करवा चौथ की शाम

हेलो एवेरिवन, आइ’एम समीर फ्रॉम दिल्ली, मेरी गली से 2 गली छोड़के एक घर है जिसमे एक बहुत खूबसूरत औरत एक बच्चा और एक आदमी रहते है.

हमारा एरिया ज़्यादा भरा हुआ नही है, मतलब ज़्यादातार सुनसान ही रहता है शाम को तो कुछ ज़्यादा ही.

ये करवा चौथ की शाम की बात है, मै कही से आ रहा था तो रास्ते मे वो घर भी पड़ता है, मै अक्सर उस तरफ देखा करता था.

आख़िर वो थी ही इतनी खूबसूरत हर कोई उसे देखना चाहता था

पर उसे बहुत घुस्सा आता था जब वो मुझे देखती थी, थोड़ा बदनाम हू अपनी कॉलोनी मे इसलिए.

खैर करवा चौथ की शाम जब मै आ रहा था तो नज़रे गई उसके घर की टरफ़

पर वो दिखी नही

मई कुछ देर बाद घर से शाम को 8 बजे फिर निकला उसे देखने की चाहत मे

किस्मत ने साथ दिया वो अपने 4 साल के बच्चे के साथ बैठी हुई थी घर की दहलीज़ पर

मै उसे देखते हुए निकल गया

मैने शॉप जाके 2 चॉक्लेट्स ली और वापस आने लगा

मैने फिर उसे देखा

वो जानती थी मै उसे देखता हू बुरी नज़रो से

आज उसने मुझसे निगाहे मिलाई और घुस्से से मुझे देख रही थी जैसे धमकी दे रही हो

और देखकर घर मे चली गई .

मुझे सच मै बहुत बेज़्ज़ती महसूस हुई

मैने सोचा जब वो इतनी खूबसूरत है तो मेरी क्या ग़लती कोई भी देखना चाहेगा उसे

मै उसके दरवाज़े पर आ गया और उसे समझाने के लिए

दरवाज़ा नॉक किया

दरवाज़ा खुला

पर मुझे कुछ बोलने का मोका ही नही दिया उसने और मुझे उल्टा सीधा कहने लगी और धमकी दी की अगर मैने फिर कभी उसे देखा तो रेप का झूठा इल्ज़ाम लगा कर अंदर करवा देगी.

यह कहानी भी पड़े  देवर जी ने चुम्मा लेकर अपने मोटे लंड से चोद दिया

उसकी ये बात सच मे चुभने वाली थी और मुझे भी घुस्सा आ गया

एक टरफ़ वो सारी पहन के पूरी तरह सजी हुई थी एकदम दुल्हन लग रही थी

पर उसकी बाते सुनके मैने कुछ भी नही सोचा और उसे पीछे धक्का दे दिया

और उसके घर का दरवाज़ा बंद कर दिया अंदर से

वो मुझे गंदी गालियाँ दे रही थी इस बार मेरा गुस्सा ओर बड़ गया .

मैने घुस्से मै उसके खुले बालो को पकड़ लिया और उसे थप्पड़ मारने लगा

फिर उसे मैने उसके बेड पर धकेल दिया

वो मुझे धमकी दे रही थी

पा मुझे तो जैसे होश ही ना हो

मैने अपने कपड़े उतरने शुरू कर दिया और उसके सामने ही नंगा खड़ा हो गया

मेरा कला लंड उसके हुस्न को देखकर टन चुका था

अब मैने उसकी गर्दन पकड़ी और उसके सीने से पल्लू उतारा

वो रो रही थी पर अकड़ अब भी नही गई थी वो अब भी मुझे धमका रही थी

मैने भी मन बना लिया था की आज इसकी अकड़ मै तोड़के रहूँगा

मैने उसकी साड़ी उसके जिस्म से अलग फेक दी

उसके लिपस्टिक से रंगे लाल होंठो को अपने होंठो मे डबोच लिया और ज़बरदस्ती चूमने लगा

ऊओंम्महााआआ

उउउम्म्म्मम

मुझे अच्छा लग रहा था उफ़फ्फ़ जिसे रोज़ देखा करता था आज उसके होंठो को चूम रहा हू

पर वो है की किस मे साथ नही दे रही थी

मै फिर भी चूम रहा था

मै उसके होंठो को चूमते हुए उसकी गर्दन को चूमने लगा पता नही चला कब मेरा हाथ उसकी चुचिया मसलने लगा

यह कहानी भी पड़े  चण्डीगढ़ की सेक्सी लड़की की चुदाई

मै उसके उप्पर बैठा हुआ था और उसकी चुचिया मसल रहा था ब्लाउस के उप्पर से ही और उसके होंठ चूम रहा था

मैने उसकी ज़ुल्फो को पकड़ के उसे उल्टा किया और उसकी गर्दन को चूमते हुए उसकी पीठ को चूमते हुए नीचे आ रहा था

और उसके ब्लाउस की डोरी पर आ कर रुक गया

और फिर उसके ब्लाउस को अपने मूह से खोल दिया

मेरा एक हाथ उसकी मोटी गोल गांड को सहला रहा था

और उसकी नंगी पीठ को चूम रहा, थोड़ी पकड़ ढीली हो गई ग़लती से

तो वो अचानक मूडी और मेरे मूह पर एक ज़ोरदार तमाचा जड़ दिया

मैने भी उसके.हाथो को पकड़ लिया और उसकी चुचियो को चूसने लगा

चूसने से ज़्यादा तो मै उसकी चुचियो को काट रहा था

मेरे दातो के निशान उसकी चुचियो पर सॉफ नज़र आ रहे थे

हवस और बदले की आग एक साथ जल रही थी मुझमे

मैने उसके पेटिकोट का नडा खीचके उसके पेटिकोट को भी अलग किया उसके जिस्म से

साली ने ना ब्रा पहनी थी ना पैंटी

जैसे आज रात पति से जमके चुदने का प्लान हो.

लेकिन आज किस्मत को कुछ और ही मंज़ूर था

वो मेरे सामने नंगी हो रही थी

मेरा लोडा तन चुका था उसे चोदने के लिए

पर मैने सोचा अगर आज ये मुझसे राज़ी हो जाए चुदने को तो मेरी लाइफ बन जाएगी

रोज़ इस अप्सरा को चोदुँगा

मैने भी उसे गर्म करने के लिए उसकी जांगो को चूमना शुरू किया

उसकी नर्म जांघे रेशम से मुलायम उफफफ्फ़

मै एक भूखे जानवर की तरह कभी उन्हे चूमता तो कभी मूह मे भरके हल्का सा काट लेता

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!