने लगे, तो दोनों बाप बेटे भी एक दुसरे का लंड चूसने लगे. बाप रे दोनों लंड चूसने में क्या माहिर थे. दोनों तो ऐसे चूस रहे थे कि बरसों कि प्रक्टिस हो. इस पर सासू ने कहा, “अरी, ये दोनों तो पुराने ज़माने के आशिक हैं. बचपन में एक बार इसने मुझे तेरे ससुर से चुदते हुए देख लिया था. मैं तेरे ससुर का चूस रही थी, इसे भी अच्छी लगी, तो ये भी चूसने लगा. मैं बहुत दिनों तक तेरे ससुर को गांड नहीं देती थी, तो इसकी साड़ी प्रक्टिस तेरे ससुर ने तेरे पति पर निकाली है. पर मेरा बेटा भी कच्चा खिलाडी नहीं है. १८ का होते होते, अपने बाप कि भी गांड मारने लगा था. विश्वास न हो तो खुद देख लेना.”कहा गया.
अगले दिन भी chudai समारोह हुआ, पर इस बार, सास-बहु को एक दुसरे को चोदने

मेरे पति ने मेरे ससुर को घोड़ी बनाया और उनकी गांड में अपना लंड पेल दिया. मैं ससुर के नीचे आ कर उनका चूसने लगी और सासु माँ मेरा चूसने लगी थी. थोड़ी देर कि चुदाई के बाद बाप बेटे ने adla badali की और इस बार ससुरजी ने मेरे पति की गांड चोदनी स्टार्ट की. ऐसे फर्राटे से गांड मार रहे थे कि मैं जो अब इनसे चुद रही थी, उनके धक्कों का असर महसूस कर रही थी. ऐसा लग रहा था कि ये नहीं ससुरजी ही चोद रहे हैं. थोड़ी देर में सब दह गए. और इस काम पिपासा कि बांसुरी, अब भी बज रही है.

यह कहानी भी पड़े  पति के सामने बीवी की चुदाई

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!