अपने देवर के दोस्त से चुदाई की

हेलो देवर जी कैसे है आप सब को मैं अपनी एक और कहानी बताऊंगी आप को अपने बारे मे बता दू, मैं बहुत ही माल भाभी हू और फिगर है 38-32-40.

मैं खूब चुदवाति हू और अपने घर मे सबसे चुदवा ली हू अपने देवर से अपने हस्बैंड और जीतने भी कॉलोनी मे अंकल है जो मुझे लाइन मारते है और जो लड़के मुझे भाभी बोलते है उनसे भी चुदवा ली हू और रोज चुदवाति हू.

कभी अपने देवर से कभी अपने कॉलोनी मे अंकल से या लड़को से मेरे पति तो हमेशा अपने काम मे बिज़ी रहते है, कैसे भी करके मैं अपनी बूब्स और गांड दिखा कर उनका लंड खड़ा करती हू और उनसे चुदवाति हू.

लेकिन वो मुझे ज़्यादा देर तक नही चोदते है और मैं दूसरो से चुदवाति हू मैं अपने देवर से भी चुड़वाती हू मेरे देवर मुझे खूब अच्छे से चोदता है और मेरी गांड भी मरता है.

मेरे कॉलोनी मे एक लड़का मुझे भाभी बोलता था और वो मेरे घर आता था वो मेरे देवर का दोस्त था वो लोग मेरे बेडरूम मे बैठ कर बातें करते थे और मैं उनके लिए खाना बनती थी.

मेरे देवर का दोस्त मुझे बहुत देखता था और कभी कभी मेरी गांड को छूता था और कभी मेरी बूब्स को छूता था तो कभी मेरी कमर पर अपने हाथ फेरता था मुझे भी अच्छा लगता था.

लेकिन मेरा देवर भी वाहा होता था इसलिए मैं कुछ नही करती थी वैसे मेरा देवर मुझे खूब चोदता है लेकिन मैं अपने देवर के दोस्त से भी चुदवाना चाहती थी और मैं भी देवर के दोस्त को देख कर स्माइल देती थी और वो भी मुझे देख कर स्माइल देता था.

यह कहानी भी पड़े  राज और राधा की चुदाई

एक दिन मैं सुबह मे उठ कर सबके लिए खाना बनाई और सब लोग खाना खाए और अपने काम पर चले गये और मेरा देवर भी बाहर घूमने चला गया और मेरे देवर का दोस्त आया जब घर मे कोई नही था मैं अपने घर मे कपड़े ढोने लगी तभी देखी की मेरे देवर का दोस्त आया है.

मैं उसको पानी पिलाई और मेरे देवर का दोस्त मुझे देख कर स्माइल दे रहा था और मैं पूरी भीगी हुई थी क्यूकी मैं कपड़े धो रही थी मेरी बूब्स मेरे ब्लाउस मे से दिख रहे थे और मेरे देवर के दोस्त का लंड खड़ा हो गया था मेरी बूब्स को देख कर और मैं अपने देवर के दोस्त को देख कर स्माइल करने लगी.

वो समझ गया की मैं उससे चुदवाना चाहती हू और मेरे देवर का दोस्त मुझे किस करने लगा और मैं बोली की इतनी भी जल्दी क्या है आप घर का दरवाजा बंद कर दो और मेरे देवर का दोस्त घर का दरवाजा बंद कर दिया.. ये कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

और उसके बाद वो मुझे किस करने लगा और मेरी साड़ी निकाल दिया और मैं ब्लाउस और पेटिकोट मे हो गयी और उसने मेरी ब्लाउस को भी निकाल दिया और मैं ब्रा मे हो गयी वो मेरी बूब्स को मेरे ब्रा के उप्पर से ही दबाने लगा और मुझे किस करने लगा मैं भी अपने देवर के दोस्त का साथ दे रही थी और उसे किस कर रही थी.

उसके बाद उसने मेरी पेटिकोट निकाल दिया और मैं पैंटी मे हो गयी मुझे ब्रा और पैंटी मे देख कर वो एकदम से मुझे किस करने लगा और मेरी बूब्स को दबाने लगा आप सब देवर जी आपको तो पता होगा जब कोई देवर अपनी भाभी को ब्रा और पैंटी मे देख लेता है तो वो अपनी भाभी को चोदने के लिए एकदम से उसका लंड खड़ा हो जाता है वही हाल.

यह कहानी भी पड़े  18 साल की जवान लड़की की सील तोड़ी

मेरे देवर का दोस्त का भी था वो मुझे ब्रा और पैंटी मे देख कर एकदम उसका लंड खड़ा हो गया था और वो अपने कपड़े निकाल दिया उसके बाद उसने मेरी ब्रा निकाल दी और मेरी बूब्स को खूब दबा-दबा के चूसा और मुझे किस किया और मेरी पैंटी निकाल कर मेरी चूत को खूब चूसा मैं अपने देवर से रोज चुदवाति हू और कभी-कभी अपने पड़ोसी लोगो से भी चुदवाति हू..

इसलिए मैं अपनी चूत को हमेशा सॉफ रखती हू अगर मैं अपनी चूत को सॉफ नही करती तो जो लोग मुझे चोदते है वो लोग मेरी चूत को सॉफ कर देते है और मुझे चोदते है मेरी चूत का बाल तो मेरा देवर सॉफ करता है मैं नंगी हो जाती हू और बेड पर लेट जाती हू और मेरा देवर अपनी ब्लेड से मेरी चूत का बाल सॉफ करता है..

और कभी-कभी मेरा देवर मेर लिए वीट भी लता है और मेरी चूत मे लगाता है और अपने लंड पर लगाता है और हम दोनो का बाल सॉफ करता है इसलिए मुझे अपनी चूत की बाल सॉफ करने की कोई भी टेन्षन नही रहती है मेरा देवर मेरी चूत का बाल सॉफ करता है उसके बाद मेरे देवर का दोस्त मेरी चूत चाटने के बाद अपना लंड मेरी मूह मे घुसा दिया और मैं अपने देवर के दोस्त का लंड चूसने लगी.

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2

error: Content is protected !!