मम्मी, पापा, अंकल और आंटी का सामूहिक चुदाई

उधर अंकल के लंड के निकलने के बाद सुनंदा आंटी की चूत को पापा ने अपने लंड से भर दिया था. पापा ने डौगी यानी की कुतिया वाल स्टाइल में ही आंटी को चोदना चालू कर दिया था. पापा के दोनों हाथ आंटी के कंधो के ऊपर थे और वो जोर जोर से अपने लंड को आंटी की चूत के अन्दर बाहर कर रहे थे. आंटी अह्ह्ह अह्ह्ह्ह ओह ओह ह्ह्ह्ह यस्स हनी अह्ह्ह्ह ओह माय लव, बेबी फक मी हार्ड कह रही थी और पापा बिना रुके और भी जोर जोर से चूत चोदते जा रहे थे.

अंकल के लौड़े के ऊपर पुरे 20 मिनिट उछलने के बाद अब मेरी मम्मी मिशनरी पोज में लेट गई. और अंकल उसके ऊपर चढ़ गए. इस बार भी मम्मी ने ही अंकल के लंड को अपनी चूत में सेट किया था. अंकल की गांड ऊपर निचे होती दिख रही थी मुझे और मम्मी की आहें सुनाई पड़ रही थी.

उधर अब पापा ने अपने लंड को आंटी की चूत से निकाल लिया था. आंटी ने लंड को चाट के साफ़ कर लिया. और फिर आंटी ने पापा को कहा, कम ओन फक माय एस डार्लिंग.

पापा ने आंटी की गांड के ऊपर थोडा चिकना जेल लगाया वो जेल फेवी स्टिक जैसी बोतल के अन्दर था जिसको मेरे पापा ने आंटी के एस्होल के ऊपर रोल कर दिया. और फिर पापा ने अपने लंड के ऊपर भी उस जेल को लगाया. फिर अपने लंड को पापा ने गांड के छेद में घिसा. जेल काफी स्टिकी और चिकना था. और पापा के एक ही धक्के में लंड आधा आंटी की गांड में घुस गया. मैंने सोचा की आंटी की गांड टाईट होगा लेकिन ऐसा नही था. शायद सुनंदा आंटी ने पहले भी अपनी गांड बहुत मरवाई थी इसलिए उसका होल ढीला ढीला ही था. हालांकि वो होल चूत के होल से तो काफी टाईट ही था.

यह कहानी भी पड़े  कच्ची उम्र की साली को चोदा

पापा ने एक और झटके में पुरे लंड को आंटी ककी गुफा दिखा दी. और फिर वो अपने बदन को हिला के आंटी के साथ एनाल में लग गए. मम्मी की सिसकियाँ भी कम नहीं थी और वू जोर जोर से लंड चूत में ले के उछल रही थी और अपनी आगोश में अंकल को दबा के लंड को ले रही थी. पापा ने आंटी की कमर को पकड़ा हुआ था और वो अब सिर्फ लंड को गांड के अन्दर और बहार गाइड सा कर रहे थे. आंटी जोर जोर से अपनी गांड को हिला के सेक्स का पूरा मजा लुटने में लगी हुई थी.

पापा के मुहं से सिसकियाँ निकल रही थी. और शायद आंटी ने उन्हें सुन के अपनी गांड को जोर से लांद के ऊपर दबा दिया था. पापा गांड मारते हुए प्लीजर की वजह से कराह रहे थे. और फिर उनके लंड से चूत हो गई. वैसे तो सब वीर्य उन्होंने सुनंदा आंटी की चूत में ही निकाला था. लेकिन जब उन्होंने लंड को बहार निकाला तो कुछ बुँदे निकल के बहार भी आ गई. पापा और आंटी अब सोफे के ऊपर बैठ गये.

उधर मम्मी की चुदाई ऐसी ही चालु थी. मम्मी ने अंकल को अपनी आलिंगन में एकदम कस के पकड़ लिया था. और फिर अंकल ने अपना माल मम्मी के भोसड़े में ही छोड़ दिया.

फिर वो चारो बैठ गए और एक दुसरे के साथ हॉट बातें करने लागे. उनकी बातों से मैं समझ गया की सेक्स का ये तांडव हर सेटरडे को होता हैं, कभी अंकल के घर तो कभी हमारे घर!

यह कहानी भी पड़े  पिकनिक पर दोस्त से बीवी बदल कर गरमा गर्म चुदाई

Pages: 1 2

error: Content is protected !!